ताज़ा खबर
 

मैगी के बाद अब हल्दीराम के उत्पादों की जांच का आदेश

नेस्ले कंपनी की दो मिनट में तैयार होने वाली मैगी के महाराष्ट्र के बाजार से बाहर हो चुकी है। अब सूबे में खाद्य पदार्थ बनाने मशहूर कंपनी हल्दीराम के उत्पाद जांच के दायरे में आ गए हैं।

नेस्ले कंपनी की दो मिनट में तैयार होने वाली मैगी के महाराष्ट्र के बाजार से बाहर हो चुकी है। अब सूबे में खाद्य पदार्थ बनाने मशहूर कंपनी हल्दीराम के उत्पाद जांच के दायरे में आ गए हैं। सूबे की सरकार के खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने हल्दीराम के उत्पादों के नमूने लेकर उनकी जांच के आदेश जारी किए हैं। हल्दीराम भारत में पैक किए हुए खाद्य पदार्थों का उत्पादन करने वाली बड़ी कंपनियों में से एक है। यह लगभग सौ तरह के उत्पाद बनाती है जो देश-विदेश में बेचे जाते हैं।

राज्य के खाद्य एवं औषधि राज्य मंत्री विद्या ठाकुर ने विभाग के आयुक्त हर्षदीप कांबले को लिखित आदेश जारी कर रहा है कि हल्दीराम के खाद्य पदार्थो के नमूने लेकर उनकी जांच की जाए और जांच के नतीजे शीघ्र सरकार के सामने प्रस्तुत किए जाएं। हालांकि यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि राज्य मंत्री ठाकुर ने हल्दीराम के उत्पादों की शिकायत मिलने के बाद यह कदम उठाया है या महज सावधानी बरतने के लिहाज से।

हल्दीराम 5500 करोड़ रुपए के पैक खाद्य पदार्थों के बाजार में 40 फीसद हिस्से पर काबिज है और उसका सालाना कारोबार लगभग 3500 करोड़ रुपए का है। लोकप्रियता और कमाई के मामले में हल्दीराम मेक्डोनॉल्ड और डोमिनोज जैसे खाद्य पदार्थों की टक्कर का उत्पाद है। भारत ही नहीं, बल्कि ब्रिटेन, कनाडा, आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, जापान, श्रीलंका जैसे कई देशों में हल्दीराम के उत्पादों की बिक्री होती है।

2005 में हल्दीराम के उत्पादों में कीटनाशक पाए जाने के बाद अमेरिका ने इसकी बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया था। माना जा रहा है कि राज्य मंत्री विद्या ठाकुर के जांच के आदेश के पीछे अमेरिका में हल्दीराम के उत्पादों पर लगा प्रतिबंध है। राज्य मंत्री का मानना है कि चूंकि हल्दीराम के उत्पाद महाराष्ट्र में बनते हैं और देश और दुनिया भर में लोग इन्हें खाते हैं इसलिए यह जरूरी है कि इन उत्पादों की गुणवत्ता की जांच की जाए कि ये स्वास्थ्य के लिए ठीक हैं या नहीं।

राजस्थान के बीकानेर शहर में 1937 में एक छोटी सी दूकान के रूप में गंगाबिशन अग्रवाल ने हल्दीराम के उत्पादों की शुरुआत की थी। समय के साथ इसका विस्तार होता चला गया। 70 के दशक में नागपुर में हल्दीराम के उत्पादों का निर्माण शुरू हुआ। भुजिया सेव से लेकर आइस्क्रीम और कुल्फी तक बनाने वाली इस मशहूर कंपनी के उत्पादों की विश्वसनीय वक्त वक्त पर सामने आई है। ब्रांड ट्रस्ट रिपोर्ट ने हल्दीराम को विश्वसनीय ब्रांडों में 55 वें स्थान पर रखा। भारत सरकार ने रेल विभाग ने हल्दीराम ब्रांड पर विश्वास करते हुए पश्चिम एक्सप्रेस में इसे बेचने की स्वीकृति दी थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 शेयर बाजार में आई गिरावट, Sensex 114 अंक गिरा नीचे
2 Microsoft में 7,800 नौकरियों पर चलेगी कैंची
3 आ गई नई Honda Jazz, कीमत 5.30 लाख रुपए से शुरू
ये पढ़ा क्या?
X