ताज़ा खबर
 

जनवरी में रामदेव ने पाम ऑयल पर बताया था अपना प्लान, अब आयात में आई बड़ी गिरावट

बीते दिनों रामदेव ने एक कार्यक्रम में कहा था कि हम इंडोनेशिया और मलेशिया पर अपनी निर्भरता खत्म करना चाहते हैं। बता दें कि रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद ने 4,350 करोड़ रुपये मे रूचि सोया का भी अधिग्रहण किया था। रूचि सोया न्यूट्रीला ब्रांड से उत्पाद बेचती है।

पाम ऑयल का आयात फरवरी में 27 प्रतिशत घटकर 3,94,495 टन रह गया (photo-indian express)

भारत में पाम ऑयल के आयात में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। ताजा आंकड़ों के मुताबिक भारत में पाम ऑयल का आयात फरवरी में 27 प्रतिशत घटकर 3,94,495 टन रह गया।

आयात में ये गिरावट ऐसे समय में आई है जब योग गुरु रामदेव खाद्य तेल के मामले में आत्मनिर्भर होने पर जोर दे रहे हैं। बीते दिनों रामदेव ने एक कार्यक्रम में कहा था कि हम इंडोनेशिया और मलेशिया पर अपनी निर्भरता खत्म करना चाहते हैं। उन्होंने बताया कि पतंजलि भारत में ऑयल पाम वृक्षारोपण और सरसों के तेल का उत्पादन बढ़ाने के लिए बड़े पैमाने पर कदम उठाने जा रही है, जिससे 2.5 लाख करोड़ रुपये की विदेशी मुद्रा बचेगी।

बता दें कि रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद ने 4,350 करोड़ रुपये मे रूचि सोया का भी अधिग्रहण किया था। रूचि सोया न्यूट्रीला ब्रांड से उत्पाद बेचती है।

पाम ऑयल के आयात में गिरावट: सॉल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एसईए) ने एक बयान में कहा कि फरवरी 2020 के दौरान पाम ऑयल का आयात 5,40,470 टन का हुआ था। फरवरी के दौरान वनस्पति तेलों का कुल आयात 25 प्रतिशत घटकर 8,38,607 टन रह गया, जबकि एक साल पहले यह 11,12,478 टन था। इसमें 7,96,568 टन खाद्य तेल और 42,039 टन अखाद्य तेल शामिल थे।

नवंबर 2020 से फरवरी 2021 के दौरान वनस्पति तेलों का कुल आयात 3.7 प्रतिशत घटकर 43,94,760 टन रहा, जबकि एक साल पहले यह 45,63,791 टन था। एसईए ने कहा कि पाम तेल की रिफाइनिंग में भाव की असमानता, ठंड के मौसम में कम मांग रहना और पिछले दो महीनों में सीपीओ के अत्यधिक आयात के कारण खाद्य तेल का आयात कम हुआ है।

इसने कहा कि सूरजमुखी तेल का आयात घटा है क्योंकि इसकी अंतरराष्ट्रीय कीमत काफी महंगी हुई है और उपभोक्ता किसी अन्य विकल्प को अपना रहे हैं जिन विकल्पों में मुख्य रूप से सोयाबीन तेल आता है।

एसईए के आंकड़ों के अनुसार, आरबीडी पाम तेल का आयात इस साल फरवरी में घटकर 6,000 टन रह गया, जो एक साल पहले 33,677 टन था, जबकि कच्चे पाम ऑयल (सीपीओ) का आयात पहले के 4,88,354 टन से घटकर 3,83,995 टन रह गया।

हल्के तेलों के मामले में फरवरी में सूरजमुखी तेल और सोयाबीन तेल का आयात घटकर क्रमश: 1,16,100 टन और 2,85,973 टन रह गया। फरवरी 2020 में सूरजमुखी तेल का आयात 2,26,743 टन और सोयाबीन तेल 3,22,448 टन का हुआ था। इंडोनेशिया और मलेशिया भारत को पाम तेल के प्रमुख आपूर्तिकर्ता देश हैं।

Next Stories
1 टाटा ने उठाया ये कदम, मुकेश अंबानी की कंपनी को मिलेगी नई चुनौती
2 याददाश्त के मामले में अनिल अंबानी से बेहतर हैं आप, कोर्ट की टिप्पणी पर ये था टीना अंबानी का रिएक्शन
3 देश की इकोनॉमी को दोहरी मार, खुदरा महंगाई बढ़ी तो इंडस्ट्री का प्रोडक्शन भी लुढ़का
ये पढ़ा क्या?
X