पहली बार वित्‍त मंत्रालय ने नहीं मानी CBT की सिफारिश, PF पर ब्‍याज दर घटाई

वित्त मंत्रालय ने वित्त वर्ष 2015-16 के लिए भविष्य निधि (पीएफ) जमा पर 8.7 प्रतिशत की दर से ब्याज दिए जाने की मंजूरी दी है। श्रम मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने लोकसभा में लिखित जवाब में सोमवार को यह जानकारी दी।

CBT, EPF interest rate, Employees Provident Fund, EPFO, finance ministry, Labour Minister Bandaru Dattatreya, provident fund, Provident Fund subscribers, interim interest rate
वित्त मंत्रालय ने वित्त वर्ष 2015-16 के लिए भविष्य निधि (पीएफ) जमा पर 8.7 प्रतिशत की दर से ब्याज दिए जाने की मंजूरी दी है।

वित्त मंत्रालय ने वित्त वर्ष 2015-16 के लिए भविष्य निधि (पीएफ) जमा पर 8.7 प्रतिशत की दर से ब्याज दिए जाने की मंजूरी दी है। केंद्रीय न्यासी बोर्ड (सीबीटी) ने अंशधारकों की जमा पर 8.8 प्रतिशत ब्याज दिए जाने का प्रस्ताव किया था। श्रम मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने लोकसभा में लिखित जवाब में सोमवार को यह जानकारी दी। उन्‍होंने कहा, ‘सीबीटी ने फरवरी, 2016 में हुई बैठक में 2015-16 के लिए ईपीएफओ के 5 करोड़ से अधिक अंशधारकों के लिए 8.8 प्रतिशत की अंतरिम दर से ब्याज दिए जाने का प्रस्ताव किया था। हालांकि, वित्त मंत्रालय ने 8.7 प्रतिशत की ब्याज दर मंजूर की है।’

संभवत: यह पहला अवसर है जबकि वित्त मंत्रालय ने सीबीटी की सिफारिश नहीं मानी है और अंशधारकों को देय ब्याज में कमी की है। ईपीएफओ ने 2013-14 और 2014-15 में 8.75 प्रतिशत का ब्याज दिया था। वर्ष 2012-13 में 8.5 प्रतिशत तथा 2011-12 के 8.25 प्रतिशत ब्याज दिया गया था। ईपीएफओ के सितंबर में लगाए गए अनुमान के आधार पर कहा गया था कि निकाय अंशधारकों को वर्ष 2015-16 के लिए आसानी से 8.95 प्रतिशत तक का ब्याज दे सकता है। इसके बाद भी उसके पास 100 करोड़ रुपये बचेंगे।

ईपीएफओ अपने अंशधारकों को निवेश पर मिलने वाले रिटर्न के आधार पर ब्याज देता है। कर्मचारियों के प्रतिनिधियों ने सीबीटी की 16 फरवरी को हुई बैठक में वित्त वर्ष के लिए 9 प्रतिशत के ब्याज की मांग की थी। लेकिन सीबीटी ने 8.8 प्रतिशत का ब्याज दर पर सहमति दी थी। बाद में दत्तात्रेय ने ईपीएफओ को आश्वासन दिया था कि 2015-16 के लिए ब्याज दर को 8.8 प्रतिशत से कम नहीं किया जाएगा।

अपडेट