ताज़ा खबर
 

रीयल एस्टेट बिल में होगा बड़ा बदलाव, धर्म, जाति के आधार पर भेदभाव नहीं कर पाएंगे बिल्डर

केंद्र सरकार की तरफ से प्रोपर्टी की लेन-देन में होने वाले भेदभाव को रोकने के लिए रीयल एस्टेट एक्ट (RERA) में एक नई धारा जोड़ी जाने वाली है। इससे बिल्डर अपनी जमीन बेचते वक्त खरीददार के धर्म, वैवाहिक स्थिति और खाने-पीने की आदत को ध्यान में रखकर भेदभाव नहीं कर पाएगा।

Author Updated: June 12, 2016 7:11 AM
यह बिल किराए पर घर खोज रहे लोगों के लिए लागू नहीं होगा।

केंद्र सरकार की तरफ से प्रोपर्टी की लेन-देन में होने वाले भेदभाव को रोकने के लिए रीयल एस्टेट एक्ट (RERA) में एक नई धारा जोड़ी जाने वाली है। इससे बिल्डर अपनी जमीन बेचते वक्त खरीददार के धर्म, वैवाहिक स्थिति और खाने-पीने की आदत को ध्यान में रखकर भेदभाव नहीं कर पाएगा।

यह बिल उन लोगों के काम आएगा जिनके साथ धर्म, जाति, लिंग आदि के आधार पर भेदभाव होता आया है। जैसे ही इसकी इजाजत मिल जाएगी इसको लागू कर दिया जाएगा। मिली जानकारी के मुताबिक, मार्च में कांग्रेस की सांसद कुमारी सैलजा और राजीव गौड़ा ने इस बदलाव की मांग की थी। यह मांग The Real Estate (Regulation and Development) Act, 2016 (RERA) के पास करवाए जाने के दौरान ही की गई थीं।

Read Alsoमुस्लिम आर्मी ऑफिसर की पत्नी बोलीं-धर्म जानकर घर देने से मना कर देते हैं लोग

भारत में इस तरीके का बदलाव पहली बार लाया जा रहा है जबकि यूएस में ऐसा पिछले 50 सालों से हो रहा है। वहां पर रंग के आधार पर भेदभाव होता है। मई 2016 में यूएन की एक संस्था ने भारत में आकर रिसर्च की थी। इसमें पता लगा था कि भारत में मुस्लिम लोगों को दिल्ली, नोएडा और गुड़गांव जैसे इलाकों में घर लेने में मुश्किल होती है।

Read Alsoअब यूएन यूनिवर्सिटी की स्टडी ने भी लगाई मुहर- दिल्ली, नोएडा, गुड़गांव में मुस्लिमों को मकान किराये पर नहीं देना चाहते लोग

क्या होगी सजा: इस नियम का पालन ना करने वाले को 3 साल की सजा या फिर जुर्माना देना होगा। जुर्माना कितना होगा ? यह फिलहाल तय नहीं किया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
ये पढ़ा क्‍या!
X