ताज़ा खबर
 

पेंशन खाते का पूरा पैसा बिना आधार कार्ड के भी निकाल सकेंगे ईपीएफओ खाताधारक

अधिकारी ने कहा कि जो सदस्य फॉर्म डी के जरिये अपनी पेंशन को नियत करने का दावा करते हैं, उन्हें आधार संख्या देने की आवश्यकता होगी।

Author नई दिल्ली | February 28, 2017 8:36 PM
कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ)

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ने अंशधारकों को आधार संख्या दिये बिना अपने पेंशन खाते से पूर्ण निकासी की अनुमति दे दी है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘जो सदस्य कोष की निकासी के लिए दावा फॉर्म भरते हैं, उन्हें आधार देने की जरूरत नहीं है। इससे पहले के आदेश में आधार को अनिवार्य किया गया था।’ जिन अंशधारकों की सेवा 10 साल से कम है, वे 10 सी फॉर्म के जरिये पेंशन खाते में जमा पूरी राशि की निकासी के लिये आवेदन कर सकते हैं। हालांकि, अधिकारी ने कहा कि जो सदस्य फॉर्म डी के जरिये अपनी पेंशन को नियत करने का दावा करते हैं, उन्हें आधार संख्या देने की आवश्यकता होगी।

सदस्यों को राहत देने के कारण के बारे में पूछे जाने पर अधिकारी ने कहा, ‘फॉर्म 10सी के तहत आधार संख्या की आवश्यकता से निकासी मामलों के निपटान में कई मुद्दे खड़े होने लगे। अंतत: यह निर्णय किया गया है कि पेंशन निर्धारण हेतू (10 डी फॉर्म के तहत) कुछ समय के लिये आधार को अनिवार्य रखा जाना चाहिए न कि 10सी के तहत निकासी मामले में यह व्यवस्था रखनी चाहिये।’ इससे पहले, जनवरी में कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ने पेंशनभोगियों के साथ-साथ अंशधारकों के लिये विभिन्न सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के तहत लाभ जारी रखने हेतु आधार देने को अनिवार्य कर दिया था।

EPFO का बड़ा फैसला- PF का पैसा हो या लोन, सभी निकासी के लिए भरना होगा सिर्फ एक फॉर्म

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन अपने कर्मचारियों को बड़ी राहत देने के मूड में है। अब आपको अपने पीएफ के पैसे निकालने के लिए की तरह के फॉर्म भरने की जरुरत नहीं होगी। बस एक ही फॉर्म से आपको पीएफ का पैसा मिल जाएगा। ईपीएफओ के उपभोक्ता अब अपने भविष्य निधि खाते से विभिन्न तरह की निकासी एक ही फार्म के माध्यम से पूरा कर सकते हैं। उपयोक्ता एक साझा फार्म के माध्यम से निकासी कर सकते हैं और उन्हें लोन आदि लेने के लिए शादी के निमंत्रण कार्ड जैसे दस्तावेज भी नहीं लगाने होंगे। इस घोषणा के पहले पीएफ से विभिन्न तरह के लोन या निकासी के लिए अलग-अलग फार्म भरने होते थे लेकिन अब उपयोक्ताओं की सुविधा को ध्यान में रखते हुए सभी के लिए एक साझा (कॉमन) फार्म होगा। यह एक पेज का फार्म ‘कंपोजिट क्लेम फार्म’ (आधार) होगा जिसका उपयोग करने के लिए उपयोक्ताओं को दस्तावेजों की मान्यता प्रमाणित (अटेस्टेशन) नहीं करनी होगी।

स्टेटमेंट के मुताबिक जिन ग्राहकों ने अपने आधार और बैंक डिटेल्स यूनिवर्सल अकाउंट नंबर (यूएएन) के पास है वो बिना नियोक्ता के प्रमाण (attestation) के सीधे क्लेम कर सकते हैं। जिन्होंने यूएएन के साथ आधार डिडेल्स नहीं जुड़ी हैं, उन्हें फॉर्म 19, 10C और 31 की जगह पर कम्पोजिट फॉर्म भरना होगा। सिंगल फॉर्म को नियोक्ता से प्रमाणित करने के बाद जमा करना होगा। ईपीएफओ द्वारा पेश किया गया कम्पोजिट क्लेम फॉर्म (आधार/ नॉन आधार) दोनों फॉर्म स्वयं प्रमाणन के साथ आएंगे।

RBI ने नहीं सरकार ने लिया था नोटबंदी का फैसला; 2000 रुपए के नए नोट को मई 2016 में ही दे दी गई थी मंज़ूरी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App