ताज़ा खबर
 

धोखाधड़ी केस में Ranbaxy के पूर्व प्रमोटर शिविंदर सिंह समेत 4 अरेस्ट

सिंह के खिलाफ यह ऐक्शन Religare Enterprises Limited की शिकायत पर लिया गया है। शिविंदर के अलावा पूर्व सीएमडी सुनील गोधवानी, कवि अरोड़ा और अनिल सक्सेना गिरफ्तार किए गए हैं।

Author नई दिल्ली | Updated: October 10, 2019 7:28 PM
दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान शिविंदर सिंह। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः अमित मेहरा)

Ranbaxy और Fortis Healthcare के पूर्व प्रमोटर शिविंदर सिंह को गुरुवार (10 अक्टूबर, 2019) को बड़ा झटका लगा है। Religare Enterprises Limited की शिकायत पर उन्हें समेत चार लोगों को 740 करोड़ रुपए के कथित धोखाधड़ी के मामले में दिल्ली पुलिस की इकनॉमिक ऑफेंसेज विंग (EOW) ने अरेस्ट कर लिया है। शिविंदर के अलावा पूर्व सीएमडी सुनील गोधवानी, कवि अरोड़ा और अनिल सक्सेना गिरफ्तार किए गए हैं, जबकि सिंह के भाई मलविंदर सिंह को लुक-आउट नोटिस जारी किया गया है।

दरअसल, Religare Finvest Limited ने दिसंबर 2018 में इस बाबत शिकायत दी थी, जिसकी जांच EOW के जिम्मे है। रेलिगेयर का सिंह पर आरोप है कि उन्होंने फंड की हेर-फेर और गड़बड़ी की। मामले में इसी साल मई में भी एक केस दर्ज हुआ था। आरोप है कि सिंह के कंपनी का निदेशक रहते हुए कर्ज लिया गया, पर लोन ली गई रकम का बाकी कंपनियों में निवेश कर दिया गया था।

समाचार एजेंसी पीटीआई-भाषा को एक सीनियर पुलिस अधिकारी ने बताया, “आरएफएल में मैनेजमेंट बदला। नए मैनेजमेंट ने जब काम संभाला तो उसने पाया कि एक बार कर्ज लिया गया और उस रकम का सिंह और उनके भाई से जुड़ी अन्य कंपनियों में निवेश कर दिया गया। मैनेजमेंट ने ECW में शिकायत की, जिसके बाद एफआईआर दर्ज हुई।” बता दें कि शिविंदर के भाई मलविंदर फरार हैं।

सिंह की गिरफ्तारी से दो महीने पहले प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मॉरीशस लीक्स (मनी लॉन्ड्रिंग केस में) के बाद उनके विभिन्न ठिकानों पर छापेमारी की थी। दरअसल, इंडियन एक्सप्रेस और इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स (ICIJ) की संयुक्त जांच-पड़ताल (Mauritius Leaks और Paradise Papers को लेकर) से जुड़ी रिपोर्ट 23 जुलाई, 2019 को जारी हुई थी।

जांच में पता लगा था कि पूरी तरह से भारतीय एंटिटी Religare Capital Markets Ltd (RCML) ने साल 2008 में मॉरीशस में Religare Capital Markets International (Mauritius) Ltd नाम से निवेश किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 बिजली वितरण कंपनियों पर 73 हजार करोड़ रुपये का कर्ज! स्पेशल लोन देने की तैयारी में मोदी सरकार
2 PMC Scam: खफा बैंक ग्राहकों से मिलीं FM निर्मला सीतारमण, बोलीं- बिल लाएगी नरेंद्र मोदी सरकार
3 आर्थिक मोर्चे पर नरेंद्र मोदी सरकार को झटका, Moody’s ने GDP अनुमान घटाकर किया 5.80%