आम बजट में होगी दूसरी पीढ़ी के सुधारों की घोषणा: अरुण जेटली

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आने वाले समय में और रोमांचक अवसरों का वादा करते हुए आज कहा कि अगामी आम बजट में दूसरी पीढ़ी के तमाम आर्थिक सुधारों की घोषणा की जाएगी। जेटली ने यहां समाचार एजेंसी पीटीआई-भाषा मुख्यालय पर इसके संवाददाताओं के साथ बातचीत में कहा, ‘‘देश में अभी ज्यादातर क्षेत्रों को और […]

Author Updated: November 23, 2014 3:24 PM

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आने वाले समय में और रोमांचक अवसरों का वादा करते हुए आज कहा कि अगामी आम बजट में दूसरी पीढ़ी के तमाम आर्थिक सुधारों की घोषणा की जाएगी।

जेटली ने यहां समाचार एजेंसी पीटीआई-भाषा मुख्यालय पर इसके संवाददाताओं के साथ बातचीत में कहा, ‘‘देश में अभी ज्यादातर क्षेत्रों को और अधिक खुला बनाने की जरूरत है। इसके लिए पूंजी की वाजिब लागत के साथ-साथ नीतियों व कर व्यवस्था में स्थिरता की जरूरत है।’’

उन्होंने उम्मीद जतायी कि सरकार द्वारा किए गए उपायों के प्रभावी होने के बाद 2015-16 में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि दर छह प्रतिशत से ऊपर पहुंच जाएगी और इसके बाद हम ‘उच्च आर्थिक वृद्धि दर की राह पर चल पड़ेंगे।’

बजट 2015-16 की वृहद दिशाओं के बारे में पूछे जाने पर वित्त मंत्री जेटली ने कहा, ‘दूसरी पीढ़ी के सुधारों की पूरी सूची पड़ी है।’ इसके अलावा ‘‘ऐसे सुधारों की भी पूरी सूची है जो इस लिए तैयार खड़ी है क्यों कि पीछे हुई कुछ चीजों को खत्म किया गया है। उसमें से एक कोयला अध्यादेश है जो एक चीज को खत्म करने की बात है।’’

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार द्वारा उठाए गए कदमों का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा, ‘पिछले छह महीनों के दौरान कई कदम उठाए गए हैं जिससे ‘‘उत्साह (जो ठंडा पड़ गया था) सुधरा है।’’

अर्थव्यवस्था की स्थिति के बारे में एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ‘अर्थव्यवस्था काफी नीचे चली गयी थी और निराशा का भाव फैल गयास था। लेकिन बीते छह महीनों के दौरान घरेलू निवेशकों के साथ-साथ विदेशी निवेशकों ने भी काफी रुचि दिखानी शुरू की है हालांकि भारतीय अर्थव्यवस्था में उनका भरोसा बुरी तरह टूट चुका था।’’

वित्त मंत्री ने कहा, ‘‘परिणाम दिखने में अभी भी कुछ समय लगेगा हालांकि जमीनी स्तर पर कुछ शुरुआती सुधार के संकेत दिखने लगे हैं। ‘मेरा मानना है कि आने वाला समय हमारे लिए काफी रोमांचक होगा और मुझे लगता है कि भारत में निवेश बढ़ेगा। मैं देख रहा हूं कि घरेलू निवेशक भी काफी रुचि ले रहे हैं।’

जेटली ने हालांकि इस बात को माना कि माहौल को और ठीक करने के लिए और अधिक उपाय करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि इसमें न केवल केंद्र के स्तर पर बल्कि राज्य सरकारों तथा अन्य संस्थाओं की भी भूमिका है जिसमें संसद में बैठे विपक्षी दल भी शामिल हैं।

वित्त मंत्री से जब यह पूछा गया कि वह कौन से कदम उठाना चाह रहे हैं तो उनका जवाब था, ‘हमें कई क्षेत्रों को खोलने की जरूरत है जो कि हम कर रहे हैं। इस मामले में हम सही राह पर आगे बढ़ रहे हैं। एक एक कर और अधिक क्षेत्रों को खोला जाएगा, उनमें संभावनाएं हैं।’

