ताज़ा खबर
 

डिज्नी ने 32 हजार कर्मचारियों की छंटनी का लिया फैसला, 2021 की पहली छमाही में जाएंगी नौकरियां, बताई यह वजह

कोरोना संकट के चलते दुनिया भर में करोड़ों लोगों को अपनी नौकरियां गंवानी पड़ी हैं। इस संकट के चलते अकेले भारत में ही 4 करोड़ लोगों को असंगठित क्षेत्र में अपनी नौकरियां खोनी पड़ी हैं। यह आंकड़ा मार्च से सितंबर तक का है।

disney waltडिज्नी वॉल्ट ने लिया 32 हजार लोगों की छंटनी का फैसला

दुनिया की दिग्गज एंटरटेनमेंट कंपनी वॉल्ट डिज्नी ने साल 2021 की पहली छमाही में 32 हजार लोगों को नौकरी से हटाने का फैसला लिया है। कंपनी का कहना है कि कोरोना वायरस के संकट के चलते ग्राहकों की बड़ी कमी देखने को मिल रही है। ऐसे में इस दौर में छंटनी करना जरूरी हो गया है। कंपनी ने इससे पहले 28 हजार लोगों की ही छंटनी करने की बात कही थी। कंपनी ने सिक्योरिटीज ऐंड एक्सचेंज को दी गई जानकारी में कहा है कि उसे 2021 की पहली छमाही में यह छंटनी करने का फैसला लिया है। इससे पहले इसी महीने कंपनी ने कहा था कि वह दक्षिणी कैलिफॉर्निया में स्थित थीम पार्क से कुछ और वर्कर्स को हटाने की तैयारी में है।

दरअसल कोरोना संकट से निपटने के लिए लागू पाबंदियों के चलते थीम पार्क बंद हैं और इसके चलते बड़े पैमाने पर कंपनी को रेवेन्यू का नुकसान उठाना पड़ रहा है। इसके अलावा फ्लोरिडा और अमेरिका से बाहर स्थित अन्य थीम पार्कों को खोल दिया गया है, लेकिन कोरोना के चलते सोशल डिस्टेंसिंग, टेस्टिंग और मास्क पहनने के नियमों का सख्ती से पालन किया जा रहा है। बीते महीने पैरिस में स्थित डिज्नीलैंड पेरिस को भी बंद करना पड़ा था। दरअसल फ्रांस सरकार ने कोरोना संकट से निपटने के लिए नए सिरे से लॉकडाउन लगाने का फैसला लिया है। इसके चलते डिज्नी ने थीम पार्क को बंद किया है।

हालांकि यूरोपीय देशों और अमेरिका के मुकाबले कंपनी एशियाई देशों में कमोबेश अच्छा कारोबार कर रही है। शंघाई, हॉन्गकॉन्ग और टोक्यों में कंपनी के थीम पार्क खुले रहेंगे। कंपनी ने आधिकारिक रूप से यह जानकारी नहीं दी है कि छंटनी का शिकार होने वाले 32 हजार कर्मचारियों में पूर्व में हटाए गए 28 हजार कर्मचारी भी शामिल होंगे या नहीं। हालांकि कंपनी के सूत्रों ने इस बात की पुष्टि की है कि पूर्व में नौकरी से हटाए गए लोग भी इसमें शामिल हैं।

गौरतलब है कि कोरोना संकट के चलते दुनिया भर में करोड़ों लोगों को अपनी नौकरियां गंवानी पड़ी हैं। इस संकट के चलते अकेले भारत में ही 4 करोड़ लोगों को असंगठित क्षेत्र में अपनी नौकरियां खोनी पड़ी हैं। यह आंकड़ा मार्च से सितंबर तक का है। भले ही फिलहाल भारत में बाजार में सामान्य होने की ओर बढ़ रहा है, लेकिन कोरोना की दूसरी लहर पैदा होने के डर के चलते अनिश्चितता का माहौल बना हुआ है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 भ्रष्टाचार के मामले में भारत का एशिया में सबसे बुरा हाल, 47% लोग बोले- बीते एक साल में बढ़ा है करप्शन
2 भारत पेट्रोलियम के प्राइवेट होने के बाद ग्राहकों को मिल रही सब्सिडी का क्या होगा? सरकार करने वाली है यह उपाय
3 आप अपने चेहरे की मदद से भी डाउनलोड कर सकते हैं आधार कार्ड, जानें- क्या है तरीका और नियम
ये पढ़ा क्या?
X