ताज़ा खबर
 

सरकार को विश्वास- पटेल RBI प्रमुख की जिम्मेदारी बखूबी निभाएंगे, मुद्रास्फीति को काबू में रखेंगे

वित्त राज्यमंत्री संतोष कुमार गंगवार ने कहा, ‘मुझे भरोसा है कि पटेल अर्थव्यवस्था को सही दिशा में ले जाएंगे। हालांकि उनके पास अनुभव कम है लेकिन मुझे लगता है कि वह बखूबी अपना काम करेंगे।’

Author नई दिल्ली | Published on: August 22, 2016 2:42 PM
उर्जित पटेल (दाएं) के साथ आरबीआई के वर्तमान गवर्नर रघुराम राजन।(REUTERS/Danish Siddiqui/File Photo)

सरकार ने सोमवार (22 अगस्त) को उम्मीद जताई कि रिजर्व बैंक के नव नियुक्त गवर्नर उर्जित पटेल अपने नए पद की जिम्मेदारी सफलतापूर्वक निभाएंगे और मुद्रास्फीति तथा आर्थिक वृद्धि के बीच संतुलन साधने के लिए रिजर्व बैंक में मौद्रिक नीति से जुड़े अपने अनुभवों का बखूबी उपयोग करेंगे। पटेल इस समय भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के डिप्टी गवर्नर हैं और गवर्नर रघुराम राजन का कार्यकाल समाप्त होने पर केंद्रीय बैंक के प्रमुख का पदभार संभालेंगे। राजन का कार्यकाल चार सितंबर को पूरा हो रहा है। वित्त राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘उनके (पटेल) पास मौद्रिक नीति का अनुभव है, अत: उम्मीद है कि वह मुद्रास्फीति को नियंत्रित करेंगे।’ उन्होंने आगे कहा, ‘पटेल की नियुक्ति सही निर्णय है और देश हित में है।’

आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने पटेल को आरबीआई का 24वां गवर्नर नियुक्त किए जाने का स्वागत किया। वह स्वयं भी शीर्ष बैंक के गवर्नर पद के लिए उम्मीदवारों की सूची में शामिल थे। उन्होंने कहा, ‘मौद्रिक अर्थशास्त्र, मौद्रिक नीति व्यवस्था तथा अन्य क्षेत्रों में उनके अनुभव को देखते हुए, मुझे भरोसा है कि वह अपनी जिम्मेदारियों को बखूबी निभाएंगे और मौद्रिक नीति की जरूरतों और मुद्रास्फीति लक्ष्य को ध्यान में रखेंगे जिसे अब रिजर्व बैंक अधिनियम में जगह दी गयी है।’ सरकार ने दो प्रतिशत घट-बढ़ के साथ मुद्रास्फीति का लक्ष्य रखा है। जुलाई में उपभोक्ता कीमत सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति बढ़कर 6.07 प्रतिशत पर पहुंच गयी। रिजर्व बैंक की अगली मौद्रिक नीति समीक्षा चार अक्तूबर को होने वाली है।

शक्तिकांत दास ने कहा, ‘….वह वृद्धि की जरूरत को संतुलित रखने को भी ध्यान में रखेंगे जो वास्तव में संशोधित आरबीआई अधिनियम के तहत कानूनी जिम्मेदारी बन गयी है।’ उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक के गर्वनर का काम केवल मौद्रिक नीति नहीं है बल्कि केंद्रीय बैंक प्रमुख बैंकों तथा एनबीएफसी (गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी) के नियामक भी हैं। उन्होंने कहा, ‘इस भूमिका में वह वित्तीय क्षेत्र के सुचारू कामकाज को सुनिश्चित करेंगे और उन्हें विभिन्न क्षेत्रों खासकर कृषि एवं एमएसएमई क्षेत्रों की जरूरतों के लिए रिण प्रवाह के मामले को भी देखना है।’ वित्त राज्यमंत्री संतोष कुमार गंगवार ने उम्मीद जताई कि रिजर्व बैंक के गवर्नर के रूप में पटेल अच्छा काम करेंगे। उन्होंने कहा, ‘मुझे भरोसा है कि पटेल अर्थव्यवस्था को सही दिशा में ले जाएंगे। हालांकि उनके पास अनुभव कम है लेकिन मुझे लगता है कि वह बखूबी अपना काम करेंगे।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 वायदा बाजार में सोने का वायदा भाव 176 रुपए टूटा
2 RBI के पूर्व डिप्टी गवर्नर मोहन येल इंस्टीट्यूट में वरिष्ठ फेलो नामित
3 Reliance Jio 4G Sim: 90 दिन के अनलिमिटेड 4जी डाटा के साथ सिम की ओपन सेल, जानिए कैसे खरीदें
ये पढ़ा क्या?
X