ताज़ा खबर
 

कोरोना काल में विदेशी निवेशकों ने दिखाया भरोसा, FDI में करीब 20 फीसदी की बढ़त

मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक बीते वित्त वर्ष में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) 19 प्रतिशत बढ़कर 59.64 अरब डॉलर पर पहुंच गया।

कोरोना काल में बढ़ा विदेशी निवेश (Image: Pixabay)

वित्त वर्ष 2020-21 में देश में विदेशी निवेश करीब 20 फीसदी तक बढ़ गया है। ये जानकारी वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय की ओर से दी गई है।

मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक बीते वित्त वर्ष में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) 19 प्रतिशत बढ़कर 59.64 अरब डॉलर पर पहुंच गया। मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘एफडीआई इक्विटी फ्लो 2020-21 में 19 प्रतिशत बढ़ा (59.64 अरब डॉलर), जबकि 2019-20 में यह 20 प्रतिशत बढ़ा (49.98 अरब डॉलर) था।’’ बयान के मुताबिक एफडीआई फ्लो में सबसे अधिक 29 फीसदी हिस्सेदारी के साथ सिंगापुर शीर्ष पर रहा है।

इसके बाद अमेरिका (23 फीसदी) और मॉरीशस (9 फीसदी) का स्थान रहा। इसी तरह देश में इक्विटी निवेश, पूंजी और कमाई का फिर से किये गये निवेश सहित कुल एफडीआई 2020-21 के दौरान 10 प्रतिशत बढ़कर 81.72 अरब डॉलर के अब तक के सर्वोच्च स्तर पर पहुंच गया, जो 2019-20 में 74.39 अरब डॉलर रहा था।

किस क्षेत्र में ज्यादा: कंप्यूटर सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर क्षेत्र की कुल एफडीआई इक्विटी फ्लो में लगभग 44 प्रतिशत हिस्सेदारी रही। इसके बाद क्रमशः निर्माण (बुनियादी ढांचा) गतिविधियों (13 प्रतिशत) और सेवा क्षेत्र (8 प्रतिशत) का स्थान रहा। (ये पढ़ें- 7th Pay Commission: दिव्यांग कर्मचारियों के लिए है ये नियम)

राज्यों के लिहाज से 2020-21 के दौरान कुल एफडीआई इक्विटी प्रवाह में 37 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ गुजरात शीर्ष पर रहा, जबकि इसके बाद महाराष्ट्र (27 प्रतिशत) और कर्नाटक (13 प्रतिशत) का स्थान रहा।

वजह क्या है: एफडीआई नीति में सुधार, निवेश सुगमता और कारोबार में सुविधा के मोर्चे पर सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से देश में एफडीआई फ्लो बढ़ा है। आपको बता दें कि जिस दौर में एफडीआई फ्लो बढ़ा है, ये वो वक्त था जब देश और दुनिया कोरोना की मार झेल रहा था। वहीं, अधिकतर देशों में लॉकडाउन जैसे हालात थे। इस वजह से दुनिया भर के शेयर बाजारों में बिकवाली भी बढ़ी थी। (कोरोना काल में बदले हैं नाइट ड्यूटी अलाउंस के नियम, ऐसे मिलेगा फायदा​)

Next Stories
1 रामदेव ने 2018 में शुरू किया था डेयरी का कारोबार, ऐसे पतंजलि को मिला बूस्ट
2 लिबर्टी स्टील को खरीदने की रेस में सज्जन जिंदल! रतन टाटा की कंपनी से चल रहा ये विवाद
3 PM Kisan: लाभार्थी किसान की मृत्यु के बाद भी परिवार को मिलती है रकम, जानिए स्कीम के नियम
ये पढ़ा क्या?
X