उन्होंने कहा, ‘आपको निवेशकों को और बेहतर माहौल देना होगा। आपने उन्हें राजनीतिक स्थिरता दी है लेकिन उन्हें नीतियों व कर प्रशासन में स्थिरता चाहिए और जो बड़ी गड़बड़ियां हुई हैं उन्हें ठीक करना होगा।’

वित्त मंत्री ने कहा कि सुधारों की प्रक्रिया एक सतत चलते रहने वाला काम है। उन्होंने कहा कि दूसरी पीढी के सुधरों का काम जारी रहेगा और यह आम बजट की प्रक्रिया से पहले, उस प्रक्रिया के दौरान और उसके बाद भी जारी है और जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि इसके लिए, ‘बजट केवल एकलौता अवसर नहीं है,पर एक महत्वपूर्ण अवसर जरूर है।’

सरकार किन किन क्षेत्रों को लक्ष्य ले कर चल रही, इस सवाल पर जेटली ने कहा- तात्कालिक लक्ष्य बीमा संशोधन विधेयक, कोयला अध्यादेश व जीएसटी विधेयक है। उन्होंने कहा,‘इसके साथ ही मैं अन्य बड़े खनिजों के आवंटन इसके लिए पक्षपात मुक्त व्यवस्था करने और जैसा कि मैंने आपको संकेत दिया कि भूमि अधिग्रहण कानून इसमें कुछ बदलाव किया जाना है क्योंकि इस कानून की वजह से वास्तव में विकास कार्य रुक जाएंगे। भूमि के लिए उच्च्ंचा मुआवजा दिए जाने में मुझे कोई परेशानी नहीं है। मैं इसका स्वागत करता हूं। पर अगर जमीन नहीं मिलती है तो ढांचागत परियोजनाओं, शहरी परियोजनाओं, आवास, उद्योग व रोजगार का क्या होगा।’

बैंकिंग क्षेत्र के सुधारों पर उन्होंने कहा कि बेसल तीन नियमों के तहत सभी सार्वजनिक बैंकों में सरकार की हिस्सेदारी घटाकर 52 प्रतिशत पर लायी जानी है और इक्विटी से प्राप्त शेष राशि का इस्तेमाल वित्तीय समावेशन के काम में किया जाएगा।

वर्ष 2015-16 के लिए आर्थिक वृद्धि के लक्ष्य के बारे में पूछे जाने पर जेटली ने कहा कि सबसे पहले अर्थव्यवस्था को नरमी से उबारना है जो वार्षिक पांच प्रतिशत की वृद्धि दर से भी नीचे 4.5 प्रतिशत और 4.7 प्रतिशत तक चली गयी थी।

‘‘इस साल हमें ऊपर उठना है। विनिर्माण क्षेत्र हमारे लिए अब भी चुनौती बना हुआ है। ढांचागत क्षेत्र और विनिर्माण ये दो प्रमुख क्षेत्र हैं जिनमें हमें घुसना है ताकि आगे बढ़ने का अभियान शुरू हो। जब एक बार जब इन कदमों के असर आने लगेगा तो छह प्रतिशत से ऊपर आर्थिक वृद्धि हासिल करने की हमारी क्षमता बढ़ जाएगी।

यह पूछे जाने पर कि क्या वह इसे अगले वित्त वर्ष में यह लक्ष्य हासिल कर सकते हैं तो वित्त मंत्री ने कहा, ‘उम्मीद है कि हम इस आंकड़े को पार कर लेंगे और फिर हम उड़ान पर होंगे।’

Next Stories
1 भारत में मोबाइल कारखाना लगाना चाहती है सेलकॉन
2 शेयर समीक्षा: संसद के शीतकालीन सत्र पर रहेगी बाजार की निगाह
3 अमीरों को सस्ते गैस सिलेंडर की सुविधा होगी बंद..!
ये पढ़ा क्या?
X