scorecardresearch

महंगाई की मारः मई के पहले दिन बढ़े सिलेंडर के दाम; प्रियंका बोलीं- 6 साल में केंद्र ने तेल पर 250% तक बढ़ाई टैक्स वसूली

Excise Duty on Petrol- Diesel: केंद्र सरकार की ओर से नवंबर 2021 में एक्साइज ड्यूटी घटाने के बाद भी पेट्रोल पर 27.90 रुपए और डीजल पर 21.80 रुपए वसूले जा रहे हैं।

Petrol Diesel | Excise Duty | Priyanka Gandhi
केंद्र सरकार की ओर से पेट्रोल पर 27.90 रुपए की एक्साइज ड्यूटी वसूली जा रही है। (एक्सप्रेस फोटो: रवि कनौजिया)

मई के महीने की शुरुआत में ही देश में कमर्शियल गैस सिलेंडर के उपभोक्ताओं को बड़ा झटका लगा है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमतें बढ़ने के कारण तेल गैस वितरण कंपनियों की ओर से 19 किलो के कमर्शियल गैस सिलेंडर के दाम 2,252 बढ़ाकर 2,355.5 कर दिए गए है। इस बढ़ोतरी के बाद 5 किलो के एलपीजी सिलेंडर का दाम 655 रुपए तक पहुंच गया है।

दूसरी तरफ देश में पेट्रोल-डीजल के दाम अब तक के सबसे उच्चतम स्तर पर बने हुए हैं, जिस कारण लगातार बढ़ रही महंगाई से जनता का हाल बेहाल है। राजनीतिक पार्टियां के नेता बढ़े हुए पेट्रोल डीजल के दामों को लेकर एक-दूसरे को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। इसी बीच कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सोशल मीडिया पर एक ट्वीट किया है, जिसमें कहा गया है कि बीते 6 सालों के दौरान देश में केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी 250 फीसदी तक बढ़ाई है।

प्रियंका गांधी ने अपने इस ट्वीट में लिखा कि “मंहगाई का “म”, केंद्र सरकार ने 2014 -15 से 2020-21 के बीच पेट्रोल और डीजल पर टैक्स वसूली को 250 फीसदी तक बढ़ा दिया। 2014 में पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी मात्र 9.48 रुपए जबकि डीजल पर मात्र 3.56 रुपए वसूली जाती थी।”

250 फीसदी बढ़ी एक्साइज ड्यूटी: इसके साथ एक ग्राफिक्स भी शेयर किया गया था, जिसमें बताया गया था कि 2014 में पेट्रोल पर मात्र 9.48 रुपए और डीजल पर 3.56 रुपए केंद्र सरकार की ओर एक्साइज ड्यूटी वसूले जाते थे लेकिन 2015 में यह बढ़कर पेट्रोल पर 19.36 रुपए और डीजल पर 11.83 रुपए हो गई। वहीं, महामारी के समय एक्साइज ड्यूटी पेट्रोल 32.90 रुपए और डीजल पर 31.80 रुपए हो गई। इसके अलावा केंद्र सरकार की ओर से नवंबर 2021 में एक्साइज ड्यूटी घटाने के बावजूद भी पेट्रोल पर 27.90 रुपए और डीजल पर 21.80 रुपए वसूले जा रहे हैं।

कांग्रेस देवा दल ने किया “महंगाई मैराथन” का आयोजन: महंगाई पर अपना विरोध दर्ज कराने के लिए कांग्रेस सेवा दल की ओर से इंदौर में “महंगाई मैराथन” का आयोजन कर सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया गया। कांग्रेस नेताओं की ओर से बताया गया कि “महंगाई मैराथन” में विजेताओं को इनाम के तौर पर पेट्रोल, सोयाबीन तेल और नींबू दिए गए हैं।

कांग्रेस सेवा दल के नेता मुकेश यादव ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि “हमने महंगाई मैराथन में युवक और युवती, दोनों वर्ग के प्रथम पुरस्कार विजेताओं को 10-10 लीटर पेट्रोल, द्वितीय पुरस्कार विजेताओं को 5-5 लीटर सोयाबीन और तृतीय पुरस्कार विजेताओं को एक-एक किलोग्राम नींबू प्रदान किए”

पढें व्यापार (Business News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

X