ताज़ा खबर
 

SBI से है शिकायत तो यहां रखें अपनी बात, 28 मई को ग्राहकों को बैंक ने दिया न्योता, जानें डिटेल्स

इस सम्मेलन के दौरान बैंक अपने ग्राहकों को वैकल्पिक बैंकिंग चैनल्स और Yono SBI के बारे में भी बताएगा। सम्मेलन के दौरान बैंक की कोशिश रहेगी कि ग्राहक अधिक से अधिक इन सेवाओं का इस्तेमाल करें।

एसीबीआई बैंक की फाइल फोटो। (File Photo)

भारतीय स्टेट बैंक ने ग्राहकों की शिकायतों को समझने के लिए और बैंक से जुड़ीं सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए शुक्रवार (24 मई, 2019) को कहा कि वह 28 मई को एक राष्ट्रव्यापी सम्मेलन का आयोजन करेगा। इसके तहत 17 स्थानीय प्रधान कार्यालयों (LHO) के जरिए 500 से ज्यादा जगहों पर मिलन समारोह का आयोजन किया जाएगा। एक अधिकारी ने कहा कि समारोह के जरिए बैंक का लक्ष्य एक लाख से अधिक ग्राहकों से संपर्क साधना है।

एसबीआई के मैनेजिंग डायरेक्टर पीके गुप्ता ने एक बयान जारी कर कहा, ‘इसका उद्देश्य लोगों से संपर्क साधकर ग्राहकों में बैंक के प्रति विश्वास को और मजबूत करना है। इतने बड़े स्तर के सम्मेलन को लेकर हम ग्राहकों की भागीदारी को लेकर आशान्वित है। इससे ग्राहकों का अनुभव भी बेहतर होगा और उनकी उम्मीदों पर खरे उतरने में अहम मदद मिलेगी।’

खबर है कि सम्मेलन में एसबीआई के वरिष्ठ अधिकारी भी हिस्सा लेंगे। सम्मेलन की खास बात होगी कि इसमें ग्राहक बैंक के कर्मचारियों से विभिन्न में मामले में बात कर सकेंगे और अपनी शिकायत दर्ज करा सकेंगे। बैंक की सेवाओं के बारे में भी ग्राहक अपनी राय दे सकेंगे। बता दें कि एसबीआई देश का सबसे बड़ा बैंक है और उसके ग्राहकों की संख्या भी सबसे अधिक है।

खास बात यह है कि इस सम्मेलन के दौरान बैंक अपने ग्राहकों को वैकल्पिक बैंकिंग चैनल्स और Yono SBI के बारे में भी बताएगा। सम्मेलन के दौरान बैंक की कोशिश रहेगी कि ग्राहक अधिक से अधिक इन सेवाओं का इस्तेमाल करें। जिससे उन्हें बेहतर बैंकिंग अनुभव मिल सके और साथ ही शाखाओं पर लोड कम हो। Yono SBI एक डिजिटल बैंकिंग चैनल और लाइफस्टाइल प्लेटफार्म है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 महंगी होने वाली हैं Royal Enfield की ‘स्लिम बुलेट्स’, कितना बढ़ेगा दाम? जानिए
2 7th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों की होने वाली है बल्ले-बल्ले! नई सरकार में यह फॉर्मुला लागू कर सकते हैं नरेंद्र मोदी