अडानी पोर्ट को बड़ा मुनाफा, इसके बावजूद गौतम अडानी को हो सकता है नुकसान, जानिए वजह

अडानी पोर्ट्स की ओर से बताया गया है कि उसे म्यांमार में अपने एक प्रोजेक्ट को छोड़ना पड़ सकता है। ऐसे में जो निवेश किए गए हैं उसको बट्टे खाते में डालना पड़ सकता है।

gautam adani, adani portअडानी समूह की कंपनी को बड़ा मुनाफा (Photo-Indian Express )

अडानी समूह की कंपनी अडानी पोर्टस एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन लिमिटेड (एपीएसईजेड) को बड़ा मुनाफा हुआ है। इसके बावजूद गौतम अडानी को नुकसान होने की आशंका है।

क्या है मामला: दरअसल, अडानी पोर्ट्स की ओर से बताया गया है कि उसे म्यांमार में अपने एक प्रोजेक्ट को छोड़ना पड़ सकता है। ऐसे में जो निवेश किए गए हैं उसको बट्टे खाते में डालना पड़ सकता है। कंपनी ने बताया कि म्यांमार पर प्रतिबंध लगाए जाते हैं या प्रोजेक्ट में मौजूदा प्रतिबंधों का उल्लंघन पाया जाता है तो इसे छोड़ने और निवेश को बट्टे खाते में डालने की योजना है। कंपनी ने अब तक इस पर करीब 12.7 करोड़ डॉलर (करीब 937 करोड़ रुपये) का निवेश किया है। कहने का मतलब ये है कि 937 करोड़ रुपये तक का नुकसान हो सकता है।

बता दें कि हाल ही में म्यांमार की सेना ने देश में तख्तापलट कर दिया है। तख्तापलट नागरिक नेता आंग सान सू ची को हटाने के लिए किया गया था, लेकिन अब सेना हिंसा कर रही है। संयुक्त राष्ट्र (UN) ने भी म्यांमार सेना पर नरसंहार व मानवता के खिलाफ अपराध करने के आरोप लगाए हैं। अब तक हिंसा में 1000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। (ये पढ़ें—मित्तल और अंबानी की कंपनी के बीच हुई डील!)

अडानी पोर्ट को मुनाफा: इस बीच, अडानी पोर्टस एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन लिमिटेड (एपीएसईजेड) ने बीते वित्त वर्ष की आखिरी तिमाही के नतीजे जारी किए हैं। कंपनी को 31 मार्च, 2021 को समाप्त चौथी तिमाही में 288 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 1,321 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ है। पिछले वित्तीय वर्ष की इसी तिमाही में कंपनी को 340.21 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था।

वित्तीय वर्ष 2020-21 की आखिरी तिमाही में कंपनी की आय एक साल पहले के मुकाबले बढ़ी है। अब आय 4,072.42 करोड़ रुपये पर पहुंच गई है। वहीं मार्च 2021 की तिमाही में कंपनी का कुल खर्च पिछले साल की इसी तिमाही के 3,099.18 करोड़ रुपये से घटकर 2,526.91 करोड़ रुपये रह गया।

करण अडानी संभाल रहे कारोबार: अडानी ग्रुप की इस कंपनी का कारोबार करण अडानी संभाल रहे हैं। वह अडानी पोर्ट्स के होल टाइम डायरेक्टर के अलावा सीईओ भी हैं। करण अडानी ने कहा कि बीता वित्तीय वर्ष एपीएसईजेड के लिए परिवर्तनकारी वर्ष रहा और कंपनी ने इस साल कुछ महत्वपूर्ण फैसले लिए जिनसे आने वाले दशक की बुनियाद तैयार हुई है। (ये पढ़ें—अनिल अंबानी का कारोबार चला रहे अडानी)

Next Stories
1 Air India पायलटों ने की पूरी सैलरी की मांग, वैक्सीन को लेकर दी ये चेतावनी
2 रामदेव की इस कंपनी का इनकम 13 हजार करोड़ से है ज्यादा, जानिए देश में कहां तक फैला है कारोबार
3 पिता राहुल बजाज की तरह मुखर हैं राजीव, बजाज ऑटो में संभाल रहे बड़ी जिम्मेदारी
यह पढ़ा क्या?
X