ताज़ा खबर
 

बैंक में आपके लिए मौजूद रहेगी ‘इरा’, पैसे जमा करने से लेकर फंड ट्रांसफर में करेगी मदद

एचडीएफसी बैंक की शाखा में तैनात इरा वेल्कम डेस्क के पास खड़ी होगी। इस रोबोर्ट के सीने पर एक स्क्रीन लगी है। इस पर आपको 6 विकल्प दिखाई देंगे।

देश का दूसरा सबसे बड़ा प्राइवेट बैंक एचडीएससी ने इस योजना की शुरुआत की। (Representative Image)

बैंक में अब आपके स्वागत के लिए रोबोट होंगे। बैंकिंग से जुड़ी किसी भी तरह की समस्या आने पर यह आपकी मदद भी करेगी। देश का दूसरा सबसे बड़ा प्राइवेट बैंक एचडीएससी ने इस योजना की शुरुआत की। एचडीएफसी ने अपनी मुंबई ब्रांच में पहला रोबोर्ट तैनात किया है। इसका नाम ‘इरा’ रखा गया है। इस मौके पर बैंक के डिजीटल बैंकिंग हेड नितिन चुग ने कहा कि हमारी योजना दो साल में कस्टमर्स के लिए 20 रोबोर्ट तैनात करने की है, जो आपकी मदद कर सकेंगे।

ऐसे काम करेगी ‘इरा’
एचडीएफसी बैंक की शाखा में तैनात इरा वेल्कम डेस्क के पास खड़ी होगी। इस रोबोर्ट के सीने पर एक स्क्रीन लगी है। इस पर आपको 6 विकल्प दिखाई देंगे। इसमें पैसे डिपॉजिट करना, पैसे निकालना, विदेशी मुद्रा विनिमय (करेंसी एक्सचेंज), सावधि जमा (फिक्स डिपॉजिट), फंड ट्रांस्फर, लोन, चेक जमा करने के विकल्प होंगे। स्क्रीन पर आपको एक विकल्प चुनना होगा। जो विकल्प आप चुनेंगे यह रोबोर्ट आपको उस सुविधा को उपलब्ध कराने वाले काउंटर तक ले जाएगा और आपसे अनुमति लेकर वापस अपनी जगह पर आकर खड़ा हो जाएगा।

इरा को बनाया जाएगा और ‘स्मार्ट’
बैंक अधिकारियोें के मुताबिक इरा को शुरुआती दौर में बुनियादी काम में लगाया गया है, लेकिन आने वाले दिनों में इसकी जिम्मेदारी बढ़ाई जाएगी और इससे और तरह के काम लिए जाएंगे। इस बात की संभावना है कि जल्द ही इरा आवाज और चेहरे से ग्राहकों को पहचान कर अकाउंट बैलेंस बताएगा और चेक भी जमा कराएगा। इरा को भारत में ही बनाया गया है। कोच्चि की स्टार्टअप कंपनी असिमोव रोबोटिक्स ने इरा को विकसित किया है। एचडीएफसी बैंक के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक पूरी दुनिया में जापान व कुछ अन्य देशों में बैंकिंग क्षत्र में भी रोबोर्ट का प्रायोगिक तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है।

वीडियो: डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए पीएम मोदी ने लॉन्च की ‘भीम एप’; कहा- “आपका अंगूठा, आपका बैंक”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App