ताज़ा खबर
 

अपनी इन गलतियों की वजह से डूबते चले गए ‘रिटेल किंग’ किशोर बियानी, खुद बताया था कहां हुई चूक

यही नहीं ऑनलाइन के दौर में भी लंबे समय तक ऑफलाइन रिटेल कारोबार को ही विस्तार देने को भी किशोर बियानी ने अपनी गलती माना था। बता दें कि तमाम एक्सपर्ट्स भी यही मानते हैं कि भविष्य अब ऑनलाइन रिटेल में है।

फ्यूचर ग्रुप के सीईओ किशोर बियानी

कभी देश के रिटेल किंग कहलाने वाले फ्यूचर ग्रुप के मुखिया किशोर बियानी इन दिनों संघर्ष के दौर से गुजर रहे हैं। पिछले दिनों अपने रिटेल बिजनेस को रिलायंस इंडस्ट्रीज के हाथों 24,713 करोड़ रुपये में बेचने वाले किशोर बियानी अब इस डील को लेकर भी अमेजॉन के साथ मुकदमे का सामना कर रहे हैं। बिग बाजार, फैशन ऐट बिग बाजार जैसे दिग्गज ब्रांड्स को खड़ा करने वाले किशोर बियानी को हमेशा प्रयोग करने वाले कारोबारी के तौर पर जाना जाता रहा है। हालांकि उनके कुछ प्रयोग ही फेल हो गए और यही उनकी कारोबारी असफलता का कारण भी बने।

खुद किशोर बियानी ने ही माना था कि कारोबार को अलग-अलग कैटिगरीज में विस्तार देने के चलते उनके साथ यह स्थिति पैदा हुई। इस साल की शुरुआत में ही किशोर बियानी ने कहा था कि कई कैटिगरीज में विस्तार करने और उनमें कम सफलता हासिल होने के चलते यह स्थिति पैदा हुई थी। बियानी ने कहा था, ‘वह गलती थी और हमें फूड, फैशन और होम फर्निशिंग तक ही सीमित रहना चाहिए।’

रिटेल लीडरशिप समिट में बोलते हुए किशोर बियानी ने कहा था, ‘हमने कई गलतियां कीं। हमने कारोबार को कई कैटिगरीज में विस्तार दे दिया। अब मैंने फैसला लिया है कि हम फूड, फैशन और होम से बाहर नहीं जाएंगे। इससे पहले हमने कई कैटिगरीज में बिजनेस किया और मैं सोचता हूं कि हमने बहुत सी गलतियां कीं। हमारे पास उतने संसाधन नहीं हैं कि हम इस तरह से बिजनेस का विस्तार कर सकें।’

यही नहीं ऑनलाइन के दौर में भी लंबे समय तक ऑफलाइन रिटेल कारोबार को ही विस्तार देने को भी किशोर बियानी ने अपनी गलती माना था। बता दें कि तमाम एक्सपर्ट्स भी यही मानते हैं कि भविष्य अब ऑनलाइन रिटेल में है। यहां तक दुनिया की दिग्गज रिटेल कंपनी वॉलमार्ट ने भी भारत में फ्लिपकार्ट के जरिए ऑनलाइन रिटेल कारोबार में निवेश किया है। किशोर बियानी ने ऑनलाइन बिजनेस के अवसर को मिस करने को लेकर कहा था, ‘हमने इंटरनेट कॉमर्स के अवसर को मिस किया।’

गौरतलब है कि रिलायंस को अपना रिटेल बिजनेस बेचने को लेकर पिछले दिनों किशोर बियानी ने कहा था कि पहले से ही आर्थिक संकट से जूझ रहे बिजनेस को लॉकडाउन के चलते करारी चोट पहुंची थी। उन्होंने कहा था कि भले ही बिजनेस ठप हो जाए, लेकिन कर्ज पर ब्याज और प्रॉपर्टी का किराया जारी रहता है। उन्होंने कहा कि इस संकट के चलते ही रिटेल बिजनेस को बेचना ही उनके पास एकमात्र विकल्प था।

Next Stories
1 मनरेगा मजदूरों को अपनी ही दिहाड़ी निकालने को लगाने पड़ते हैं बैंकों के चक्कर, सर्वे में हुए ये खुलासे
2 फेस्टिव सीजन में मिली मंदी को मात, हीरो मोटर्स ने हर दिन बेचीं 43,000 से ज्यादा बाइक्स, कुल 14 लाख यूनिट्स की सेल
3 गौरी और शाहरुख खान के दिल्ली वाले घर में आप हो सकते हैं एक रात के मेहमान, जानिए कैसे?
ये पढ़ा क्या?
X