ताज़ा खबर
 

एचडीएफसी बैंक के नए सीईओ होंगे शशिधर जगदीशन, जानें- आदित्य पुरी की जगह लेने वाले बैंकर का पूरा परिचय

HDFC Bank new CEO: 1996 में बैंक से जुड़ने वाले जगदीशन करीब 25 साल बाद एचडीएफसी के मुखिया के तौर पर कामकाज संभालेंगे। उन्होंने 1996 में फाइनेंस फंक्शन में मैनेजर के तौर पर अपना काम शुरू किया था।

HDFC BANKशशिधर जगदीशन होंगे एचडीएफसी बैंक के नए सीईओ

देश के दिग्गज निजी बैंक एचडीएफसी को नया सीईओ मिल गया है। अक्टूबर में आदित्य पुरी के रिटायरमेंट के बाद शशिधर जगदीशन सीईओ के तौर पर कामकाज संभालेंगे। आरबीआई की ओर से भी जगदीशन के नाम को मंजूरी मिल चुकी है। इस फैसले के बाद से ही निवेशकों में उत्साह का माहौल है और एचडीएफसी बैंक के शेयरों में 5 फीसदी का उछाल देखने को मिला है। बता दें कि पिछले दिनों ही आदित्य पुरी ने कहा था कि नया सीईओ बैंक के भीतर का ही होगा, जिसने कम से कम दो दशक दिए हों। उनके इस बयान के बाद से ही जगदीशन को लेकर भी कयास लगाए जाने लगे थे। आइए जानते हैं, एचडीएफसी के नए सीईओ बनने वाले शशिधर जगदीशन का परिचय…

शशिधर जगदीशन फिलहाल एचडीएफसी के ग्रुप हेड और चेन एजेंट के तौर पर कामकाज देख रहे हैं। वह एचडीएफसी बैंक के फाइनेंस, ह्यूमन रिसोर्स, लीगल, एडमिनिस्ट्रेशन, इन्फ्रास्ट्रक्चर, कॉरपोरेट कॉम्युनिकेशन और सीएसआर के कामकाज को देखते हैं। 1996 में बैंक से जुड़ने वाले जगदीशन करीब 25 साल बाद एचडीएफसी के मुखिया के तौर पर कामकाज संभालेंगे। उन्होंने 1996 में फाइनेंस फंक्शन में मैनेजर के तौर पर अपना काम शुरू किया था। इसके बाद 1999 में वह फाइनेंस के बिजनेस हेड बने और फिर 2008 में उन्हें चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर के तौर पर जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

29 साल काम करने का है अनुभव: बैंक के मुताबिक बीते सालों में बैंक की ग्रोथ में शशिधर जगदीशन की अहम भूमिका रही है। उन्होंने फाइनेंस के कामकाज को देखते हुए कुछ सालों में लगातार टारगेट को हासिल करने में मदद की है। जगदीशन के पास बैंकिंग सेक्टर में करीब 29 साल काम करने का अनुभव है। साइंस में फिजिक्स के साथ ग्रैजुएशन पूरी करने वाले जगदीशन पेशे से सीए हैं। इसके अलावा उन्होंने अर्थशास्त्र में मास्टर्स डिग्री भी हासिल की है।

ये लोग भी थे सीईओ बनने की रेस में: गौरतलब है कि मौजूदा सीईओ आदित्य पुरी 26 अक्टूबर को अपने पद से रिटायर होने वाले हैं। उनके उत्तराधिकारी की तलाश के लिए बैंक की ओर से एक पैनल गठित किया गया था। शशिधर जगदीशन के अलावा बैंक के कैजाद भरूचा और सिटिबैंक के सुनील गर्ग को भी इस रेस में माना जा रहा था। हालांकि अंत में बैंक के साथ लंबे समय से काम अनुभव रखने वाले शशिधर को ही प्राथमिकता दी गई।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना काल में भी निवेश का सुरक्षित ठिकाना है पीपीएफ, जानें- कैसे और कितना मिल सकता है फायदा
2 अंबानी परिवार को यह शख्स लाया था टेलिकॉम बिजनेस में, धीरूभाई भी करते थे भरोसा, अब मुकेश अंबानी के करीबी
3 जन धन योजना के खाताधारकों की संख्या पहुंची 40 करोड़ के पार, जानें- स्कीम के तहत मिलते हैं क्या फायदे
ये पढ़ा क्या?
X