ताज़ा खबर
 

चीनी हैकर्स एसबीआई के बैंक अकाउंट होल्‍डर्स पर नजर, संकट में 44 करोड़ अकाउंट्स

अगर आप भी देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई के कस्‍टमर हैं सतर्क हो जाइए। चीनी हैकर्स आपके अकाउंट पर नजरें गढ़ाए बैठे हैं, जो‍ कभी भी आपकी सेविंग को उड़ा सकते हैं। इसलिए एसबीआई की ओर से सभी को अलर्ट किया जा रहा है।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः freepik)

देश के 44 करोड़ कस्‍टमर्स वाला बैंक और उसके अकाउंट होल्‍डर्स खतरे में है। चीन के हैकर्स की नजरें इन अकाउंट्स पर गढ़ी हुई हैं। चीनी हैकर्स एसबीआई के अकाउंट्स को हैक रुपया निकाल रहे हैं। जानकारी के अनुसार चीनी मूल के हैकर्स फि‍श‍िंग मेल के माध्‍यम से बैंक यूजर्स को निशाना बनाने का प्रयास कर रहे हैं। वास्‍तव में यह हैकर्स फिशिंग स्कैम के माध्‍यम से बैंक यूजर्स को निशाना बना रहे हैं।

हैकर्स की ओर से अकाउंट होल्‍डर्स को विशेष वेबसाइट लिंक का उपयोग करके अपना केवाईसी अपडेट कराने के लिए बोल रहे हैं। इसके बदले 50 लाख रुपए के फ्री गिफ्ट का ऑफर दिया जा रहा है। जिसके लिए साइबर सिक्‍योरिटी रिसर्चकर्ताओं ने एसबीआई कस्‍टमर्स के अलर्ट जारी किया है। एसबीआई की ओर से भी अपने कस्‍टमर्स को इस तरह के मेल से सावधान रखने को कहा गया है। एसबीआई ने कस्‍टमर्स से कहा है कि एक एसएमएस आपका अकाउंट पूरी तरह से खाली कर सकता है।

इस तरह से कस्‍टमर्स को फंसाते हैं हैकर्स : हैकर्स कस्‍टमर्स को सोशल मीडिया के जरिए निशाना बनाते हैं। हैकर्स वॉट्सऐप और एसएमएस के माध्‍यम से केवाईसी अपडेट करने को बोलते हैं। इसके लिए वो अपने मैसेज में एक लिंक भी भेज देते हैं। मैसेज में दिए गए लिंक पर क्लिक करते ही यूजर को एसबीआई की फेक वेबाइट से रिडायरेक्‍ट कर दिया जाता है। उसके बाद Continue to Login बटन पर क्लिक करते ही यूजर को एक दूसरे पेज पर भेजा जाता है। वहां कस्‍टमर्स को कैप्चा कोड के साथ यूजर नेम और पासवर्ड डालने को कहा जाता है। पूरी जानकारी डालने के साथ ही सीधा हैकर्स उसे कैप्‍चर कर लेते हैं। उसके बाद आपका बैंक अकाउंट पूरी तरह से खाली हो जाता है।

लाखों के गिफ्ट का देते हैं ऑफर : इसके अलावा कुछ एसएमएस और व्‍हॉट्सएप मैसेज आपको 50 लाख रुपए के गिफ्ट देने की बात करते हैं। एसबीआई और जानकारों की ओर से ऐसे ही स्‍कैम्‍स से बचने की सलाह दी जा रही है। साइबर पीस फाउंडेशन और ऑटोबूट इंफोसेक प्राइवेट लिमिटेड ने मिलकर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के नाम पर हो रही धोखाधड़ी पर स्टडी किया है। रिसर्च के अलुसार जिस वेबसाइट का लिंक कस्टमर्स को दिया जाता है वो सभी डोमेन नेम का रजिस्ट्रेशन देश चीन है।

Next Stories
1 क्‍या 20 जुलाई को खत्‍म होगा रिलायंस और अमेजन के बीच झगड़ा, सुप्रीम कोर्ट दे सकता है बड़ा फैसला
2 रतन टाटा की इस कंपनी ने रोज 225 से लोगों को दिया रोजगार, बनी देश की दूसरी सबसे बड़ी कंपनी
3 टीसीएस के प्रॉफिट पर कोरोना की दूसरी लहर का डंक, जानि‍ए कैसे आए आंकड़े
आज का राशिफल
X