ताज़ा खबर
 

भारत में फीकी हुई सोने की चमक, 25 साल के निचले स्तर पर जा सकती है पीली धातु की डिमांड

डब्ल्यूजीसी की रिपोर्ट बताती है कि भारत में कैलेंडर ईयर 2020 की तीसरी तिमाही में सोने की मांग 86.6 टन थी, जबकि 2019 में इसी अवधि की तुलना में 30 प्रतिशत कम होकर 123.9 टन थी।

world gold councilभारत में 25 साल के निचले स्तर पर जा सकती है सोने की मांग

भारत में सोने की डिमांड के लिहाज से यह साल बेहद खराब साबित हो सकता है। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल के मुताबिक यदि इस साल अब तक जारी रहा ट्रेंड आगे भी बना रहता है तो इस वर्ष 1995 के बाद पहली बार सोने की मांग में इतनी गिरावट देखने को मिलेगी। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल के मुताबिक इस साल अब तक भारत में 252 टन सोने की खपत हुई है, जबकि बीते साल इसी अवधि में यह आंकड़ा 496 टन का था। यदि अक्टूबर से दिसंबर 2019 की तिमाही के 194 टन सोने की मांग के आंकड़े को इसमें जोड़ लिया जाए तब भी बीते साल के मुकाबले यह 696 टन कम होगा।

डब्ल्यूजीसी के आंकड़ों की मानें तो कैलेंडर वर्ष 1995 में भारत में सालाना सोने की 462 टन की सबसे खराब स्थिति थी, जो 1996 में 511 टन, 2002 में 547 टन और 2009 में 642 टन थी। हालांकि गोल्ड काउंसिल के प्रबंध निदेशक सोमासुंदरम पीआर का कहना है कि चूंकि इस साल की दूसरी तिमाही में कई तरह की घटनाएं हुई, अर्थव्यव्स्था अब खुल रही है, पर हमें नहीं पता कि नौकरियों के नुकसान और वेतन में कटौती के साथ शादी के मौसम में मांग कैसे बढ़ेगी।

उनका आगे कहना है कि अगर सोना 50,000 रुपये प्रति 10 ग्राम से कम हो जाता है तो सोने की स्थिति कुछ सुधर सकती है। डब्ल्यूजीसी की रिपोर्ट बताती है कि भारत में कैलेंडर ईयर 2020 की तीसरी तिमाही में सोने की मांग 86.6 टन थी, जबकि 2019 में इसी अवधि की तुलना में 30 प्रतिशत कम होकर 123.9 टन थी। वर्तमान अवधि के दौरान गोल्ड डिमांड वैल्यू 39,510 करोड़ रुपये रही है, जो कि साल 2019 की तीसरी तिमाही में 41,300 करोड़ रुपये के मुकाबले 4 प्रतिशत कम है।

डब्ल्यूजीसी की गोल्ड डिमांड ट्रेंड्स रिपोर्ट गुरुवार को जारी हुई जिसमें वैश्विक स्तर पर सोने के लिए 2,972.1 टन सालाना (वाईटीडी) की मांग 2019 की इसी अवधि की तुलना में 10 फीसदी कम है। कैलेंडर ईयर 2020 की तीसरी तिमाही में 892.3 टन की मांग में 19 फीसदी की कमी आई है, जो साल 2009 के तीसरी तिमाही के बाद से अब तक की सबसे कम मांग है। इसका सबसे बड़ा कारण कोविड-19 महामारी को माना गया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बिहार में पूरे देश के मुकाबले ज्यादा तेजी से बढ़ रही है बेरोजगारी, चुनाव में भी अहम हो सकता है यह मुद्दा
2 जन धन योजना के चलते अपराध पर भी लगी है लगाम, भारतीय स्टेट बैंक की रिपोर्ट में सामने आई बात
3 सैमसंग को मिला चीनी कंपनिय़ों के खिलाफ माहौल का फायदा! बनी नंबर वन, Xiaomi को करारा झटका
यह पढ़ा क्या?
X