ताज़ा खबर
 

एसोचैम का रिसर्च- नोटबंदी से नहीं रुकेगा काला धन, जिनसे रुकेंगे, सरकार ने नहीं उठाए वे कदम

अगर टैक्‍स एजंसियां विभिन्‍न खातों के जरिए किए गए धन के फर्जीवाड़े का पता लगाने में नाकाम रहती हैं तो शोध सही साबित हो सकता है।

Author Published on: January 17, 2017 2:24 PM
भाजपा की बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। उन्‍होंने 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा की थी। (Source: PTI)

एसोचैन में बड़ी मुद्राओं के नोट बंद करने के फैसले पर शोध किया है। संस्‍था ने कहा है कि नोटबंदी से भले ही नकदी में मौजूद काला धन समाप्‍त हो गए मगर इससे गलत तरीके से कमाई गई संपत्ति जैसे सोना और रियल एस्‍टेट पर ज्यादा असर नहीं होगा। नोटों को बंद करने से भी भविष्‍य में बेनामी संपत्ति न पैदा होने पर रोक नहीं लग पाएगी। शोध में कहा गया है, ”उच्‍च मुद्रा के नोट अवैध घोषित करने से जमा काले धन पर कार्रवाई होती है, मगर भविष्‍य के काले धन पर रोक नहीं लग पाती। आगे काला धन पैदा न हो, इसलिए लिए जमीनी लेन-देन पर स्‍टैंप ड्यूटी कम करने, रियल एस्‍टेट के इलेक्‍ट्रॉनिक रजिस्‍ट्रेशन जैसे सुधार लाए जा सकते हैं।” शोध में कहा गया है कि काले धन को सफेद धन से अलग करना बेहद मुश्किल है क्‍योकि पहचान बदलती रहती है। किसी चीज को खरीदने में खर्च किया गया धन काला हो जाता है अगर दुकानदार सेल्‍स टैक्‍स नहीं चुकाता।

ज्‍यादातर खर्च बेनामी संपत्ति में होता है, जो लोगों के हाथ में जाने पर फिर वैध आय हो जाता है। रियल एस्‍टेट और कमोडिटी बाजार में बेनामी डील्‍स के चलते असली खरीदार या बेचने वाली को ढूंढ पाना मुश्किल हो जाता है। ईपीव्‍यू जर्नल के हवाले से एसोचैम ने शोध में कहा है, ”अगर नोटबंदी से अवैध करंसी का वर्तमान स्‍टॉक खत्‍म हो भी जाता है, जल्‍द ही इसे हटा दिया जाएगा, जब तक वैध और अवैध सौदों के बीच ऐसे कॉन्‍टैक्‍ट प्‍वॉइंट्स मौजूद हैं।”

एसोचैम ने कहा कि अघोषित आय और संपत्ति की समस्‍या की जड़ पर चोट करनी चाहिए। सरकार को मार्केट वैल्‍यु के बीच अंतर को कम करना चाहिए ताकि बेनामी लेन-देन की जगह कम हो। शोध में कहा गया है, ”बंद की गई करंसी के पूरे वापस बैंकिंग सिस्‍टम में लौटने के आसार, चाहे वह सही या गलत तरीके से हो, से पता चलता है कि नोटबंदी ने गलत तरीके से कमाई गई नकदी पूरी तरह शायद खत्‍म न हो।”

अगर टैक्‍स एजंसियां विभिन्‍न खातों के जरिए किए गए धन के फर्जीवाड़े का पता लगाने में नाकाम रहती हैं तो शोध सही साबित हो सकता है।

RBI ने नहीं सरकार ने लिया था नोटबंदी का फैसला:

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 वेनेजुएला: 500 से 20000 बोलिवर के नए बैंक नोट जारी, महंगाई से निपटने के लिए सरकार ने उठाया कदम
2 सोना 0.27% तेज़ होकर ₹28500 के पार, चांदी भी 0.52% मज़बूत
3 75 अंक की मजबूती से खुला सेंसेक्स, बाजार पर रहा अच्छा असर
जस्‍ट नाउ
X