ताज़ा खबर
 

खस्ताहाल अर्थव्यवस्था: अरबपति BJP नेता समेत इन Realty Sector दिग्गजों के धंधे पर संकट

खस्ताहाल अर्थव्यवस्था से दिग्गज भारतीय बिजनसमैन अजय पीरामल और पलोंजी मिस्त्री भी इससे अछूते नहीं हैं।

Author नई दिल्ली | Published on: August 22, 2019 5:19 PM
Realty Sector दिग्गजों के धंधे पर संकट। फोटो सोर्स: Reuters

खस्ताहाल अर्थव्यवस्था का असर लोढ़ा ग्रुप के फाउंडर और बीजेपी विधायक मंगल प्रभात लोढ़ा समेत कई रियल्टी सेक्टर के दिग्गजों पर दिखने लगा है। दिग्गज भारतीय बिजनसमैन अजय पीरामल और पलोंजी मिस्त्री भी इससे अछूते नहीं हैं। अजय पीरामल पीरामल एंटरप्राइजेज के अध्यक्ष हैं जबकि पलोंजी मिस्त्री शापूर्जी पल्लोंजी समूह के संस्थापक।

पीरामल और मिस्त्री द्वारा चलाए जा रहे समूह में कुछ कंपनियों की रेटिंग में कटौती हुई है क्योंकि रियल्टी सेक्टर के कारोबार का माहौल पिछले कुछ समय में खराब रहा है। रेटिंग कंपनियों ने इन दिग्गज कंपनियों की रेटिंग जारी कर इनके धंधे पर संकट की आशंकी जताई है। देश के सबसे अमीर बिल्डर मंगल प्रभात लोढ़ा द्वारा नियंत्रित कंपनियों की भी रेटिंग में भी गिरावट दर्ज की गई है। कंपनी ने उनकी कंपनियों द्वारा ऋण चुकाने की क्षमताओं पर संदेह जताया है। सेंट्रम इंफ्रास्ट्रक्चर एडवाइजरी लिमिटेड के प्रबंध निदेशक संदीप उपाध्याय ने दिग्गजों के धंधे पर मंडराते संकट पर कहा है कि ‘दिग्गजों के रियल स्टेट से जुड़ी कंपनियों की खराब रेटिंग और क्रेडिट से दुरगामी प्रभाव देखने को मिलेंगे।’

बिजनेस स्टैंडर्ड की एक खबर के मुताबिक रियल्टी सेक्टर का कमजोर प्रदर्शन और नकदी की कमी रियल स्टेट से जुड़ी कंपनियों की खराब रेटिंग की दो बड़ी वजह मानी जा रही है। भारतीय अर्थव्यवस्था पिछले कुछ सालों से 7-8 फीसदी से कम रही है। मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस और फिच रेटिंग्स ने हाल में बीजेपी विधायक की रियल स्टेट की दिग्गज कंपनी मैक्रोटेक डेवलपर्स की रेटिंग को गिरा दिया था। रेटिंग एजेंसी ने इसके लिए कंपनी में जारी नकदी के संकट को वजह बताया था।

वहीं पिरामल कैपिटल एंड हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड और पिरामल रियल्टी लिमिटेड की रेटिंग में भी पिछले महीने गिरावट दर्ज की गई थी। रेटिंग एजेंसी ने इसके लिए इन कंपनियों में फंडिंग चुनौतियों का हवाला दिया था। वहीं केयर रेटिंग्स और ICRA ने शापूर्जी पल्लोंजी एंड कॉर्पोरेशन की रेटिंग पिछले 12 महीनों में दो बार गिरा जा चुकी है। एजेंसी ने इसके लिए बिक्री में कमी और रियल्टी सेक्टर के कमजोर प्रदर्शन को प्रमुख कारणों के रूप में उद्धृत किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 मुकेश अंबानी की Jio के खिलाफ सुनील मित्तल की Airtel का ऐलान-ए-जंग, खास सेट टॉप बॉक्स के साथ फ्री टीवी का भी आ सकता है ऑफर
2 Reliance Industries के मुकेश अंबानी खरीदना चाहते हैं छोटे भाई अनिल की कंपनी की संपत्ति, ये दिग्गज दे रहे टक्कर
3 7th Pay Commission: यूपी में इन कर्मचारियों को दशहरा से पहले मिली खुशखबरी, जानिए क्या मिलेगा लाभ