ताज़ा खबर
 

सुस्त अर्थव्यवस्था: सरकार ने झोंक डाले 70 हजार करोड़, कई अर्थशास्त्री बोले- नहीं पड़ेगा कोई असर

चीफ इकोनॉमिस्ट इंद्रनील पान का कहना है कि अभी डिमांड साइड की तरफ से समस्या है जिसके कारण विकास दर कम हो रही है। अब तक जिन उपायों की घोषणा की गई है वह सप्लाई साइड के दिक्कतों को दूर करने वाले हैं। इसलिए इनका कुछ खास प्रभाव नहीं पड़ेगा।

Author नई दिल्ली | Published on: September 16, 2019 12:40 PM
वित्त मंत्री 23 अगस्त से अबतक चार बार प्रेस कॉन्फ्रेंस कर चुकी हैं। (फाइल फोटो)

देश में आर्थिक सुस्ती से निपटने के सरकारी प्रयासों का अभी पूरा असर दिखना बाकी है। भले सरकार साफ तौर पर आर्थिक मंदी की बात को स्वीकार ना करे लेकिन सरकार की तरफ से आर्थिक सुस्ती से निपटने के लिए अलग-अलग सेक्टर्स के लिए 70 हजार करोड़ रुपये की मदद की घोषणा की जा चुकी है।

इसके बावजदू कई अर्थशास्त्रियों का मानना है कि सरकार के इन प्रयासों का कोई अर्थव्यवस्था पर खास असर असर नहीं पड़ेगा। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 14 सितंबर को निर्यातकों के लिए टैक्स रिफंड प्रोग्राम के बारे में कहा कि इससे सरकार के राजस्व में सालाना 50 हजार करोड़ रुपये का भार पड़ेगा।

सरकार ने इस निर्यात को बढ़ावा देने के लिए शुल्क में कटौती का ऐलान भी कर चुकी है। इससे पहले 23 अगस्त को वित्त मंत्री ने बैंकों में 70 हजार करोड़ रुपये की पूंजी डालने, जीएसटी रिफंड और विदेश पोर्टफोलियो निवेशकों पर बढ़े सरचार्ज को कम करने का ऐलान किया था। इसमें स्टार्टअप के लिए एंजेल टैक्स खत्म करना भी शामिल था।

इसके बाद 14 अगस्त को वित्त मंत्री निर्मला सीतारसरकार ने हाउसिंग सेक्टर को गति देने के लिए 10 हजार करोड़ रुपये का फंड बनाने की घोषणा की। इस फंड का प्रयोग देश में लटकी हुई हाउसिंग परियोजनाओं को पूरा करने में किया जा सकेगा। हालांकि, इस फंड का लाभ उन्हीं प्रोजेक्ट को मिलेगा जो एनपीए और एनसीएलटी में ना गए हों। इसके अलावा सरकार ने अगले साल मार्च में मेगा शॉपिंग फेस्टिवल आयोजित करने की भी घोषणा की थी।

एनडीटीवी की खबर के अनुसार सरकार की इन घोषणाओं पर निर्मल बैंग इक्विटी प्राइवेट की अर्थशास्त्री टेरेसा जॉनसन का कहना है कि हाउसिंग की तुलना में निर्यातकों के लिए यह बेहतर है लेकिन यह गेमचेंजर नहीं होने जा रहा है। हाउसिंग डिमांड को बढ़ाने के लिए कोई महत्वपूर्ण उपाय नहीं किए गए हैं। इससे रियल स्टेट के स्टॉक्स पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

कंफेडरेशन ऑफ रियल स्टेट डेवलपर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के चेयरमैन जे.शाह का कहना है कि लगातार आर्थिक झटकों के बाद से सरकार के इस कदम से घरों की बिक्री बढ़ने वाली नहीं है। आईडीएफसी फर्स्ट बैंक के चीफ इकोनॉमिस्ट इंद्रनील पान का कहना है कि अभी तक डिमांड साइड की तरफ से समस्या है जिसके कारण विकास दर कम हो रही है और महंगाई बढ़ रही है। अभी तक जिन उपायों की घोषणा की गई है वह सप्लाई साइड के दिक्कतों को दूर करने वाले हैं। इसलिए इनका कुछ खास प्रभाव नहीं पड़ेगा।

मालूम हो कि पिछली तिमाही में अर्थव्यवस्था की विकास दर घट कर 5 फीसदी पर आ गई है। इसके बाद से मोदी सरकार लगातार विपक्ष के निशाने पर है। पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने मौजूदा आर्थिक संकट के लिए नोटबंदी को जिम्मेदार ठहराया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 पाकिस्तानी एयरबेस के बंद होने से Air India को हुआ 4,600 करोड़ रुपए का घाटा
2 एक्सपर्ट्स की रायः अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहन देने के उपायों से बाजार पर पड़ेगा सकारात्मक असर
3 यूपी के उप मुख्यमंत्री का बयान, कहा- देश में आर्थिक मंदी नहीं बल्कि ‘सुस्ती’ है