ताज़ा खबर
 

अमेरिका में ब्याज दर बढ़ने की आशंका के बीच सोना 250 रुपया टूटा

वैश्विक स्तर पर सोना 0.42 प्रतिशत टूटकर 1,198.60 डॉलर प्रति औंस पर और चांदी 0.65 प्रतिशत के नुकसान से 16.84 डॉलर प्रति औंस रह गई।

Author March 15, 2017 16:14 pm
सोना-चांदी की कीमतों में पिछले सात दिनों में आया उतार-चढ़ाव। (पीटीआई ग्राफिक्स)

अमेरिका के फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी की संभावना के बीच सोने में गिरावट जारी रही। दिल्ली सर्राफा बाजार में सोना आज 250 रच्च्पये टूटकर करीब दो महीने के निचले स्तर 28,650 रच्च्पये प्रति दस ग्राम पर आ गया। फेडरल रिजर्व की चेयरमैन जैनेट येलेन और अन्य अधिकारियों के बयानों से यह संभावना बढ़ी है कि ब्याज दरों में बढ़ोतरी हो सकती है। ऐसे में अन्य संपत्तियों के मूल्य में गिरावट आएगी।

स्थानीय आभूषण कारोबारियों की कमजोर मांग और कमजोर वैश्विक रच्च्ख से यहां गतिविधियां सुस्त रहीं। सोने की तर्ज पर चांदी भी 500 रच्च्पये घटकर 40,300 रच्च्पये प्रति किलोग्राम रह गई। औद्योगिक इकाइयों तथा सिक्का विनिर्माताआें की कमजोर मांग से चांदी नीचे आई। कारोबारियों ने कहा कि अमेरिका में ब्याज दरों में बढ़ोतरी की संभावना के बीच डॉलर में मजबूती आई। वैश्विक स्तर पर सोना 0.42 प्रतिशत टूटकर 1,198.60 डॉलर प्रति औंस पर और चांदी 0.65 प्रतिशत के नुकसान से 16.84 डॉलर प्रति औंस रह गई।

अमेरिकी सेंट्रल बैंक फेडरल रिजर्व के ब्याज दरों पर होने वाले अहम फैसले से पहले घरेलू शेयर बाजार मामूली गिरावट के साथ बंद हुआ। BSE का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 44 अंक गिरकर 29398 पर और NSE का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 2 अंक गिरकर 9085 के स्तर पर बंद हुआ राष्ट्रीय राजधानी में सोना 99.9 प्रतिशत तथा 99.5 प्रतिशत शुद्धता प्रत्येक 250 रच्च्पये टूटकर क्रमश: 28,650 रच्च्पये और 28,500 रुपये प्रति दस ग्राम रह गया। कल इसमें 150 रच्च्पये का नुकसान दर्ज किया गया था।

गिन्नी 200 रुपये के नुकसान से 24,200 रच्च्पये प्रति आठ ग्राम रह गई। सोने की तरह चांदी भी 500 रच्च्पये के नुकसान से 40,300 रच्च्पये प्रति किलोग्राम रह गई। साप्ताहिक डिलीवरी चांदी का भाव 380 रच्च्पये के नुकसान से 39,970 रच्च्पये प्रति किलोग्राम पर आ गया। चांदी सिक्का भी 1,000 रच्च्पये टूटकर लिवाल 70,000 और बिकवाल 71,000 रच्च्पये प्रति सैंकड़ा रह गया।

इस पर मार्केट एक्सपर्ट अंबरीश बलिगा का कहना है कि मंगलवार की जोरदार तेजी के बाद बाजार महंगे हो चुके हैं। अब लिक्विडिटी, सेंटिमेंट के दम पर बाजार में आगे भी तेजी जारी रहेगी। हालांकि कंपनियों के नतीजों से बाजार को सहारे के आसार कम है। लेकिन जीएसटी के चलते दूसरी और तीसरी तिमाही नतीजे प्रभावित होंगे।

दिल्ली: IGI एयरपोर्ट से मिला 16 किलो सोना

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App