गौतम अडानी के बेटे के पास है इस कंपनी की जिम्‍मेदारी, किन दिग्‍गजों को टीम में किया है शामिल

अडानी पोर्ट एंड एसईजेड में गौतम अडानी ने करन अडानी को एग्‍जीक्‍यूटिव डायरेक्‍टर और सीईओ के रूप में भूमिका दी हुई है। वहीं उन्‍होंने अपने भाई राजेश अडानी को भी बड़ी भूमिका दी हुई है। राजेश अडानी नॉन एग्‍जीक्‍यूटिव एवं नॉन इंडिपेंडेंट डायरेक्‍टर की भूमिका दी हुई है।

Gautam and karan adani
गौतम अडानी के बेटे करन अडानी अडानी पोर्ट के सीईओ हैं, जबकि वो खुद चेयरपर्सन हैं। (Photo By Karan Adani Twitter account)

गौतम अडानी के बेटे करन अडानी के पास अडानी पोर्ट एवं एसईजेड की जिम्‍मेदारी है। महज 33 साल के करन को गौतम अडानी ने बड़ी जिम्‍मेदारी सौंपी है। करन के साथ वो खुद तो मौजूद हैं ही, साथ ही बोर्ड ऑफ डायरेक्‍टर्स में उन्‍होंने और भी कई दिग्‍गजों को शामिल किया है। जिसमें उनके भाई के साथ भरत सेठ भी हैं। जो पोर्ट सेक्‍टर में बड़ा नाम है। आइए आपको भी बताते हैं कि आख‍िर अडानी पोर्ट में करन की टीम में किन द‍िग्‍गजों को शामिल किया गया है।

बोर्ड ऑफ डायरेक्‍टर्स में गौतम अडानी के भाई भी मौजूद
वैसे तो अडानी पोर्ट एंड एसईजेड में गौतम अडानी ने करन अडानी को एग्‍जीक्‍यूटिव डायरेक्‍टर और सीईओ के रूप में भूमिका दी हुई है। वहीं उन्‍होंने अपने भाई राजेश अडानी को भी बड़ी भूमिका दी हुई है। राजेश अडानी नॉन एग्‍जीक्‍यूटिव एवं नॉन इंडिपेंडेंट डायरेक्‍टर की भूमिका दी हुई है। जबकि गौतम अडानी खुद इस कंपनी में एग्‍जीक्‍यूट‍िव डायरेक्‍टर, चेयापर्सन और एमडी की भूमिका में है।

दो महि‍लाओं को भी किया है शामिल
बोर्ड ऑफ डायरेक्‍टर्स में दो महि‍लाओं को भी शामिल किया गया है। जिसमें अवंतिका सिंह औलख और निरुपमा राव हैं। दोनों ही नॉन इंडिपेंडेंट डायरेक्‍टर की भूमिका में है। अवंतिका सिंह औलख एक आईएएस ऑफ‍िसर होने के साथ उन्‍हें 2020 में गुजरात मैरिटाइम बोर्ड का नॉमि‍नी डायरेक्‍टर भी बनाया गया था जो गुजरात सरकार के अधीन है। निरुपमा राव भारत सरकार (2009-2011) में विदेश सचिव थीं और इससे पहले उन्होंने विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता, श्रीलंका में भारत की उच्चायुक्त और चीन में राजदूत के रूप में कार्य किया। वह 2011 से 2013 तक संयुक्त राज्य अमेरिका में भारत की राजदूत थीं।

भरत सेठ का भी मिल रहा है एक्‍सपीरियंस
भरत शेठ भारत की प्रमुख शिपिंग कंपनी द ग्रेट ईस्टर्न शिपिंग कंपनी लिमिटेड के उपाध्यक्ष और प्रबंध निदेशक हैं। फिलहाल, वह अडानी पोर्ट्स् में नॉन एग्‍जीक्‍यूटिव एंड नॉन इंडिपेंडेंट डायरेक्‍टर के तौर पर जुड़े हुए हैं। अपने करियर के शुरुआती वर्षों में उन्होंने द ग्रेट ईस्टर्न शिपिंग कंपनी में काम किया। 1989 में कंपनी के बोर्ड में कार्यकारी निदेशक के रूप में शामिल किया गया और 1999 में कंपनी के प्रबंध निदेशक बने। अगस्त 2005 में, उन्हें उपाध्यक्ष और प्रबंध निदेशक नियुक्त किया गया।

और भी है लोग
वहीं इस कंपनी की कमान संभालने वालों में और भी कुछ लोग हैं, जिन्‍हें नॉन एग्‍जीक्‍यूटिव एंड नॉन इंडिपेंडेंट डायरेक्‍टर की भूमिका में रखा गया है। जिसमें गनेशन रघुराम, गोपाल कृष्‍ण पिल्‍लेई, पीएस जयकुमार शामिल है। वहीं कमलेश बाघि‍या कंपनी सचिव और कंप्‍लायंस ऑफ‍िसर के रूप में शामिल हैं।

पढें व्यापार समाचार (Business News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट