ताज़ा खबर
 

यूनान रिण संकट और मॉनसून से तय होगी बाजार की चाल

शेयर बाजार विशेषज्ञों के अनुसार निकट भविष्य में बाजार के सीमित दायरे में रहने की उम्मीद है। आने वाले दिनों में यूनान के रिण संकट और मॉनसून वर्षा बाजार की चाल तय करेगी...

Author June 28, 2015 12:06 PM
बंबई सेंसेक्स में विगत दो सप्ताह में 1,386.54 अंक अथवा 5.25 प्रतिशत की तेजी आई है।

शेयर बाजार विशेषज्ञों के अनुसार निकट भविष्य में बाजार के सीमित दायरे में रहने की उम्मीद है। आने वाले दिनों में यूनान के रिण संकट और मॉनसून वर्षा बाजार की चाल तय करेगी।

इसके अलावा ऑटो कंपनियों के शेयरों पर भी निवेशकों की निगाह रहेगी क्योंकि ऑटो कंपनियां जून के अपने बिक्री आंकड़ें जारी करने वाली हैं। ये आंकड़े बुधवार को आने शुरू होंगे।

इन सबके अलावा विदेशी निवेशकों का रुख, डॉलर के मुकाबले रुपए का उतार चढ़ाव और कच्चे तेल की कीमतें भी बाजार के लिए महत्वपूर्ण साबित होंगे।

रिलायंस सिक्योरिटीज लिमिटेड के शोध प्रमुख हितेश अग्रवाल ने कहा, “मॉनसून के अलावा सभी की नजर इस बात पर होगी कि यूनान को दिये जाने वाले राहत पैकेज का क्या अंजाम होता है क्योंकि इसका वैश्विक निवेश धारणा पर अल्पकालिक प्रभाव होगा।”

उन्होंने कहा, “इसके अलावा ऑटो कंपनियों के मासिक बिक्री आंकड़े घोषित किये जायेंगे जिससे आटो कंपनियों के शेयरों पर निवेशकों की नजर रहेगी। हालांकि, कंपनियों के कार्यपरिणामों को घोषित करने का समय आसपास है, लेकिन कारोबारी भारतीय कंपनियों के वित्तवर्ष 2015 के चौथी तिमाही के निराशाजनक कार्यपरिणामों पर गौर करते हुए ‘देखो और इंतजार करो’ की नीति को अपनाने की ओर ध्यान दे सकते हैं।”

दक्षिण पश्चिमी मॉनसून समय से पहले ही पूरे देश पहुंच गया है जबकि इससे पहले मौसम विभाग ने कम बरसात की भविष्यवाणी की थी।

भारतीय मौसम विभाग ने अपने बुलेटिन में कहा है कि दक्षिण पश्चिमी मॉनसून पश्चिमी राजस्थान के शेष भागों में अग्रसारित हुआ है। इस प्रकार इसने 26 जून, 2015 तक पूरे देश को अपने दायरे में ले लिया है। जबकि पूरे देश में मॉनसून सामान्यतया 15 जुलाई तक पहुंचता रहा है।

अग्रवाल ने कहा कि मॉनसून की बेहतर शुरुआत और अभी तक की बेहतर प्रगति ने निवेशकों की इस आशंका को दूर करने में मदद मिली है कि नीतिगत दरों में कटौती की अब कोई संभावना नहीं है। न केवल मॉनसून का प्रसार पूरे देश में हो चुका है बल्कि यह निर्धारित समय से दो सप्ताह पहले भी है।

बाजार विश्लेषकों ने कहा कि पहली तिमाही के कार्यपरिणामों की घोषणा से पहले शेयर विशेष आधारित उतार चढ़ाव देखने को मिल सकता है। पहली तिमाही के कार्यपरिणामों की घोषणा की शुरुआत जुलाई के तीसरे सप्ताह से हो सकती है।

विगत सप्ताहांत के मुकाबले बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स सप्ताहांत में 495.67 अंक अथवा 1.81 प्रतिशत की तेजी दर्शाता बंद हुआ। बंबई सेंसेक्स में विगत दो सप्ताह में 1,386.54 अंक अथवा 5.25 प्रतिशत की तेजी आई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App