ताज़ा खबर
 

कोल इंडिया चालू वित्त वर्ष में देगी 7,000 लोगों को नौकरी, सामान्य से 17% अधिक

कंपनी के मुख्य वित्त अधिकारी निरंजन गुप्ता ने पीटीआई-भाषा से कहा कि इससे सरकार को संभावित राजस्व नुकसान को संभालने में मदद मिलेगी। वहीं देश के लगभग दो करोड़ दोपहिया वाहन खरीदारों को भी राहत मिलेगी।

Author नई दिल्ली | Updated: September 19, 2019 6:28 PM
दोपहिया वाहन बनाने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी हीरो मोटो कॉर्प

दोपहिया वाहन बनाने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी हीरो मोटो कॉर्प ने बृहस्पतिवार को सरकार से वाहन क्षेत्र के लिए चरणबद्ध तरीके से माल एवं सेवा कर (जीएसटी) की दरें घटाने पर विचार करने के लिए कहा। कंपनी ने कहा कि सरकार को पहले चरण में दोपहिया और बाद में चार-पहिया वाहनों पर कर की दर घटानी चाहिए। कंपनी के मुख्य वित्त अधिकारी निरंजन गुप्ता ने पीटीआई-भाषा से कहा कि इससे सरकार को संभावित राजस्व नुकसान को संभालने में मदद मिलेगी। वहीं देश के लगभग दो करोड़ दोपहिया वाहन खरीदारों को भी राहत मिलेगी।

गुप्ता ने कहा, ‘‘ मैं समझता हूं कि दरें कम (जीएसटी की दरों में कमी) करने से सरकार के राजस्व संग्रह पर विपरीत असर पड़ने की संभावना है। जबकि बढ़ी हुई बिक्री इसे संभाल लेगी, वह भी तब जब हम राजस्व आय में मामूली गिरावट का अनुमान लगा रहे हों। यदि हम चरणबद्ध तरीके से इसे लागू करने पर विचार करें तो कोई समाधान निकल सकता है।’’ उन्होंने कहा कि सरकार पहले चरण में सिर्फ दोपहिया वाहनों पर जीएसटी दर कटौती के बारे में विचार कर सकती है।

उन्होंने कहा कि सरकार चाहे तो 150 सीसी तक इंजन क्षमता वाले दोपहिया वाहनों को 18 प्रतिशत जीएसटी के दायरे में लाने से शुरुआत कर सकती है। इससे करीब 1.6 करोड़ संभावित ग्राहकों को, विशेषकर छोटे शहरों और ग्रामीण इलाके के खरीदारों को फायदा होगा और इसका सरकार की आय पर भी न्यूनतम असर पड़ेगा। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता वाली जीएसटी परिषद की अगली बैठक 20 सितंबर को गोवा में होनी है। जीएसटी के संबंध में निर्णय लेने वाली यह शीर्ष इकाई है जिसमें सभी राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के वित्त मंत्री शामिल हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 7th Pay Commission: CM ने यहां कर्मियों को 1 लाख का बोनस देने का किया ऐलान, नरेंद्र मोदी सरकार भी बना रही खुशखबरी देने का प्लान!
2 अरब डॉलर का दांव खेलने के बाद नरेंद्र मोदी से भंग हो रहा मोह, 1999 के बाद पहली बार इतनी तेजी से बाजार से बाहर हुए वैश्‍व‍िक निवेशक
3 FMCG इंडस्ट्री की भी हालत खराब, 15 साल में सबसे सुस्त रफ्तार के आसार