ताज़ा खबर
 

कोरोना वायरस के इस संकट में नौकरियों पर भी है तलवार, किसी संकट के लिए कितना तैयार हैं आप? जानें- क्या करने की जरूरत

बड़ा सवाल यह है कि यदि ऐसा कोई संकट आ जाए तो आप उसे झेलने के लिए कितने तैयार हैं। आइए जानते हैं, कोरोना के कहर में नौकरी पर संकट की स्थिति में कितनी तैयारी की जरूरत है...

coronavirus crisisकोरोना के संकट में नौकरी के संकट में इन बातों का रखें ध्यान

हम शायद अपने जीवन के अब तक के सबसे कठिन समय से गुजर रहे हैं। भविष्य में नौकरी का क्या होगा? प्राइवेट सेक्टर के करोड़ों लोगों के सामने यह यक्ष प्रश्न बना हुआ है। तमाम कंपनियों ने कर्मचारियों के सैलरी कट का ऐलान कर दिया है। भविष्य में नौकरियों तक पर संकट की स्थिति हो सकती है। ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि यदि ऐसा कोई संकट आ जाए तो आप उसे झेलने के लिए कितने तैयार हैं। आइए जानते हैं, कोरोना के कहर में नौकरी पर संकट की स्थिति में कितनी तैयारी की जरूरत है…

आपातकालीन फंड तैयार रखना चाहिए: किसी भी ऐसे शख्स को आपातकालीन फंड तैयार रखना ही चाहिए, जो सैलरीड क्लास से ताल्लुक रखता हो। खासतौर पर किसी भी लोन की ईएमआई को चुकाने या अन्य जरूरी खर्चों को किसी भी आपातस्थिति में जारी रख पाने के लिए ऐसे फंड की जरूरत है। ऐसे में यह जरूरी है कि बच्चों की फीस, ईएमआई और जरूरी इलाज के लिहाज से कुछ बचत आपातकालीन स्थिति के लिए बचाकर रखी जाए। यदि किसी परिवार में एक ही शख्स कमाता है तो फिर 12 महीनों के लिए यह व्यवस्था होनी चाहिए और यदि दो लोग कमाने वाले हैं तो 6 महीने का फंड तैयार होना चाहिए।

मेडिक्लेम जैसी सुविधाएं हैं जरूरी: यदि आप ऐसी आपातस्थिति में आ जाते हैं किसी बीमारी के चक्कर में अस्पताल तक जाना पड़े तो वह दोहरी मार हो सकती है। ऐसी स्थिति में यह जरूरी है कि मेडिक्लेम या हेल्थ इंश्योरेंस की व्यवस्था हो। यदि आप किसी मेट्रो सिटी में रहते हैं तो परिवार में 4 सदस्य हैं तो फिर कम से कम 5 लाख रुपये का बीमा होना जरूरी है। हर 5 साल के बाद हेल्थ इंश्योरेंस का रिव्यू करने की जरूरत है और यदि जरूरी लगे तो फिर टॉप-अप ले लेना चाहिए।

अपने मासिक बजट के बारे में भी सोचें: यदि आप आर्थिक मंदी के दौर से गुजर रहे हैं और किसी भी तरह से प्रभावित होने की आशंका है तो यह जरूरी है कि आप जरूरी खर्चे ही करें और शौक आदि में कटौती कर दें। आप उन चीजों के बारे में सोचें, जिन पर खर्च में आप कटौती कर सकते हैं। यह महामारी के संकट का दौर है, ऐसे में यह सोचना चाहिए कि मनोरंजन जैसे खर्चों पर कटौती की जाए।

किसी भी तरह से कर्ज की किस्तें न रोकें: यदि आप बेरोजगार हो जाते हैं, तब भी पूरी कोशिश करें कि कर्ज की किस्तें भरना जारी रखें। अपने मौजूदा निवेश को खत्म करके भी ऐसा करना चाहिए। यदि आपकी ईएमआई को लेकर दिक्कत आ रही है तो कम से कम बैंक से इसे लेकर पहले बात करें। बैंक की किस्तें रोकने से आपकी क्रेडिट हिस्ट्री और स्कोर खराब होगा। इसके अलावा एक तरीका यह भी है कि आप बैंक से बात करें और ईएमआई को कम करते हुए लोन की अवधि को बढ़ाने की मांग करें।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: जानें-कोरोना वायरस से जुड़ी हर खबर । जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस? । इन वेबसाइट और ऐप्स से पाएं कोरोना वायरस के सटीक आंकड़ों की जानकारी, दुनिया और भारत के हर राज्य की मिलेगी डिटेल ।  कोरोना संक्रमण के बीच सुर्खियों में आए तबलीगी जमात और मरकज की कैसे हुई शुरुआत, जान‍िए

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना की मार से भारत में 40 करोड़ लोग गरीबी के दलदल में फंस सकते हैं, संयुक्त राष्ट्र ने कहा- दूसरे विश्व युद्ध के बाद सबसे बड़ा संकट
2 देश के 18 राज्यों के 1.8 करोड़ मजदूरों को सरकारों ने भेजे 1,000 से 5,000 तक रुपये, जानें- दिल्ली, पंजाब से तेलंगाना तक किस राज्य ने दी कितनी मदद
3 पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत करोड़ों किसानों को मिल रही 2,000 रुपये की किस्त, पश्चिम बंगाल के किसानों के हाथ खाली
ये पढ़ा क्या?
X