ताज़ा खबर
 

फर्जी कंपनियां बना हवाला कारोबार चला रहे चीनी, ताबड़तोड़ छापे, बैंक कर्मचारी भी शामिल

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने बड़े पैमाने पर फर्जी चीनी कंपनियों का पर्दाफाश किया है, जो देश में हवाला रैकेट चला रही थीं। कई फर्जी कंपनियों के नाम पर मनी लॉन्ड्रिंग की जा रही थी। यहां तक कि 1,000 करोड़ रुपये का हवाला कारोबार भी किया गया है।

hawala transactionsफर्जी कंपनियां बनाकर हवाला कारोबार कर रहे चीनी, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की छापेमारी

आयकर विभाग ने बड़े पैमाने पर फर्जी चीनी कंपनियों का पर्दाफाश किया है, जो देश में हवाला रैकेट चला रही थीं। कई फर्जी कंपनियों के नाम पर मनी लॉन्ड्रिंग की जा रही थी। यहां तक कि 1,000 करोड़ रुपये के हवाला कारोबार की भी जानकारी मिली है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने दिल्ली, गाजियाबाद और गुरुग्राम में करीब 21 ठिकानों पर छापेमारी कर इस गठजोड़ का पर्दाफाश किया है। इस काम में बैंक के कुछ कर्मचारी भी शामिल हैं। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने चीनी कंपनियों, उनके साथ जुड़े हवाला रैकेट और बैंक कर्मचारियों की तलाश में छापेमारी की थी। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने बताया कि मनी लॉन्ड्रिंग को अंजाम देने के लिए फर्जी चीनी कंपनियों के नाम पर करीब 40 अकाउंट बनाए गए और उनसे हजारों करोड़ रुपये का ट्रांजेक्शन किया गया।

अब तक की जांच में यह बात सामने आई है कि एक चीनी कंपनी की सहायक फर्म ने फर्जी कंपनियों से 100 करोड़ रुपये का फर्जी  एडवांस लिया था। यह रकम भारत में रिटेल शोरूम खोलने के लिए एडवांस के तौर पर दी गई थी। छापेमारी के दौरान आईटी डिपार्टमेंट के अफसरों को हवाला से जुड़े दस्तावेज मिले हैं। इसके अलावा बैंक कर्मचारियों और चार्टर्ड अकाउंटेंट्स की भी मिलीभगत का पता चला है। यही नहीं छामेपारी के दौरान ठिकानों से हॉन्ग कॉन्ग की करेंसी और अमेरिकी डॉलर भी मिले हैं।

आयकर विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि इनमें से एक चीनी शख्स के पास अवैध भारतीय पासपोर्ट पाया गया है, जो उसे मणिपुर से जारी किया गया था। अलग-अलग और संदिग्ध नामों से देश भर में वह करीब 10 बैंक खाते चला रहा था। पकड़े गए चीनी शख्स की पहचान चार्ली पेंग के तौर पर हुई है, इसे हिरासत में लिया गया है। पेंग का चीनी नाम लुओ सांग है, लेकिन वह यहां नाम बदलकर रह रहा था। वह बीते करीब 6 सालों से भारत में रह रहा था। इसके अलावा उसके करीब 6 अन्य सहयोगियों की भी पहचान कर ली गई है, जो उसे हवाला कारोबार में मदद कर रहे थे।

जानकारों के मुताबिक इस जांच में अब प्रवर्तन निदेशालय को भी शामिल किया जा सकता है। इसके अलावा यदि यह नेक्सस बड़ा पाया जाता है तो फिर सीबीआई को भी इस मसले की जांच सौंपी जा सकती है। आयकर विभाग ने बयान जारी कर कहा कि कई विश्वसनीय सूत्रों के हवाले से यह खबर मिली थी कि कुछ चीनी नागरिक और उनके भारतीय सहयोगी मनी लॉन्ड्रिंग और हवाला कारोबार में शामिल हैं। ये लोग फर्जी कंपनियों के नाम पर इस अवैध धंधे को अंजाम दे रहे थे। सूत्रों से मिले इनपुट के बाद ताबड़तोड़ छापेमारी की गई, जिसमें यह खुलासा हुआ है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दुनिया की टॉप 100 कंपनियों में शामिल हुई रिलायंस इंडस्ट्रीज, सरकारी कंपनी इंडियन ऑयल 151वें नंबर पर
2 पीएम किसान सम्मान निधि स्कीम न लागू करने पर खफा पश्चिम बंगाल के गवर्नर जगदीप धनखड़, सीएम ममता बनर्जी को लिखा खत
3 गौतम अडानी के समधी हैं नामी वकील, जानें- क्या करती हैं बहू परिधि अडानी, 2013 में हुई थी शादी
ये पढ़ा क्या?
X