ताज़ा खबर
 

अप्रैल में 5000 चीजों पर तय होगा टैक्स, जानिए क्‍या होगा आधार और कितना लगेगा कर

लग्जरी कार, तंबाखू, पान मसाला पर 28 प्रतिशत जीएसटी के अलावा भी सेस (उपकर) लगाया जाएगा। ये सेस अगले पांच साल तक के लिए होगा।

नई दिल्ली में जीएसटी पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली। (PTI Photo by Subhav Shukla)

लोक सभा में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) से जुड़े विधेयकों के पारित हो जाने के बाद केंद्र सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती अलग-अलग वस्तुओं और सेवाओं के लिए टैक्स की दर तय करना है। जीएसटी काउंसिल की बैठक अप्रैल में होगी जिसमें विभिन्न वस्तुओं और सेवाओं पर टैक्स की दर तय होगी। जीएसटी के तहत करीब 4000-5000 वस्तुएं और सेवाएं आती हैं। केंद्र सरकार के अनुसार सर्विस टैक्स 18 प्रतिशत से अधिक नहीं होगा। वित्त मंत्री जेटली ने कहा है कि जीएसटी से सबसे ज्यादा लाभ गरीबों को मिलेगा।

जीएसटी काउंसिल पहले ही चार स्तर वाले टैक्स स्लैब बनाने को मंजूरी दे चुका है। इसके तहत 5 प्रतिशत, 12 प्रतिशत, 18 प्रतिशत और 28 प्रतिशत टैक्स लगाए जाएंगे। जीएसटी के तहत आने वाले करीब आधी वस्तुओं पर शून्य टैक्स का प्रस्ताव है। ये सभी वस्तुएं उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) के तहत आती हैं जिनके दाम के आधार पर महंगाई मापी जाती है। इनमें ज्यादातर खाने-पीने की चीजें आती हैं। खाद्यान्न पर भी शून्य टैक्स होगा। जीएसटी काउंसिल फैसला लेगी कि किस वस्तु या सेवा पर किस स्लैब के तहत जीएसटी टैक्स लिया जाएगा।

माना जा रहा है कि आम लोगों द्वारा बड़े पैमाने पर उपयोग की जाने वाली ज्यादातर वस्तुओं पर पांच प्रतिशत टैक्स लगाया जाएगा। इसके अलावा ज्यादातर वस्तुओं और सेवाओं को 12 प्रतिशत या 18 प्रतिशत टैक्स स्लैब में रखा जाएगा। जिन वस्तुओं और सेवाओं पर अभी तक एक्साइज टैक्स और वैल्यू एडेट टैक्स मिलाकर कुल 30-31 प्रतिशत टैक्स लगता रहा है उन्हें जीएसटी के 28 प्रतिशत टैक्स स्लैब के तहत रखा जाएगा। हालांकि अभी इस श्रेणी में आने वाले साबुन, टूथपेस्ट, तेल, शेविंग क्रीम और रेफ्रीजरेटर जैसी चीजों को जीएसटी के तहत 18 प्रतिशत टैक्स स्लैब में रखे जाने की उम्मीद है।

लग्जरी कार, तंबाखू, पान मसाला पर 28 प्रतिशत जीएसटी के अलावा भी सेस (उपकर) लगाया जाएगा। ये सेस अगले पांच साल तक के लिए होगा और इससे होने वाली आमदनी राज्यों को जीएसटी लागू होने से हुए राजस्व नुकसान की भरपाई के लिए इस्तेमाल की जाएगी। जीएसटी काउंसिल ने लग्जरी कार पर अधिकतम 15 प्रतिशत सेस और पान मसाला पर 135 प्रतिशत सेस की अनुशंसा की है। तंबाखू पर हर 1000 पाउच पर 4170 रुपये या 290 प्रतिशत या दोनों सेस लगेगा। कोयले पर 400 रुपये प्रति टन की दर से सेस लगेगा।

जीएसटी से भारत में लगने वाले सभी अप्रत्यक्ष कर खत्म हो जाएंगे। अभी शराब, पेट्रोल, रियल एस्टेट को जीएसटी से बाहर रखा गया। इसके अलावा रोड टैक्स भी अभी खत्म नहीं किए जाएंगे लेकिन सरकार भविष्य में इन चीजों को भी चरणबद्ध तरीके से जीएसटी के तहत लाएगी। माना जा रहा है कि दुनिया की सबसे तेजी से विकसित हो रही अर्थव्यवस्था में एक टैक्स लागू होने से विकास की गति में तेजी आएगी जिसका लाभ भारत के 100 करोड़ उपभोग्ताओं को मिलेगा।

वीडियो: वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा- “GST और नोटबंदी देश की अर्थव्यवस्था को करेंगे मज़बूत”

दिल्ली: उप-राज्यपाल अनिल बैजल का आदेश- "आम आदमी पार्टी से विज्ञापनों के लिए 97 करोड़ रुपये वसूले जाएं"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 बढ़त के साथ खुला सेंसेक्स, डॉलर के मजबूत होने से रुपये पर पड़ा दबाव
2 यूपी में बीजेपी की जीत से उत्साहित विदेशी निवेशकों ने डाल दिए 54 हजार करोड़, 2014 में मोदी की जीत के बाद का सबसे बड़ा निवेश
3 पुराने नोट बदलने की अंतिम तारीख कल
ये पढ़ा क्या?
X