2000 के उधार से बना ली हजार अरब की दौलत, जानिए कभी मुकेश अंबानी को पछाड़ चुके इस शख्स की कहानी

दिलीप संघवी ने पिता से दो हजार रुपये उधार लेकर सन फार्मा कंपनी की शुरुआत की थी। आज सन फार्मा करीब दो लाख करोड़ रुपये के एककैप वाली कंपनी बन चुकी है।

Dilip Shanghvi Networth
दिलीप संघवी की सन फार्मा आज फार्मा सेक्टर की सबसे बड़ी कंपनी है। (Express Photo by Mahendra Parikh)

दवा कंपनी सन फार्मा (Sun Pharma) के प्रोडक्ट का इस्तेमाल अधिकांश लोगों ने किया होगा। क्या आप इस कंपनी की शुरुआत की कहानी जानते हैं? कंपनी के संस्थापक दिलीप संघवी (Dilip Shanghvi) ने दो हजार रुपये उधार लेकर यह दवा कंपनी शुरू की थी। आज संघवी के पास हजार अरब से ऊपर की दौलत है। एक समय ऐसा भी था, जब संघवी रिलायंस (Reliance) के चेयरमैन मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) को पछाड़कर भारत के सबसे अमीर व्यक्ति (Richest Person Of India) भी बन गए थे।

2000 उधार लेकर Dilip Shanghvi ने शुरू की थी Sun Pharma

गुजरात के एक दवा वितरक के घर में जन्मा यह शख्स एक समय पूरे दवा बाजार का सिरमौर बन जाएगा, कौन जानता था। कोलकाता से ग्रेजुएट करने के तुरंत बाद दिलीप संघवी ने व्यवसाय करने की ठान ली। अरबपतियों की दौलत का आकलन करने वाली पत्रिका फोर्ब्स की मानें तो दिलीप संघवी ने इसके लिए अपने पिता से 200 डॉलर (1983 के दो हजार रुपये) उधार लिए। इसके बाद उन्होंने पांच वितरकों को साथ लेकर दवा कंपनी सन फार्मा की शुरुआत की।

दो लाख करोड़ के करीब है Sun Pharma का MCap

शुरुआत में सन फार्मा सिर्फ मनोरोग की कुछ दवाएं बनाती थी। धीरे-धीरे कंपनी पोर्टफोलियो का विस्तार करते गई। आज कंपनी के पोर्टफोलियो में हजारों प्रोडक्ट शामिल हैं, जिनमें रिवाइटल (Revital) और वॉलिनी (Volini) जैसे आम हो चुके उत्पाद भी शामिल हैं। सन फार्मा शेयर बाजार में लिस्टेड सबसे बड़ी भारतीय दवा कंपनी है। आज कंपनी का मार्केट कैप दो लाख करोड़ रुपये के करीब पहुंच चुका है।

Mukesh Ambani को कभी पछाड़ चुके हैं Dilip Shanghvi

फोर्ब्स के अनुसार, अभी दिलीप संघवी के पास 14.4 अरब डॉलर (करीब 1,076 अरब रुपये) की दौलत है। संघवी अभी भले ही 10 सबसे अमीर भारतीय व्यक्तियों की सूची से बाहर हो गए हों, लेकिन एक ऐसा भी समय था, जब वह कुछ समय के लिए मुकेश अंबानी को हटाकर सबसे अमीर भारतीय बन गए थे। यह 2015 की बात है। हालांकि अंबानी की दौलत इसके बाद रफ्तार से बढ़ी और आज वह भारत ही नहीं बल्कि एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति बने हुए हैं।

Ranbaxy Laboratories के अधिग्रहण ने बनाया सिरमौर

दिलीप संघवी और सन फार्मा को व्यवसाय के मोर्चे पर 2014 में बड़ी सफलता हाथ लगी थी। तब संघवी ने चार अरब डॉलर में अपनी प्रमुख प्रतिद्वंदी कंपनी रैनबेक्सी लैबोरेटरीज का अधिग्रहण कर लिया था। इस सौदे ने संघवी को भारतीय फार्मा सेक्टर का निर्विवाद राजा बना दिया।

इसे भी पढ़ें: पुराने जूते बेचकर 25 साल की उम्र में करोड़पति बन गए दो दोस्त, रतन टाटा और ओबामा भी हैं फैन

कोरोना काल में 17 प्रतिशत बढ़ी Dilip Shanghvi की दौलत

कोरोना महामारी कई लोगों के लिए अभिशाप बनकर आई, लेकिन कुछ लोगों को इससे खूब फायदा हुआ। दिलीप संघवी भी इन्हीं कुछ लोगों में से एक है। साल 2020 में उनकी संपत्ति में 17 प्रतिशत यानी 12,500 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई। बीते एक साल में सन फार्मा का शेयर 60 प्रतिशत से अधिक चढ़ा है। सात अक्टूबर 2020 को कंपनी का शेयर 511.65 रुपये का था, जो सात अक्टूबर 2021 को 823 रुपये पर बंद हुआ। इस तरह से यह 60.85 प्रतिशत की तेजी हुई।

पढें व्यापार समाचार (Business News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
MHT CET 2016: mhtcet2016.co.in से डाउनलोड करें एडमिट कार्डMHT CET, MHT CET 2016, MHT CET admit card, mhtcet2016.co.in, MH CET Hall Ticket, MH CET Hall Ticket download, Maharashtra Common Entrance Test, maharashtra cet 2016 admit card, maharshtra medical cet admit card, maharashtra engineering cet 2016, CET 2016 admit card, MHT Admit Card 2016, MHT CET Admit card download
अपडेट