ताज़ा खबर
 

सिर्फ एक बार कोरोना का टीका लगने से खत्म नहीं होगी बीमारी, 20 सालों के लिए दवा की जरूरत: अदार पूनावाला

अदार पूनावाला ने कहा कि वैक्सीन असली हल नहीं है। यह आपकी इम्युनिटी को बूस्ट करती है और आपकी रक्षा करती है। इससे बीमारी का रिस्क कम हो जाता है, लेकिन आप इससे 100 फीसदी नहीं बच सकते।

coronavirus vaccineकोरोना वायरस वैक्सीन की लंबे वक्त के लिए होगी जरूरत

कोरोना वायरस का संकट सिर्फ एक बार टीकाकरण कार्य़क्रम चलाने से खत्म नहीं होगा। कोरोना की दवा तैयार करने में जुटे सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंड़िया के सीईओ अदार पूनावाला का कहना है कि अगले 20 सालों तक के लिए COVID-19 की दवा की जरूरत होगी। उन्होंने कहा कि यह वक्त कड़वी सच्चाई को स्वीकार करने का है। बिजनेस टुडे से बातचीत में पूनावाला ने कहा कि इतिहास में एक भी ऐसा उदाहरण नहीं है, जब किसी वैक्सीन को बंद किया गया हो। उन्होंने कहा कि लगातार कई सालों से फ्लू, निमोनिया, खसरा और पोलियो तक दवाएं चली आ रही हैं। इनमें से किसी को भी बंद नहीं किया गया है।

उन्होंने कहा कि ऐसा ही कोरोना वैक्सीन के साथ भी है। पूनावाला ने कहा कि यदि कोरोना वैक्सीन का 100 पर्सेंट लेवल हासिल कर लिया जाता है, तब भी भविष्य में इसकी जरूरत पड़ती रहेगी। उन्होंने कहा कि वैक्सीन असली हल नहीं है। यह आपकी इम्युनिटी को बूस्ट करती है और आपकी रक्षा करती है। इससे बीमारी का रिस्क कम हो जाता है, लेकिन आप इससे 100 फीसदी नहीं बच सकते।

अब यदि हम बात करें कि हम जनसंख्या के एक हिस्से तक वैक्सीन देंगे तो यह पर्याप्त नहीं होगा। यहां तक कि 100 फीसदी टीकाकरण के बाद भी भविष्य में इस दवा की जरूरत रहेगी। खसरा के टीके का उदाहरण देते हुए पूनावाला ने कहा कि यह 95 फीसदी कारगर है और सबसे सफल दवाओं में से एक है। लेकिन इसके बाद भी नवजात शिशुओं को यह दवा दी जाती है।

बता दें कि कोरोना वैक्सीन को तैयार करने के लिए सीरम इंस्टिट्यूट बिल गेट्स फाउंडेशन के साथ मिलकर काम कर रहा है। सीरम इंस्टिट्यूट के मुताबिक अगले साल की शुरुआत तक उसकी ओर से कोरोना वैक्सीन बाजार में उतारी जा सकती है। इसके अलावा ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी समेत तमाम अन्य संस्थाएं भी कोरोना की दवा को तैयार करने में जुटी हैं। रूस ने कोरोना वैक्सीन तैयार करने का दावा किया है, लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन समेत तमाम वैश्विक संस्थानों ने उसे मान्यता नहीं दी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पाकिस्तान, बांग्लादेश से भी ज्यादा भारत के कर्ज में डूबने की आशंका, जीडीपी के मुकाबले होगा 90 फीसदी
2 7th Pay Commission: कर्मचारी वर्ग के लिए मोदी सरकार ने लिया बड़ा फैसला, पर डीए में इजाफे की उम्मीदों को लगा झटका
3 मारुति सुजुकी के गुजरात स्थित इस प्लांट ने बनाया प्रोडक्शन का रिकॉर्ड, 25 पर्सेंट गाड़ियां यहीं से होती हैं तैयार
यह पढ़ा क्या?
X