ताज़ा खबर
 

गोल्डमैन ने आर्थिक वृद्धि के अनुमान को घटाया, 2019-20 में वृद्धि दर 5.3 प्रतिशत रहने का अनुमान

ब्रोकरेज कंपनी ने यह भी कहा कि वृहत और कंपनियों की कमाई के आधार पर इक्विटी सूचकांक में लगभग 8.5 प्रतिशत की वृद्धि हो सकता है।

Author मुंबई | Published on: December 3, 2019 10:03 PM
पीएम नरेंद्र मोदी।

ब्रोकरेज कंपनी गोल्डमैन सैश ने भी भारत की आर्थिक वृद्धि के अनुमान को घटा दिया है। हालांकि कंपनी ने अगले साल इक्विटी सूचकांक में 8.5 प्रतिशत वृद्धि की संभावना जतायी है। गोल्डमैन सैश की रिपोर्ट के अनुसार देश की जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) वृद्धि दर 5.3 प्रतिशत रह सकती है जबकि पूर्व में इसके 6 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया गया था।

पिछले सप्ताह दूसरी तिमाही के जीडीपी वृद्धि के आंकड़े आने के बाद ब्रोकरेज कंपनी ने अनुमान कम किया है। सरकारी आंकड़े के अनुसार चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर 4.5 प्रतिशत रही जो 26 तिमाही का न्यूनतम स्तर है।

इससे पहले जापान की नोमुरा ने आर्थिक वृद्धि के अनुमान को घटाते हुए 2019-20 में इसके 4.9 प्रतिशत रहने की संभावना जतायी। गोल्डमैन सैश की मुख्य अर्थशास्त्री प्राची मिश्रा ने कहा कि आर्थिक वृद्धि बहुत नीचे आ गयी है और यहां से इसमें सुधार की उम्मीद है। इसमें उम्मीद की तुलना में तेजी से सुधार की संभावना है। उन्होंने कहा कि अपेक्षाकृत बेहतर वैश्विक आर्थिक स्थिति, एनबीएफसी समस्या से संबद्ध घरेलू वित्तीय संकट के कमजोर होने, सकारात्मक राजकोषीय उपायों से वृद्धि में तेजी की उम्मीद है।

रिजर्व बैंक और वित्त मंत्रालय में काम कर चुकी मिश्रा ने कहा कि आर्थिक स्थिरीकरण के शुरूआती संकेत है। उन्होंने यह भी कहा कि रिजर्व बैंक आर्थिक वृद्धि को गति देने के लिये बृहस्पतिवार को नीतिगत दर में 0.25 प्रतिशत की कटौती कर सकता है। हालांकि मुद्रास्फीति के 4 प्रतिशत के स्तर पर पहुंचने को देखते हुए आने वाले समय में रेपो दर में कटौती पर विराम लगा सकता है। ब्रोकरेज कंपनी ने यह भी कहा कि घाटा एफआरबीएम (राजकोषीय जवाबदेही और बजट प्रबंधन कानून) कानून के लक्ष्य से ऊपर जा सकता है और यह 2019-20 में 3.6 प्रतिशत रह सकता है।

हालांकि मिश्रा ने कहा कि पहले भी राजकोषीय घाटे के लक्ष्य से कई बार चूक हुई है और जीएसटी जैसे सुधारों को देखते हुए इसे अधिक प्रतिकूल रूप से नहीं देखा जा सकता। ब्रोकरेज कंपनी ने यह भी कहा कि वृहत और कंपनियों की कमाई के आधार पर इक्विटी सूचकांक में लगभग 8.5 प्रतिशत की वृद्धि हो सकता है। निफ्टी अभी 12,000 के आसपास है और 2020 के अंत में यह 13,000 अंक तक जा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 ’51 आर्थिक भगोड़े लगा चुके हैं देश को तगड़ी चपत, 17,900 करोड़ का घोटाला कर हुए फुर्र’
2 आज दूसरे दिन भी Net Banking नहीं यूज कर पा रहे HDFC ग्राहक! टि्वटर पर #hdfcbankdown हो रहा ट्रेंड
3 FD, RD हो या CURRENT अकाउंट, बैंक डूबा तो मिलेंगे बस 1 लाख रुपये!
जस्‍ट नाउ
X