ताज़ा खबर
 

क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन ने इस साल दिया 123% तक का रिटर्न, जानिए आप कैसे कर सकते हैं निवेश

बिटकॉइन की कीमतों में अपने उच्च स्तर से 50% से ज्यादा की गिरावट आ गई है। इसके अलावा अन्य क्रिप्टोकरेंसी में भी गिरावट दिख रही है। डाऊ जोंस समेत अन्य शेयर बाजारों में गिरावट का भी असर क्रिप्टोकरेंसी पर असर दिख रहा है।

Representations of cryptocurrency Bitcoin are seen in this picture illustration taken June 7, 2021. REUTERS/Edgar Su/Illustration

बिटकॉइन दुनिया की सबसे पॉप्युलर क्रिप्टोकरेंसी है। इस साल बिटकॉइन ने अपने निवेशकों को जबरदस्त कमाई कराई है। लेकिन बीते कई महीनों से बिटकॉइन की कीमतों में लगातार गिरावट हो रही है। इसका कारण कई देशों की सरकारों की ओर से क्रिप्टोकरेंसी पर नियंत्रण लगाने और इसकी माइनिंग पर उठे सवाल हैं।

इस साल की शुरुआत के पहले चार महीनों में बिटकॉइन ने अपने निवेशकों को जबरदस्त रिटर्न दिया है। 1 जनवरी 2021 को बिटकॉइन की कीमत 29,001 डॉलर प्रति यूनिट थी। यह 14 अप्रैल 2021 को अपने उच्चतम स्तर 64,863 डॉलर प्रति यूनिट पर पहुंच गई थी। यानी इसने अपने निवेशकों को 1 जनवरी से 14 अप्रैल 2021 के दौरान 123% का रिटर्न दिया था। अप्रैल में अमेरिका की कार निर्माता कंपनी टेस्ला ने बिटकॉइन में 1 अरब डॉलर से ज्यादा का निवेश किया था। इससे अन्य निवेशकों में भरोसा जगा था और बिटकॉइन की मांग बढ़ी थी। इसी वजह से बिटकॉइन की कीमतें अपने उच्च स्तर पर पहुंची थीं।

अप्रैल के बाद हो रही लगातार गिरावट: 14 अप्रैल को उच्च स्तर पर पहुंचने के बाद बिटकॉइन की कीमतें लगातार गिर रही हैं। अब तक बिटकॉइन की कीमतों में 50% से ज्यादा की गिरावट आ गई है। मंगलवार को दोपहर करीब 12.30 बजे बिटकॉइन की कीमत 6.22% की गिरावट के साथ 29,831.70 डॉलर प्रति यूनिट पर कारोबार कर रही थी। इसके साथ ही बिटकॉइन के मार्केट कैप में भारी कमी दर्ज की गई है। अप्रैल में बिटकॉइन का मार्केट कैप 1 ट्रिलियन डॉलर के आंकड़े को पार कर गया था। अब यह 55 हजार करोड़ डॉलर के पास आ गया है।

इस वजह हो रही गिरावट: अभी क्रिप्टोकरेंसी पर सरकारों का नियंत्रण नहीं है। गिन-चुने देशों ने ही इसे मान्यता दी है। दुनियाभर में क्रिप्टोकरेंसी में निवेश का चलन बढ़ रहा है। इस कारण हाल के दिनों में दुनियाभर की सरकारें क्रिप्टोकरेंसी को लेकर नियम बनाने में जुटी हैं। भारत समेत कई देशों में क्रिप्टोकरेंसी पर बैन लगाने को लेकर बहस छिड़ी हुई है। इसका निवेशकों पर बुरा असर पड़ रहा है। बैन की आशंका को लेकर निवेशक क्रिप्टोकरेंसी में लगे निवेश को निकालने में जुटे हैं। इस कारण इसमें गिरावट हो रही है। टेस्ला के सीईओ एलन मस्क कई बार बिटकॉइन की माइनिंग में इस्तेमाल होने वाली एनर्जी पर सवाल उठा चुके हैं। इसका भी नेगेटिव असर हो रहा है। अमेरिका के डाऊ जोंस समेत दुनियाभर के शेयर बाजारों में होने वाली उठापटक का भी क्रिप्टोकरेंसी पर असर पड़ता है।

अन्य क्रिप्टोकरेंसी का हाल: ऐसा नहीं है कि केवल बिटकॉइन को ही गिरावट का सामना करना पड़ रहा है। अन्य क्रिप्टोकरेंसी जैसे इथेरियम, इथेरियम क्लासिक, बिनाका कॉइन, डॉगक्वाइन समेत अधिकांश क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों में गिरावट आ रही है। मंगलवार को इथेरियम 7.86% की गिरावट के साथ 1762 डॉलर प्रति यूनिट, टीथर 0.02% की गिरावट के साथ 1 डॉलर प्रति यूनिट, बिनाका कॉइन 12.03% की गिरावट के साथ 266 डॉलर प्रति यूनिट, डॉगक्वाइन 7.58% की गिरावट के साथ 0.1662 डॉलर प्रति यूनिट, इथेरियम क्लासिक 7.18% की गिरावट के साथ 39.06 डॉलर प्रति यूनिट पर कारोबार कर रही हैं।

ऐसे कर सकते हैं क्रिप्टोकरेंसी में निवेश: आप किसी भी क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज की वेबसाइट के जरिए इसमें निवेश कर सकते हैं। सबसे पहले आपको एक्सचेंज पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इसके बाद आप किसी भी तरीके से भुगतान करके क्रिप्टोकरेंसी खरीद सकते हैं। सभी एक्सचेंज अपने ग्राहकों से कमीशन लेते हैं। इसलिए क्रिप्टोकरेंसी में निवेश से पहले एक्सचेंज कमीशन की अच्छी तरह से जांच कर लें। क्रिप्टोकरेंसी में निवेश से पहले अपने देश के नियम-कानूनों की भी अच्छी तरह से जांच पड़ताल कर लें।

क्या है क्रिप्टोकरेंसी?: क्रिप्टोकरेंसी एक प्रकार की वर्चुअल करेंसी है। इसे डिजिटल करेंसी भी कहा जाता है। इसके जरिए लेन-देन भी किया जा सकता है। पूरी दुनिया में इस समय करीब 4 हजार क्रिप्टोकरेंसी हैं। बिटकॉइन दुनिया की सबसे पॉपुलर क्रिप्टोकरेंसी है। भारत में भी क्रिप्टोकरेंसी का चलन तेजी से बढ़ रहा है। भारत में क्रिप्टोकरेंसी निवेशकों की संख्या 1 करोड़ के पार पहुंच गई है। इनका कुल निवेश 15 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा है।

Next Stories
1 4 हजार करोड़ की संपत्ति के मालिक हैं राज कुंद्रा, शिल्पा शेट्टी से 10 गुना ज्यादा है कमाई
2 घर बैठे कर सकते हैं आधार नंबर के असली-नकली होने की पहचान, बेहद आसान है पूरी प्रक्रिया
3 कर्ज में डूबे अनिल अंबानी के लिए फिर आई बुरी खबर, 1629 करोड़ रुपए में बिकी एक और कंपनी
ये पढ़ा क्या?
X