ताज़ा खबर
 

EPFO देगा 10 लाख घर और सस्ता लोन, जानिए क्या है स्कीम

केंद्रीय श्रम मंत्री ने कहा कि हम ईपीएफओ सब्सक्राइबर्स के लिए ग्रुप इंश्योरेंस हाउसिंग स्कीम शुरू की। इस स्कीम के तहत चरणबद्ध ढंग से सब्सक्राइबर्स को घर उपलब्ध कराए जाएंगे।

Author नई दिल्ली | April 30, 2017 3:51 PM
प्रतीकात्मक फोटो

कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन (EPFO) अपने सदस्यों को घर मुहैया कराने के लिए हाउसिंग स्कीम शुरू की है। ईपीएफओ ने शहरी विकास मंत्रालय के साथ मिलकर 1 मिलियन (10 लाख) घर बनाने के लिए हाथ मिलाया। ईपीएफओ अगले दो साल में 10 लाख घरों का निर्माण करेगा। इस बात की जानकारी श्रम मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने शनिवार को दी। उन्होंने बताया कि यह फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साल 2022 तक सबको घर दिए जाने के सपने के तहत किया गया है।

एएनआई से बातचीत में केंद्रीय श्रम मंत्री ने कहा कि हम ईपीएफओ सब्सक्राइबर्स के लिए ग्रुप इंश्योरेंस हाउसिंग स्कीम शुरू की। इस स्कीम के तहत चरणबद्ध ढंग से सब्सक्राइबर्स को घर उपलब्ध कराए जाएंगे। ईपीएफओ, शहरी विकास मंत्रालय की मदद से अगले 2 सालों में 10 लाख घरों का निर्माण करेगी। यहीं नहीं उन्होंने राज्य सरकार से घरों के निर्माण के लिए जमीन उपलब्ध कराने की अपील की थी। बंडारू दत्तात्रेय ने कहा कि शहरी विकास मंत्रालय से इस संबंध में बातचीत की जा रही है कि इस स्कीम के तहत आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों (EWS) स्कीम के लाभार्थियों को ब्याज पर सब्सिडी के तौर पर 2.2 लाख रूपए उपलब्ध कराया जाए।

इसी तरह ईपीएफओ में मिडिल इनकम ग्रुप (MIG) और लोवर इनकम ग्रुप (LIG) ग्राहकों को 6 से 12 लाख रुपए तक के लोन अमाउंट में ब्याज पर 3 प्रतिशत इंटरेस्ट सब्सिडी तथा 18 लाख तक के लोन अमाउंट पर 4 पर्सेंट तक इंटरेस्ट सब्सिडी उपलब्ध कराया जाएगा। गौरतलब है कि मोदी सरकार की योजना 2022 तक सभी लोगों को घर उपलब्ध कराने की है। इसे लेकर मोदी सरकार की तैयारियां जोरों पर है।

ईपीएफओ (कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन ) के मेंबर्स के लिए हाउसिंग स्‍कीम से जुड़ा यह प्रोविजन 12 अप्रैल से लागू हो गया है। इससे ईपीएफओ के करीब 4 करोड़ मेंबर्स 4 करोड़ मेंबर्स को फायदा होगा। केंद्र सरकार ने 12 अप्रैल को इस बारे में गजट नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। ईपीएफओ मेंबर इस स्‍कीम के तहत पीएफ से पैसा तभी निकाल पाएंगे, जब वे कम से कम तीन साल से ईपीएफ में कंट्रीब्‍यूट कर रहे हों। इससे कम पीरियड तक कंट्रीब्‍यूशन करने वाले मेंबर स्‍कीम के तहत पैसा नहीं निकाल पाएंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App