scorecardresearch

मुकेश अंबानी की Reliance JIO के बाद सुनील मित्तल की Airtel में एक अरब डॉलर लगा रही Google, जानिए आपको क्या हो सकता है फायदा

माना जा रहा है कि इस डील से एयरटेल (Airtel) को किफायती स्मार्टफोन्स पर काम करने, 5G यूज के मामले और क्लाउड इंफ्रा (Cloud Infra) विकसित करने में मदद मिलेगी।

google, airtel, jio
दिल्ली से सटे गुरुग्राम (हरियाणा) में भारती एयरटेल (Bharti Airtel) का दफ्तर। (फाइल फोटोः रॉयटर्स)

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) के चेयरमैन मुकेश अंबानी की जियो (JIO) के बाद अमेरिकी टेक कंपनी गूगल (Google) ने सुनील मित्तल की भारती एयटेल (Bharti Aitel) में एक अरब डॉलर का निवेश करने का फैसला लिया है। इंटरनेट सेक्टर की जानी-मानी कंपनी इसके अलावा एयरटेल की 1.28 फीसदी हिस्सेदारी भी खरीदेगी।

एयरटेल के मुताबिक, ‘‘इस डील में 70 करोड़ डॉलर का इक्विटी निवेश भारती एयरटेल में 734 रुपए प्रति शेयर की कीमत पर किया जाएगा।’’ कुल इन्वेस्टमेंट में से 30 करोड़ डॉलर की रकम वाणिज्यिक समझौतों को अमल में लाने के लिए होगी।

गूगल यह निवेश गूगल फॉर इंडिया डिजिटाइजेशन फंड (Google for India Digitization Fund) के तहत कर रही है। इस करार में इक्विटी इन्वेस्टमेंट के साथ संभावित कमर्शियल एग्रीमेंट (वाणिज्यिक समझौतों) के लिए एक कोष भी है। इसके तहत समझौतों को अगले पांच साल के दौरान पारस्परिक रूप से सहमत शर्तों पर मंजूरी दी जाएगी।

इस बीच, एयरटेल चेयरमैन सुनील भारती मित्तल की ओर से कहा गया- एयरटेल और गूगल नएपन से जुड़े प्रोडक्ट्स के जरिए देश के डिजिटल डिविडेंड (लाभांश) को बढ़ाने का दृष्टिकोण साझा करती हैं। आने वाले कल के लिहाज से तैयार हमारे नेटवर्क, डिजिटल मंच आखिरी छोर तक के डिस्ट्रिब्यूशन और पेमेंट सिस्टम के साथ हम देश के डिजिटल ईकोस्सिटम के फैलाव के लिए गूगल के साथ मिलकर काम करने के लिए उत्साहित हैं।

वहीं, गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने कहा, “एयरटेल में हमारा कमर्शियल और इक्विटी इन्वेस्टमेंट हमारे गूगल फॉर इंडिया डिजिटाइजेशन फंड के स्मार्टफोन तक पहुंच, नए कारेबारी मॉडल को समर्थन देने के लिए कनेक्टिविटी बढ़ाने और डिजिटल ट्रांसफॉर्मेशन (बदलाव) के सफर में कंपनियों के मदद देने के अनुरूप है।”

कहा जा रहा है कि गूगल की ओर से की जाने वाली यह “रणनीतिक फंडिंग” एयरटेल का आत्मविश्वास बढ़ाने का काम करेगी। अपने पहले करार के एक हिस्से के रूप में दोनों कंपनियां एयरटेल की व्यापक पेशकशों को बनाने के लिए एक साथ काम करेंगीं। यह कस्टमर्स को दी जाने वाली (नए अफोर्डेबल प्रोग्राम्स के जरिए) एंड्रायड इनेबल डिवाइस की एक रेंज को कवर करता है।

बयान में यह भी बताया गया, “दोनों कंपनियां कई डिवाइस बनाने वालों के साथ करार में एक स्मार्टफोन के मालिक होने की दिक्कतों को कम करने के लिए और मौकों का पता लगाना भी जारी रखेंगी।” साथ ही भारत में क्लाउड ईकोसिस्टम (Cloud Ecosystem) का विकास भी इसमें शामिल है। यह गूगल के लिए रणनीतिक रुचि वाले क्षेत्रों में से एक है।

यह डील गूगल को 10 लाख से अधिक छोटे और मध्यम काम-धंधों तक पहुंचने में सक्षम बनाएगी, जिन्हें मौजूदा समय में एयरटेल सेवा मुहैया करा रहा है। इससे पहले, कम कीमत वाली एंड्रॉयड (Android) डिवाइस बनाने करने में मदद के लिए गूगल अंबानी की जियो के साथ पार्टनरशिप कर चुका है।

पढें व्यापार (Business News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट