ताज़ा खबर
 

सरकार ने बफर स्टॉक के लिए 20 हजार टन प्याज खरीदा

प्याज के अलावा पासवान ने कहा कि सरकार ने 40,000 टन रबी दलहन की खरीद की है जिसमें विशेषकर चना और मसूर के दाल शामिल हैं।

नई दिल्ली | May 30, 2016 3:05 AM
(FILE PHOTO)

सरकार बफर स्टॉक बनाने के लिए अपने लक्ष्य को लांघते हुए किसानों से 20,000 टन प्याज खरीदा है जिसका इस्तेमाल मूल्य बढ़ने की स्थिति में बाजार हस्तक्षेप करने के लिए किया जा सके। पिछले साल सरकार ने 8,000 टन प्याज खरीदा था लेकिन ऐसा तब किया गया जब इसके खुदरा मूल्य 80 से 90 रुपए किलो की ऊंचाई पर जा पहुंचे थे। लेकिन सरकार ने इस साल समय पर खरीद करने का फैसला किया और फसल वर्ष जुलाई से जून, 2015-16 में 15,000 टन प्याज खरीद करने का लक्ष्य तय किया। खाद्य व उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि अभी तक प्याज की खरीद 20,000 टन हो चुकी है जो लक्ष्य के मुकाबले कहीं अधिक है। उन्होंने कहा कि खरीद करने वाली प्रमुख एजंसी नाफेड और एसएफएसी ने 10 रुपए किलो से कम दाम पर प्याज की खरीद की है जिसे इस फसल के मौसम न होने (अगस्त से सितंबर) के दौरान बाजार में उतारा जाएगा।

प्याज के अलावा पासवान ने कहा कि सरकार ने 40,000 टन रबी दलहन की खरीद की है जिसमें विशेषकर चना और मसूर के दाल शामिल हैं। सरकार ने बफर स्टॉक बनाने के लिए रबी फसल से 1,00,000 टन दलहन खरीद करने का लक्ष्य तय किया है जिसमें 80,000 टन चना और 20,000 टन मसूर दाल शामिल होंगे। रबी दलहन की खरीद का काम अभी जारी है। प्याज और दलहनों की खरीद मूल्य स्थिरीकरण कोष (पीएसएफ) से किया जा रहा है जिस कोष में बाजार हस्तक्षेप के लिए चालू वित्त वर्ष में 900 करोड़ रुपए का धन मौजूद है।

सरकारी आंकड़ों के अनुसार प्याज का उत्पादन वर्ष 2015-16 में बढ़कर दो करोड़ 3.3 लाख टन हो जाने का अनुमान है जो पिछले साल एक करोड़ 89.2 लाख टन ही था। वहीं दलहन का उत्पादन कम यानी एक करोड़ 70.6 लाख टन होने का अनुमान है जो दो करोड़ 36.2 लाख टन की घरेलू मांग के मुकाबले कहीं काफी कम है। इस अंतर को आयात से पूरा किया जाता है। सरकार के आंकड़ों के अनुसार मौजूदा समय में प्याज की खुदरा कीमत 15..25 रुपए किलो है और दलहनों की कीमत अभी भी देश के अधिकांश भागों में 85 से 185 रुपए किलो के दायरे में है।

Next Stories
1 हो जाइए अलर्ट! कॉल ड्रॉप पर ‘पर्दा डालने’ को नई टेक्‍नोलॉजी इस्‍तेमाल कर रहीं मोबाइल कंपनियां
2 अगले चार सालों में पूरी तरह बदल जाएगी भारतीय रेल: सिन्हा
3 1 जून से महंगा हो जाएगा मोबाइल, बाहर खाना, फिल्‍म देखना, रेल-हवाई यात्रा करना
ये पढ़ा क्या?
X