ताज़ा खबर
 

राजकोषीय घाटा अप्रैल-जून तिमाही में बजटीय अनुमान का 61 फीसद

सीजीए द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार कर राजस्व संग्रह 1.57 लाख करोड़ रुपए या बजट अनुमान का 14.9 प्रतिशत रहा जो पिछले साल बेहतर है।

Author नई दिल्ली | Published on: July 29, 2016 9:30 PM
नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग)

देश में घाटे की स्थिति थोड़ी बिगड़ी है। राजकोषीय घाटा 2016-17 की पहली तिमाही में बजट अनुमान के 61 प्रतिशत से ऊपर निकल गया है। अधिक व्यय तथा गैर-कर राजस्व में कम वृद्धि से घाटा तेजी से बढ़ा है। व्यय एवं राजस्व के बीच अंतर राजकोषीय घाटा चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जून अवधि में बजट अनुमान का 3.26 लाख करोड़ रुपए या 61.1 प्रतिशत रहा। पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में राजकोषीय घाटा 51.6 प्रतिशत था। सरकार ने 2016-17 में राजकोषीय घाटा 5.33 लाख करोड़ रुपए या जीडीपी का 3.5 प्रतिशत रहने का अनुमान रखा है।

लेखा महानियंत्रक (सीजीए) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार कर राजस्व संग्रह 1.57 लाख करोड़ रुपए या बजट अनुमान का 14.9 प्रतिशत रहा जो पिछले साल बेहतर है। वहीं ब्याज प्राप्ति और लाभांश समेत गैर-कर राजस्व 23,484 करोड़ रुपए या बजटीय अनुमान का 7.3 प्रतिशत रहा। वहीं जून 2015 में यह बजटीय अनुमान का 17.8 प्रतिशत था। सरकार की कुल प्राप्ति (राजस्व और गैर-रिण पूंजी) तीन महीनों के दौरान 1.85 लाख करोड़ रुपए रही जो चालू वित्त वर्ष में अनुमान का 12.8 प्रतिशत है।

चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-जून के दौरान योजना व्यय 1.47 लाख करोड़ रुपए या बजटीय अनुमान का 26.8 प्रतिशत रहा। यह पिछले वित्त वर्ष में इसी अवधि के दौरान 24.7 प्रतिशत था। गैर-योजना व्यय अप्रैल-जून अवधि में 3.64 लाख करोड़ रुपए या बजटीय अनुमान का 25.5 प्रतिशत था। सीजीए के आंकड़ों के अनुसार राजस्व घाटा आलोच्य अवधि में 2.82 लाख करोड़ रुपए या बजटीय अनुमान का 79.7 प्रतिशत है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 नेस्ले को दूसरी तिमाही में 231 करोड़ रुपए का मुनाफा
2 कोयला घोटाला: दिल्ली हाई कोर्ट से रूंगटा बंधुओं को राहत, अंतरिम जमानत अवधि बढ़ी
3 ICICI बैंक का पहली तिमाही का शुद्ध लाभ 22% घटा
ये पढ़ा क्या?
X
Testing git commit