ताज़ा खबर
 

कर्मचारियों के सेवानिवृत्ति योजनाओं पर तत्काल ध्यान देने की जरूरत : रिपोर्ट

2011 के आंकड़े बताते हैं कि भारत की केवल 12 प्रतिशत कामगार जनसंख्या पेंशन योजना से लाभान्वित है। यह बताता है, कि भारत की कामगार जनसंख्या का कुछ हिस्सा ही वृद्धावस्था आय असुरक्षा की चुनौती से बच सका है।

Author March 16, 2017 12:16 PM
रिपोर्ट के अनुसार, भारत में 60 से अधिक आयु वाले लोगों की संख्या 2010 से 2050 तक तीन गुना बढ़कर 33.10 करोड़ हो जाएगी। सांकेतिक फोटो (photo source – Indian express)

पेंशन भोगी समाज बनाने के लिए भारत को एक योजनाबद्ध तरीके से पेंशन व्यवस्था पर काम करने की जरूरत है। यह बात बुधवार को फिक्की-केपीएमजी के व्हाईट पेपर में कही गई है। 2011 के आंकड़े बताते हैं कि भारत की केवल 12 प्रतिशत कामगार जनसंख्या पेंशन योजना से लाभान्वित है। यह बताता है, कि भारत की कामगार जनसंख्या का कुछ हिस्सा ही वृद्धावस्था आय असुरक्षा की चुनौती से बच सका है। रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में वृद्धों की तेजी से बढ़ती आबादी और पेंशन से लाभान्वित कम संख्या मिलकर ऐसी चुनौती तैयार कर रहे हैं, जिसके बारे में योजनाकारों को तत्काल ध्यान देने की जरूरत है।

रिपोर्ट के अनुसार, भारत में 60 से अधिक आयु वाले लोगों की संख्या 2010 से 2050 तक तीन गुना बढ़कर 33.10 करोड़ हो जाएगी। इस रिपोर्ट के लिए केपीएमजी इंडिया ने इस वर्ष औद्योगिक क्षेत्र, आईटी बीपीओ, ऑटोमोटिव, स्वास्थ्य, वित्तीय सेवा, उपभोक्ता बाजार साहित विभिन्न क्षेत्रों की कंपनियों की पेंशन योजनाओं को जानने के लिए कर्मचारी पेंशन योजना सर्वेक्षण कराया है। इस सर्वे के लिये 167 व्यापारिक उद्यमों ने अपना जबाव दिया।

इस सर्वे में ज्यादातर कर्मचारियों का मानना था कि कर्मचारियों के सेवानिवृत्ति योजनाओं पर ज्यादा जोर दिए जाने की आवश्यकता है। जबाव देने वालों के आधार पर सर्वे बताता है कि नेशनल पेंशन स्कीम ऑफ द पेंशन फण्ड रेगुलेटरी एण्ड डेवलपमेंट अथॉरिटी के लिए कर प्रणाली में फायदा प्राथमिक कारण है।

केपीएमजी के साझेदार एवं प्रमुख परिजाद सिरवाला कहते हैं, “पेंशन क्षेत्र के इस बढ़े अंतर को ध्यान में रखते हुए दोनों पेंशन धारकों, नियामकों, ईपीएफओ (इम्पलॉयर्स प्रोविडेंट फंड ऑगिनाईजेशन) और पीएफआरडीए के साथ-साथ सरकार और उद्योगों को एक साथ आने की और पेंशन व्यवस्था को भारत में व्यापक और सतत बनाने की जरूरत है।” सिरवाला कहते हैं कि भारत में पेंशन योजना सुधारों के लिए पर्याप्त संस्थागत प्रयास करने की आवश्यकता है।

फिक्की-केपीएमजी की रिपोर्ट साफ दिखाती है कि भारत में 60 से अधिक आयु वाले लोगों की संख्या 2010 से 2050 तक तीन गुना बढ़कर 33.10 करोड़ हो जाएगी। अगर ऐसा होता है तो इससे राजस्व पर काफी असर पड़ेगा। जो देश की अर्थवयस्था के लिए भी ठीक नहीं माना जा सकता। अब देखना होगा कि इस में दिए गए पहलूओं पर मोदी सरकार क्या कुछ कर पाती है।

केंद्रीय कर्माचारियों को मोदी सरकार का तोहफा; महंगाई भत्ते में 2 फीसदी की वृद्धि

'मोगल' में गुलशन कुमार की भूमिका में नजर आएंगे अक्षय कुमार

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App