ताज़ा खबर
 

पीएफ पर ब्याज दर आठ फीसदी से भी कम करने की सिफारिश, सोमवार को होगा अंतिम फैसला

इससे ईपीएफओ के तहत आने वाले करीब छह लाख नियोक्ताओं को सालाना 1,000 करोड़ रुपए की बचत होगी।
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

केंद्रीय श्रम मंत्री बंडारू दत्तात्रेय की अंतर्गत आने वाला कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) वित्त वर्ष 2016-17 के लिए भविष्य निधि (PF) जमा की ब्याज दर आठ फीसदी से भी कम करने की योजना बना रहा है, हालांकि इसपर अंतिम फैसला सोमवार को फैसला करेगा। ईपीएफओ के न्यासी बोर्ड की सोमवार को बैठक होनी है, जिसमें भविष्य निधि पर ब्याज दर के बारे में फैसला किया जाएगा। मंगलवार को ईपीएफओ की फाइनेंस, इंवेस्टमेंट और ऑडिट कमेटी (FIAC) की मीटिंग हुई थी, भविष्य निधि (PF) जमा की ब्याज दर को कम करने की सिफारिश की गई थी।

सूत्रों ने कहा कि ब्याज दर कम से कम 8.8 प्रतिशत होगी, जो पिछले वित्त वर्ष के लिए तय की गई थी। इसके अलावा ईपीएफओ प्रशासनिक शुल्क को घटाकर कुल वेतन पर 0.65 प्रतिशत करने के प्रस्ताव पर भी विचार करेगा, जो अभी 0.85 प्रतिशत है। इससे ईपीएफओ के तहत आने वाले करीब छह लाख नियोक्ताओं को सालाना 1,000 करोड़ रुपए की बचत होगी।

ईपीएफओ के कंद्रीय भविष्य निधि आयुक्त वी पी जॉय ने कहा, ‘2016-17 के लिए ब्याज दर तय करने का प्रस्ताव ईपीएफओ के निर्णय लेने वाले शीर्ष निकाय केंद्रीय न्यासी बोर्ड (सीबीटी) की बैठक के अजेंडा में है। श्रम मंत्री सीबीटी की अगुवाई करते हैं। जॉय ने कहा कि ईपीएफओ अभी चालू वर्ष के लिए आय के अनुमान पर काम कर रहा है। इस प्रस्ताव को सोमवार को सीबीटी के सामने रखा जाएगा।

19 दिसंबर को होने वाली बैठक में केंद्रीय श्रम मंत्री बंडारू दत्‍तात्रेय की अध्‍यक्षता में EPFO और सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्‍टी (CBT) वित्त वर्ष 2016-17 के लिए EPF की ब्याज दर को लेकर फैसला करेंगे। EPFO के सेंट्रल प्रोविडेंट फंड कमिश्‍नर वी पी जॉय ने बताया कि 19 दिसंबर को होने वाली बैठक की तैयारी हम कर रहे हैं। जॉय ने कहा कि EPFO अभी चालू वर्ष के लिए आय के अनुमान पर काम कर रहा है। इस प्रस्ताव को सोमवार को CBT के समक्ष रखा जाएगा।

15 दिसंबर के बाद नहीं चलेंगे 500 रुपए के पुराने नोट; केंद्र सरकार ने नहीं बढ़ाई समय-सीमा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.