ताज़ा खबर
 

ऐसे ऐप्स पर ‘प्ले स्टोर टैक्स’ लगाने जा रहा है गूगल, जानें- क्या है कंपनी का प्लान और क्यों लिया यह फैसला

गूगल ने कहा लगभग 3 फ़ीसदी ऐप डेवलपर पिछले 12 महीने से डिजिटल गुड्स बेच रहे हैं, लेकिन पेमेंट सिस्टम पॉलिसी का पालन नहीं कर रहे। जबकि 97 फ़ीसदी गेम डेवलपर अपनी पेमेंट पॉलिसी का पालन कर रहे हैं।

Edited By यतेंद्र पूनिया नई दिल्ली | Updated: September 29, 2020 3:22 PM
Google प्ले स्टोर पर मिलता है एप्स का भंडार।

सर्च इंजन गूगल ने कहा है कि वह ऐसे ऐप्स पर प्लेस्टोर टैक्स लगाएगा, जो पेमेंट सिस्टम के नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। प्ले स्टोर पर मौजूद ऐप्स में ऐसे करीब 3 फीसदी ऐप हैं। कंपनी ने चेतावनी देते हुए कहा है जो ऐप्स अनुपालन किए बिना डिजिटल आइटम सेल कर रहे हैं, वो एक साल के अंदर नियमों का पालन करें। गूगल ने उस बात का खंडन किया जिसमें उस पर सिलेक्टिवली 30 फ़ीसदी मोबाइल ऐप्स टैक्स लगाने का आरोप लगाया गया है। दरअसल पिछले महीने Fornite वीडियो गेम की कंपनी इपिक गेम्स ने गूगल और ऐपल पर एंटी-कंपटेटिव कंडक्ट का आरोप लगाते हुए मुकदमा किया था।

गूगल ने कहा लगभग 3 फ़ीसदी ऐप डेवलपर पिछले 12 महीने से डिजिटल गुड्स बेच रहे हैं, लेकिन पेमेंट सिस्टम पॉलिसी का पालन नहीं कर रहे। जबकि 97 फ़ीसदी गेम डेवलपर अपनी पेमेंट पॉलिसी का पालन कर रहे हैं। डेटिंग ऐप Match Group Inc. ने पब्लिकली भी कहां है वह गूगल की तीस फीसदी फीस नहीं देते‌। अगर सब्सक्रिप्शन सर्विस की बात करें तो यह पिछले कुछ सालों में घटकर 15 फीसदी हो गई है। साउथ कोरिया समेत कई देशों में एंटी ट्रस्ट रेगुलेटर इस मुद्दे पर नजर बनाए हुए हैं। गूगल की सख्ती को भांपते हुए कई मीडिया ऐप्स ने पहले ही सरकारी अधिकारियों से इसकी शिकायत कर दी है।

क्रेडिट कार्ड पेमेंट प्रोसेशर्स के मुश्किल से 2 फीसदी फीस को देखते हुए ऐप्स ने 30 फ़ीसदी को बहुत ज्यादा बताया है। जबकि एप्पल और गूगल ने कहा इसमें स्टोर द्वारा प्रदान की गई सिक्योरिटी और मार्केट बेनिफिट भी शामिल हैं। नई ऐप्स को सेल्स के लिए 20 जनवरी 2021 से पहले गूगल के पेमेंट टूल का पालन करना होगा वहीं एग्जिस्टिंग ऐप्स को 30 सितंबर 2021 तक का समय दिया गया है।

गूगल ने आगे कहा कोरोनावायरस के कारण जिन ऐप्स ने डिजिटल आइटम से फिजिकल गुड्स और सर्विस सेल शुरू कर दी है उन्हें इसके अनुपालन के लिए अतिरिक्त समय दिया जा सकता है। पिछले सप्ताह एप्पल ने भी ऐप्स को नियमों के अनुपालन के लिए 31 दिसंबर 2020 तक की तारीख दी थी।

Next Stories
1 ‘कोविड-19 के संकट ने हमें बताई टेक-होम राशन प्रोग्राम की अहमियत’
2 मुकेश अंबानी के रिलायंस से टक्कर के लिए टाटा से हाथ मिलाने की तैयारी में वॉलमार्ट, करेगा 1.80 लाख करोड़ रुपये का निवेश
3 पीएम किसान योजना में फ्रॉड रोकने के लिए केंद्र ने राज्य सरकारों को दिया यह आदेश, जानें- कैसे पकड़े जाएंगे धोखेबाज
ये पढ़ा क्या?
X