ताज़ा खबर
 

नई पॉलिसी पर Whatsapp ने लिया ये फैसला, रॉकेट की तरह बढ़ गई मार्क जुकरबर्ग की संपत्ति

अपने प्राइवेसी पॉलिसी बदलावों को लेकर Whatsapp को भारत सहित वैश्विक स्तर पर आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है।

facebook, whatsapp, mark zukarbargWhatsapp ने प्राइवेसी पॉलिसी में बदलाव (अपडेट) को 15 मई तक के लिए टाल दिया है। (Photo-indian express )

भारत समेत दुनियाभर में विरोध के बाद अब Whatsapp ने प्राइवेसी पॉलिसी में बदलाव (अपडेट) को 15 मई तक के लिए टाल दिया है। इस फैसले का फायदा फेसबुक के फाउंडर मार्क जुकरबर्ग को मिला है।

दरअसल, मार्क जुकरबर्ग की संपत्ति में बढ़ोतरी हुई है। ब्लूमबर्ग बिलेनियर इंडेक्स के मुताबिक मार्क जुकरबर्ग दुनिया के पांचवें दौलतमंद शख्स बने हुए हैं। मार्क जुकरबर्ग के नेटवर्थ में 2 बिलियन डॉलर से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है। वहीं, कुल संपत्ति 96 बिलियन डॉलर के करीब है। आपको बता दें कि Whatsapp की नई पॉलिसी की वजह से मार्क जुकरबर्ग की संपत्ति में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही थी।

बता दें कि फेसबुक के स्वामित्व वाले ऐप Whatsapp ने प्राइवेसी पॉलिसी में बदलाव (अपडेट) को 15 मई तक के लिए टाल दिया है। अपने प्राइवेसी पॉलिसी बदलावों को लेकर Whatsapp को भारत सहित वैश्विक स्तर पर आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है।

दुनियाभर में इस बात को लेकर चिंता जताई जा रही है कि Whatsapp यूजर्स के डेटा को अपनी मूल कंपनी फेसबुक से साझा कर सकती है। यह घटनाक्रम इस दृष्टि से महत्वपूर्ण है कि भारत Whatsapp के लिए सबसे बड़े बाजारों में से है। भारत में व्हॉट्सएप के यूजर्स की संख्या 40 करोड़ से अधिक है।

Whatsapp ने क्या कहाः Whatsapp ने ब्लॉग पोस्ट में लिखा है कि यूजर्स के लिए नीतिगत अपडेट की शर्तों पर अपनी मंजूरी देने की तिथि को आगे बढ़ाया जा रहा है।

Whatsapp ने ब्लॉग पोस्ट में कहा, ‘‘किसी का भी खाता आठ फरवरी को निलंबित या बंद नहीं किया जाएगा। हम Whatsapp पर निजता और सुरक्षा को लेकर फैली गलत सूचनाओं को दूर करने के लिए और अधिक काम करेंगे। हम लोगों के पास नीति की समीक्षा के लिए धीरे-धीरे जाएंगे। 15 मई से नए कारोबारी विकल्प उपलब्ध होंगे।’’

Next Stories
1 कोरोना के आर्थिक प्रभाव को कम करने में RBI ने की मदद, गवर्नर बोले-आगे और उपायों के लिए भी तैयार
2 सिर्फ 500 रुपये में खुल जाएगा PPF अकाउंट, जानिए आपके लिए क्यों है जरूरी
3 DHFL को खरीदने की रेस में मुकेश अंबानी के समधी सबसे आगे, वोटिंग में अमेरिकी कंपनी को पछाड़ा
ये पढ़ा क्या?
X