ताज़ा खबर
 

CREDIT CARD बंद करवाना पड़ सकता है महंगा, जुर्माने से लेकर सिबिल स्कोर पर खतरा!

अगर आप भी अपना क्रेडिट कार्ड बंद करवाने की सोच रहे हैं तो कुछ बुनियादी जानकारियां हैं जिन्हें जानकार आप नुकसान से बच सकते हैं।

Atm pin, pos machine, contact less paymentप्रतीकात्मक तस्वीर। (Indian express)

अगर हमें तुरंत पैसों की जरूरत हो तो क्रेडिट कार्ड एक बेहतर विकल्प माना जाता है। कई बार ऐसा होता है कि रिश्तेदार या दोस्त हमारी मदद नहीं कर पाते। ऐसे में क्रेडिट कार्ड का सहारा हमे वित्तीय मुसीबतों से निकालता है। हालांकि इसके बदले बैंक ग्राहकों से मोटी रकम वसूलते हैं। ग्राहकों के पास अलग-अलग बैंकों के क्रेडिट कार्ड होते हैं जिनका वह समय-समय पर इस्तेमाल करत हैं। कई बार ऐसा भी होता है जब ग्राहकों को क्रेडिट कार्ड की जरूरत महसूस नहीं होती और वह इसे बंद/कैंसल करवा देते हैं।

लेकिन क्या आपको पता है कि ऐसा करना आपको महंगा पड़ सकता है। इसका असर आपके जुर्माने से लेकर सिविल स्कोर तक पर पड़ सकता है। लेकिन अगर कोई ग्राहक क्रेडिट कार्ड को बंद करवाना चाहता है तो उन्हें कुछ बुनियादी चीजें जान लेनी चाहिए। अगर वह सही जानकारी के साथ क्रेडिट कार्ड को बंद करवाएंगे तो उन्हें किसी तरह का नुकसान नहीं होगा। अगर आप भी अपना क्रेडिट कार्ड बंद करवाने की सोच रहे हैं तो कुछ बुनियादी जानकारियां हैं जिन्हें जानकार आप नुकसान से बच सकते हैं:-

1. अगर आप कार्ड बंद करने जा रहे हैं तो सबसे पहले यह जान लें कि आपका कार्ड कितना पुराना है। अगर आपका कार्ड काफी पुराना है तो इसे बंद करवाने पर आपके क्रेडिट स्कोर पर उल्टा असर पड़ेगा। आपके क्रेडिट स्कोर की गणना करते समय सबसे अहम चीज आपके क्रेडिट इतिहास की लंबाई है। जब आप अपने पुराने क्रेडिट कार्ड बंद करते हैं, तो आपके क्रेडिट खातों की औसत आयु कम हो जाती है, जो आपके क्रेडिट स्कोर पर भी प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है।

2. कार्ड बंद करवाने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि आपने अपने सभी ऑटो पेमेंट जो कि कार्ड से लिंक्ड हैं उन्हें कैंसल कर लें। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो तय दिन पर आपकी पेमेंट नहीं होगी। जिसका नुकसान आपको पेनल्टी के रूप में होगा।

3. क्रेडिट कार्ड प्रदाता कंपनी क्रेडिट कार्ड को सिर्फ तभी बंद करेगी जब कार्ड की सभी बकाया राशि का भुगतान किया जा चुका हो। इसलिए कार्ड बंद करने का आवेदन भेजने से पहले यह जरूर सुनिश्चित कर लें।

4. कार्ड को बंद करने से पहले उससे मिलने वाले लाभों को चेक कर लें। जैसे की आप रिवॉर्ड प्वाइंट बैलेंस को चेक सकते हैं। अगर आपको लगता है कि इसका इस्तेमाल कहीं किया जा सकता है तो जरूर कीजिए और फिर कार्ड को बंद करवाने का आवेदन करें।

5. कई बार ऐसा होता है कि हम अपने क्रेडिट कार्ड को बंद करने का पूरा मन बना चुके होते हैं लेकिन बैंक अधिकारी हमें कार्ड पर लुभावने ऑफर दे देते हैं जिससे हम अपना मन बदल लें। लेकिन अगर आप कार्ड को बंद करवाना चाहते हैं तो इन ऑफर्स को नजरअंदाड कीजिए।

6. कार्ड बंद करवाने से जुड़ी प्रक्रिया को बैंक से लिखित में लें। इसके साथ ही क्रेडिट कार्ड प्रोवाइडर से लिखित पुष्टि लें जिसमें लिखा गया हो कि ग्राहक का क्रेडिट कार्ड बंद करवा दिया गया है।

7. अंत में अपनी क्रेडिट रिपोर्ट को चेक करें। यह चेक कर लें कि क्रेडिट कार्ड प्रोवइडर ने क्रेडिट कार्ड बंद कर दिया है या नहीं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 इकॉनमी के लिए खतरे की घंटी? L&T चीफ के बाद HDFC प्रमुख बोले- मंद पड़ रही अर्थव्यवस्था की रफ्तार
2 RBI ने कस्टमर्स को दी बड़ी राहत- समय पूर्व कर्ज चुकाने पर नहीं देना होगा कोई पेनल्टी चार्ज
3 ‘खत्म हो इनकम टैक्स, 9% हो ब्याज दर’, बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने इकॉनोमी की मजबूती के लिए सुझाया पांच सूत्री फॉर्मूला