ताज़ा खबर
 

यूपी के उप मुख्यमंत्री का बयान, कहा- देश में आर्थिक मंदी नहीं बल्कि ‘सुस्ती’ है

बैंकों के भारी एनपीए के लिए 2004 से 2014 के बीच केन्द्र में रही संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार को जिम्मेदार बताते हुए उपमुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि इस सरकार ने ठीक से जांचे—परखे बगैर लोगों को कर्ज दिया, जिसकी वजह से बैंकों का यह हाल हुआ।

Author लखनऊ | Updated: September 15, 2019 2:34 PM
उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉक्टर दिनेश शर्मा

उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉक्टर दिनेश शर्मा ने देश की अर्थव्यवस्था के हालात को ”आर्थिक सुस्ती” करार देते हुए कहा कि केन्द्र सरकार के ताजा कदमों से अर्थव्यवस्था में ”चुस्ती” आ जाएगी। शर्मा ने बातचीत में कहा कि देश की अर्थव्यवस्था की स्थिति को आर्थिक मंदी नहीं बल्कि ”आर्थिक सुस्ती” कहा जाना चाहिये। इस वक्त अमेरिका और यूरोपीय देशों में मंदी का दौर चल रहा है, जिसका परोक्ष असर भारत पर पड़ रहा है।

उन्होंने दावा किया कि निर्यात को बढ़ावा देने और आयात कम करने के साथ—साथ लोगों को कम दाम पर स्वदेशी वस्तुएं उपलब्ध कराने से अर्थव्यवस्था में नयी जान फूंकी जा सकती है। शर्मा ने कहा कि केन्द्र की भाजपा सरकार द्वारा कई बैंकों के परस्पर विलय और भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा 1.76 लाख करोड़ रुपये का अतिरिक्त संचय सरकार को दिये जाने से अर्थव्यवस्था में व्याप्त बीमारी दूर होगी। इससे नये उद्यमियों को कर्ज देने और सम्पूर्ण परिदृश्य में सुधार करने में मदद मिलेगी।

बैंकों के भारी एनपीए के लिए 2004 से 2014 के बीच केन्द्र में रही संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार को जिम्मेदार बताते हुए उपमुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि इस सरकार ने ठीक से जांचे—परखे बगैर लोगों को कर्ज दिया, जिसकी वजह से बैंकों का यह हाल हुआ। उन्होंने दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का 5,00,000 करोड़ (5 ट्रिलियन) डॉलर अर्थव्यवस्था का लक्ष्य जरूर पूरा होगा और इसमें उत्तर प्रदेश की भागीदारी 1,00,000 करोड़ (एक ट्रिलियन) डॉलर की होगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Reliance Industries का बड़ा कदम, बीपी संग मिलकर किया कनाडाई कंपनी की 10% हिस्सेदारी का अधिग्रहण
2 SBI: बदलने वाले हैं नियम, जानें मिनिमम अकाउंट बैलेंस और कितनी है पेनल्टी
3 सऊदी अरामको पर ड्रोन हमला: तेल उत्पादन को बड़ा झटका, जानें इस कंपनी का मुकेश अंबानी की RIL से कनेक्शन