ताज़ा खबर
 

56 हजारी हुआ सोना, चांदी भी 77,000 के पार, जानें- क्यों पीली धातु में लगातार बना है तेजी का दौर

फिलहाल भारत समेत दुनिया भर में प्रॉपर्टी का मार्केट डाउन है। जानकारों का कहना है कि जब तक ग्लोबल इकॉनमी में सुधार के संकेत नहीं दिखते हैं, तब तक सोने और चांदी की कीमतों में तेजी का दौर बना रह सकता है।

जानें, क्यों लगातार हो रहा सोने की कीमतों में इजाफा

कोरोना काल में पीली धातु की कीमत लगातार नई ऊंचाई हासिल कर रही है। शुक्रवार को सोने की कीमत 56,000 के लेवल पर पहुंच गई, जबकि चांदी का रेट 77,000 के लेवल को छू गया। जमा योजनाओं में निवेश पर ब्याज की दर कमजोर होने और शेयर बाजारों में अनिश्चितता के चलते सोने की ओर लोगों ने रुख किया है। इसी के चलते सोने और चांदी की कीमतों में लगातार तेजी का दौर देखने को मिल रहा है। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में शुक्रवार को प्रति 10 ग्राम सोने की कीमत 220 रुपये के इजाफे के साथ 56,065 के लेवल पर पहुंच हई। दूसरी तरफ 1,163 रुपये की बढ़ोतरी के साथ चांदी का रेट 77,215 रुपये प्रति किलोग्राम हो गया।

जानकारों का कहना है कि दुनिया भर के केंद्रीय बैंकों की ओर से मार्केट में तरलता बढ़ाए जाने के प्रयास किए गए हैं। इसके चलते लोगों के पास पैसा आया है और वे सुरक्षित निवेश के तौर पर सोने का रुख करते दिख रहे हैं। अकसर शेयर मार्केट और अर्थव्यवस्था के कमजोर होने पर सोने की कीमतों में इजाफा देखा जाता है। रियल्टी सेक्टर में कमजोरी भी सोने की कीमतों में इजाफे का एक अहम कारक होता है।

फिलहाल भारत समेत दुनिया भर में प्रॉपर्टी का मार्केट डाउन है। जानकारों का कहना है कि जब तक ग्लोबल इकॉनमी में सुधार के संकेत नहीं दिखते हैं, तब तक सोने और चांदी की कीमतों में तेजी का दौर बना रह सकता है। पूरी संभावना है कि 2020 के अंत तक सोने और चांदी की कीमतों में इजाफा नहीं थमेगा।

दुनिया भर में मंदी का संकट फिलहाल बना हुआ है। अमेरिका की ही बात करें तो पिछले सप्ताह बेरोजगारी भत्ते के दावे में कमी देखी गई थी, लेकिन अब भी 31.3 मिलियन लोग ऐसे हैं, जिन्हें नौकरी की तलाश है। भारत में भी कोरोना संकट के चलते लगातार अनिश्चितता का माहौल बना हुआ है। देश में कोरोना केसों का आंकड़ा 20 लाख के पार पहुंच गया है, जबकि मृतकों की संख्या 41 हजार से ज्यादा हो गई है।

Next Stories
1 पीएम किसान योजना: 30 अगस्त तक होगा वेरिफिकेशन, गलत दावा कर लाभ लेने वालों से होगी वसूली
2 गोल्ड लोन लेना चाहते हैं? जानें- कहां कम ब्याज पर मिलेगी ज्यादा रकम, आरबीआई की छूट का क्या होगा असर
3 जानें, क्यों गौतम अडानी की कंपनियों को हो रहा लगातार घाटा, मोदी सरकार के माने जाते रहे हैं करीबी
ये पढ़ा क्या?
X