ताज़ा खबर
 

Fixed Deposit में चाहिए अच्छे और सुरक्षित रिटर्न की गारंटी तो निवेश से पहले इन 5 बातों का रखें ध्यान

अब भी यदि आप फिक्स्ड डिपॉजिट के जरिए अच्छा रिटर्न हासिल करना चाहते हैं तो इसके कुछ तरीके हैं, जिनके जरिए आप निवेश पर फायदा कमा सकते हैं। एफडी में निवेश से पहले ये 5 बातें जानना है जरूरी...

fixed depositफिक्स्ड डिपॉजिट में अपनाएं ये टिप्स

फिक्स्ड डिपॉजिट यानी सावधि जमा को हमेशा सुरक्षित निवेश की गारंटी माना जाता रहा है। लेकिन बीते कुछ सालों में इसका आकर्षण कम हुआ है। तेजी से गिरती ब्याज दरों और यस बैंक से लेकर तमाम कॉपरेटिव बैंकों में पैदा हुए संकट के चलते ग्राहकों में अविश्वास की स्थिति पैदा हुई है। हालांकि अब भी यदि आप फिक्स्ड डिपॉजिट के जरिए अच्छा रिटर्न हासिल करना चाहते हैं तो इसके कुछ तरीके हैं, जिनके जरिए आप निवेश पर फायदा कमा सकते हैं। एफडी में निवेश से पहले ये 5 बातें जानना है जरूरी…

ऐसे बैंक में कराएं एफडी: फिक्स्ड डिपॉजिट में आपको कितना रिटर्न मिलेगा, यह इस बात पर निर्भर करता है कि ब्याज दर कितनी है। ऐसे में आपको उसी बैंक में निवेश करना चाहिए, जहां अधिक ब्याज ऑफर की जा रही है। फिलहाल कई निजी सेक्टर के बैंक 7 से 7.5 फीसदी तक की ब्याज दे रहे हैं, जो सरकारी बैंकों से एक से डेढ़ पर्सेंट तक ज्यादा है।

लंबे समय के लिए एफडी से बचें: फिलहाल अर्थव्यवस्था में मंदी का दौर देखने को मिल रहा है। यही नहीं अभी यह भी स्पष्ट नहीं है कि मंदी का यह समय कब तक जारी रहेगा। ऐसे में फिक्स्ड डिपॉजिट में निवेश करने से पहले इस बात का ध्यान रखें कि ज्यादा लंबी अवधि के लिए पैसे न लगाएं। इससे आपकी रकम लंबे समय के लिए कम ब्याज पर फंस जाएगी।

अवधि के बारे में पहले से सोचें: यदि आप फिक्स्ड डिपॉजिट को मैच्योरिटी से पहले ही खत्म कराते हैं तो बैंकों की ओर से पेनल्टी लगाई जाती है। ऐसे में आप पहले से ही अपने वित्तीय लक्ष्यों का ध्यान रखें और उसके मुताबिक ही निवेश करें। यदि आप पहले ही एफडी खत्म कराते हैं तो पेनल्टी देनी होगी। इसके अलावा आप अपने वित्तीय लक्ष्यों को भी पूरा नहीं कर पाएंगे।

टुकड़ों में कराएं एफडी, मिलेगा पूरा लाभ: यदि आप एफडी कराने के मूड में हैं तो किसी एक जगह पर ज्यादा निवेश न करें। इसकी बजाय आप छोटे-छोटे हिस्सों में कई एफडी करा सकते हैं। इससे आपको यह लाभ मिलेगा कि यदि आप कैश के संकट में आते हैं तो किसी एक एफडी को खत्म कराकर अपनी जिम्मेदारी अदा कर सकेंगे। इससे आप पर अतिरिक्त बोझ भी नहीं होगा और काम भी पूरा हो जाएगा। इसके साथ ही रिटर्न को लेकर भी ज्यादा समस्या नहीं होगी।

टैक्स स्लैब का भी रखें ख्याल: फिक्स्ड डिपॉजिट से पहले आपको अपने टैक्स स्लैब के बारे में भी जानना होगा। एफडी पर मिलने वाला ब्याज टैक्सेबल होता है। हालांकि वरिष्ठ नागरिकों को इस पर छूट मिलती है। ऐसे में आपको इस पर निवेश से पहले टैक्स स्लैब पर भी विचार करना चाहिए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बजाज CT100 ‘कड़क’ बाइक, सबसे कम है दाम और माइलेज में नंबर वन, जानें- फीचर्स और कीमत
2 अमेजॉन के अड़ंगे से रिलायंस के साथ फेल हुई डील तो कारोबार समेटेंगे किशोर बियानी? 29 हजार नौकरियों पर होगा संकट
3 मोबाइल इंटरनेट की स्पीड में पाकिस्तान, नेपाल जैसे देश भी हैं भारत से आगे, दुनिया में 131वां नंबर
यह पढ़ा क्या?
X