ताज़ा खबर
 

चीन के TikTok की पैरेंट कंपनी ByteDance भारत में कारोबार समेटने की ओर, कहा कब करेंगे ‘कमबैक’ पता नहीं

पीटीआई के मुताबिक टिकटॉक के वैश्विक अंतरिम प्रमुख वैनेसा पाप्पस और वैश्विक व्यापार समाधान उपाध्यक्ष ब्लेक चंडली ने कर्मचारियों को भेजे संयुक्त ईमेल में कंपनी के निर्णय की जानकारी दी है।

Chinese Appsटिकटॉक ऐप के बंद होने से भारत में बहुत से लोगों को अपने काम रोकने पड़े। (फाइल फोटो)

भारत में टिकटॉक और हेलो ऐप का स्वामित्व रखने वाली चीनी सोशल मीडिया कंपनी बाइटडांस ने भारत में अपना कारोबार समेटने का फैसला किया है। उनका कहना है कि कंपनी की सेवाओं पर जारी प्रतिबंधों की वजह से ऐसा करना पड़ रहा है।

पीटीआई के मुताबिक टिकटॉक के वैश्विक अंतरिम प्रमुख वैनेसा पाप्पस और वैश्विक व्यापार समाधान उपाध्यक्ष ब्लेक चंडली ने कर्मचारियों को भेजे एक संयुक्त ईमेल में कंपनी के निर्णय के बारे में बताया। इसमें कहा गया है कि टीम के आकार को कम किया जा रहा है। इसका प्रभाव भारत के सभी कर्मचारियों पर पड़ेगा। अधिकारियों ने कंपनी की भारत में वापसी पर अनिश्चितता व्यक्त की, हालांकि उम्मीद जताई कि भविष्य में जल्दी है ऐसा होगा।

ईमेल में कहा गया है, “हालांकि यह नहीं पता है कि भारत में वापसी कब होगी, हम अपने व्यवहारिक लचीलेपन पर भरोसा कर रहे हैं और आने वाले समय में ऐसा करने की इच्छा रखते हैं।” बाइटडांस के एक सूत्र के अनुसार, कंपनी ने बुधवार को एक टाउन हॉल का आयोजन किया, जहां उसने भारत में कारोबार को बंद करने के बारे में बताया।

पीटीआई की खबर के मुताबिक जब टिकटॉक के प्रवक्ता से संपर्क किया गया तो बताया कि कंपनी 29 जून 2020 को जारी भारत सरकार के आदेश का लगातार पालन कर रही है और अपने ऐप्स को स्थानीय कानूनों और नियमों के मुताबिक चलाने के लिए कोशिश में है।

कंपनी के प्रवक्ता ने कहा, “यह निराशाजनक है कि सात महीनों में हमारे प्रयासों के बावजूद हमें इस बात पर स्पष्ट दिशा नहीं दी गई कि हमारे ऐप को कैसे और कब दोबारा शुरू किया जाने दिया जाएगा। यह बेहद अफसोस की बात है कि भारत में छह महीने से अधिक समय तक हमारे 2,000 से अधिक कर्मचारियों बनाए रखने के बावजूद हमारे पास अपने कर्मचारियों के आकार को वापस करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।

प्रवक्ता ने कहा, “हम टिकटॉक को फिर से शुरू करने और भारत में करोड़ों उपयोगकर्ताओं, कलाकारों, कहानीकारों, शिक्षकों और कलाकारों का समर्थन करने का अवसर पाने के लिए तत्पर हैं।”

Next Stories
1 अडानी पोर्ट्स ने गुजरात सरकार के साथ किया समझौता, इधर निवेशकों में दिखी निराशा
2 किशोर बियानी के पीछे पड़ी अमेरिका की Amazon, जानिए भारत के रिटेल किंग के सफलता की कहानी
3 कंपनियों के लिए ग्रोथ का क्या है सबसे सही तरीका, आनंद महिंद्रा ने बताया
आज का राशिफल
X