ताज़ा खबर
 

देश के बाहर फैलाएंगे कारोबार, ‘मेड इन इंडिया’ को अमेरिका और ब्रिटेन पहुंचाने में जुटे सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर ने कहा था कि मेरे जीवन की दूसरी पारी में, 75 यार्ड की बाउंडरी नहीं है जिसे हमें सेट करने की जरूरत है। हमारे पास बाजार और व्यापार के मामले में एक बड़ा प्लेफील्ड है।

Author Updated: August 2, 2018 5:23 PM
उत्पादों को 75 आउटलेट के माध्यम से भी बेचा जाता है।

पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर अपने कपड़ों के ब्रांड ट्रू ब्लू को अब विदेशी बाजार अमेरिका और लंदन में ले जाना चाहते हैं। क्रिकेटर का कहना है कि यह बहुत आसान है। “जब भी मैं यात्रा करता हूं, मैं कपड़ों में मैड इन इंडिया टैग देखने पर आश्चर्यचकित नहीं होता हूं। तो उन बाजारों में भारतीय ब्रांड क्यों नहीं?” ट्रू ब्लू एक मेन्सवेअर लेबल है जो वेस्टन स्टाइल के साथ भारतीय परिधान है। इसे 2016 में लॉन्च किया गया था और देश भर में आठ स्टोर हैं। उत्पादों को 75 आउटलेट के माध्यम से भी बेचा जाता है। तेंदुलकर ने कहा कि उनकी क्रिएटिव टीम काशी से कश्मीर और राजस्थान से इन क्षेत्रों की “ऊर्जा” भरने और संग्रह बनाने के लिए व्यापक रूप से यात्रा करती है। उन्होंने यह भी कहा कि वह व्यक्तिगत रूप से डिजाइन प्रक्रिया में शामिल हैं। तेंदुलकर ने कहा कि वह अपना इनपुट देते हैं और वह भी एक ही कपड़े के कलर से स्टाइल तक में कम्फर्टेबल रहते हैं।

ब्रांड उस चीज से काफी नहीं है जो लोगों ने उससे अपेक्षा की थी। ट्रू ब्लू एक क्रिकेट ब्रांड नहीं है, शायद, तेंदुलकर ने लोगों को ब्रांड माना था। उन्होंने आगे कहा कि उन्हें एक वैश्विक ब्रांड के रूप में पहचाने जाने की जरूरत है न केवल क्रिकेट खेलने वाले राष्ट्र के लिए। तेंदुलकर ने कहा था कि, “मेरे जीवन की दूसरी पारी में, 75 यार्ड की बाउंडरी नहीं है जिसे हमें सेट करने की जरूरत है। हमारे पास बाजार और व्यापार के मामले में एक बड़ा प्लेफील्ड है।”

अरविंद ब्रांड एंड लाइफस्टाइल के सीईओ जे सुरेश ने कहा कि ट्रू ब्लू के पास वूमन्स वीयर के क्षेत्र में भी शामिल होने की संभावना है। अरविंद ट्रू ब्लू का दूसरा हिस्सा है, जो तेंदुलकर और कंपनी के बीच जॉइंट वेंचर है। 1931 में देश की सबसे बड़ी कपड़ा कंपनी अरविंद की स्थापना हुई थी। अरविंद ग्रुप के पास फ्लाइंग मशीन, एक्सकेलिबर और रग्गर्स जैसे ब्रांडों का मालिकान है, ट्रू ब्लू देश से बाहर निकलने वाला उनका पहला लेबल है। ट्रू ब्लू के लॉन्च के दौरान, अरविंद समूह ने कहा कि यह उम्मीद है कि लेबल अगले पांच वर्षों में 200-300 करोड़ रुपये कमाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सबसे बड़ी स्पेक्ट्रम बिक्री की तैयारी- 8,293 मेगाहर्ट्ज की रेडियोवेव के लिये 5.77 लाख करोड़ की नीलामी योजना
2 आईएनएक्स मामला: पी. चिदंबरम की गिरफ्तारी पर 28 सितंबर तक हाई कोर्ट की रोक
3 बंद हो सकता है ऑनलाइन मार्केटिंग में छूट का खेल, राष्ट्रीय मसौदा तैयार