ताज़ा खबर
 

लोगों को जोड़ने वाले कार्यक्रम मत रोकें : फेसबुक

अपने ‘फ्री बेसिक’ अभियान का बचाव करते हुए फेसबुक ने गुरुवार को कहा कि लोगों को जोड़ने में मदद करने वाला कार्यक्रम रोका या सीमित नहीं किया जाना चाहिए..

Author नई दिल्ली | December 10, 2015 23:35 pm
मध्‍य प्रदेश के खरगौन जिले में एक सिरफिरे व्‍यक्ति ने पत्‍नी को बेचने के लिए फेसबुक पर स्‍टेटस डाल दिया।

अपने ‘फ्री बेसिक’ अभियान का बचाव करते हुए फेसबुक ने गुरुवार को कहा कि लोगों को जोड़ने में मदद करने वाला कार्यक्रम रोका या सीमित नहीं किया जाना चाहिए। फेसबुक की यह प्रतिक्रिया दूरसंचार नियामक ट्राई के परामर्श पत्र की पृष्ठभूमि में आई है। डेटा सर्विस के लिए अलग-अलग कीमत के बारे में यह परामर्श पत्र आया है जिसके तहत दूरसंचार कंपनियां कुछ वेबसाइटों तक पहुंच के लिए मुफ्त या शुल्क में छूट की पेशकश करती हैं। फेसबुक ने भारत में कुछ निश्चित एप्लीकेशन और वेबसाइट मुफ्त में उपलब्ध कराने के लिए आरकाम के साथ ‘फ्री बेसिक’ पहल शुरू की है। पूर्व में इसे ‘इंटरनेट डाट ओरजी’ के नाम से जाना जाता था।

फेसबुक के उपाध्यक्ष (मोबाइल एंड ग्लोबल एक्सेस पालिसी) केविन मार्टिन ने एक बयान में कहा, ‘हम उम्मीद करते हैं कि इस परिचर्चा में जो शामिल हैं और जो उस कार्यक्रम को रोकने या सीमित करने के परिणाम पर विचार करेंगे जिससे लोगों को जुड़ने और अपना जीवन सुधारने में मदद मिलती हैं, उसके व्यापक परिणाम पर विचार करेंगे।’

फेसबुक ने कहा कि वह भारत के लिए सस्ता और नवप्रवर्तशील इंटरनेट पहुंच के सिद्धांत को कायम रखने के लिए ट्राई के साथ काम करेगी। भारतीय दूरसंचार नियामक एवं प्राधिकरण (ट्राई) ने संबद्ध पक्षों से कहा है कि अलग-अलग कीमत की अनुमति दिए जाने के मामले में क्या कदम उठाया जाए जिससे किसी प्रकार का भेदभाव न हो और पारदर्शिता, सस्ता इंटरनेट, प्रतिस्पर्धा, बाजार प्रवेश व नवप्रवर्तन का सिद्धांत सुनिश्चित हो।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App