ताज़ा खबर
 

Tata Vs Ford: 3 लाख के बजट में मिल जाएगी टाटा या फोर्ड की कार, ये है डील की डिटेल

अगर आपको कार खरीदने में दिलचस्पी है तो सेकेंड हैंड व्हीकल बेचने वाले प्लेटफॉर्म ड्रूम पर विजिट करना होगा। इस प्लेटफॉर्म पर आप एक टोकन अमाउंट देकर कार के सेलर्स से संपर्क कर सकते हैं।

tata, ford figo, tata car3 लाख रुपये तक के बजट में मिल रही हैं। (Photo-Droom)

देश की कई ऐसी ऑटोमेकर कंपनियां हैं, जिसकी कार 5 लाख रुपये के बजट में मिल जाएंगी। हालांकि, कई लोगों के पास इतना बजट भी नहीं होता है तो ऐसे में लोग सेकेंड हैंड कार खरीदना पसंद करते हैं। आज हम आपको दो ऐसी कारों के बारे में बताएंगे, जो 3 लाख रुपये तक के बजट में मिल रही हैं। ये कार टाटा और फोर्ड की हैं।

फोर्ड की कार 2 लाख से भी कम मेंः सेकेंड हैंड कार बेचने वाले प्लेटफॉर्म ड्रूम पर 2010 मॉडल के Ford Figo 1.2P TITANIUM MT कार की कीमत 1 लाख 90 हजार रुपये है। इस कार को पहले ओनर द्वारा बेचा जा रहा है। ये हचबैक कार 41 हजार किलोमीटर चल चुकी है। इस कार की माइलेज 18.16kmpl है। कार का इंजन 1196 सीसी, मैक्स पावर 86.8bhp और व्हील साइज 14 Inch है। इसी तरह की एक कार टाटा Indigo LS है। 2012 मॉडल की टाटा कार 80 हजार किलोमीटर तक चल चुकी है। (ये भी पढ़ेंः भारत की टॉप 5 CNG को जो दिलाएंगी पेट्रोल के बढ़ते दाम से आजादी)

इसे मुंबई में पहले ओनर द्वारा बेचा जा रहा है। इस कार की माइलेज 12.54 kmpl है। कार का इंजन 1405 cc, मैक्स पावर 70bhp और व्हील साइज 14 Inch है।

कहां मिलेगी ये कारः अगर आपको कार खरीदने में दिलचस्पी है तो सेकेंड हैंड व्हीकल बेचने वाले प्लेटफॉर्म ड्रूम पर विजिट करना होगा। इस प्लेटफॉर्म पर आप एक टोकन अमाउंट देकर कार के सेलर्स से संपर्क कर सकते हैं। सेकेंड हैंड कार को खरीदते समय डॉक्युमेंट, इंश्योरेंस समेत अन्य जरूरी जानकारियां लेना जरूरी है। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो परेशानी में पड़ सकते हैं। इसके अलावा टेस्ट ड्राइव कर लेना चाहिए। (ये भी पढ़ेंः Datsun Redi-GO कार पर मिल रही 33 हजार रुपये तक की छूट, कीमत 4 लाख से भी कम)

फोर्ड और टाटा के बीच का मशहूर किस्साः टाटा और फोर्ड, इन दोनों कंपनियों के बीच का एक किस्सा काफी मशहूर है। दरअसल, फोर्ड अमेरिका की कंपनी है। इस कंपनी को टाटा अपने कारोबार को बेचना चाहती थी, इसी संबंध में टाटा मोटर्स के मुखिया रतन टाटा अमेरिका गए थे। अमेरिका में फोर्ड के अधिकारियों की ओर से रतन टाटा का मजाक उड़ाने की कोशिश की गई।

इससे आहत रतन टाटा ने डील को कैंसिल कर दिया। इसके कुछ सालों बाद रतन टाटा ने फोर्ड के जगुआर का अधिग्रहण कर अपने अपमान का सांकेतिक बदला भी ले लिया। हालांकि, रतन टाटा ने इसके बारे में कभी न तो जिक्र किया और न ही एहसास दिलाया। आज जगुआर, भारत के टाटा मोटर्स के स्वामित्व वाली कंपनी है।

Next Stories
1 Maruti Brezza: सिर्फ 6 लाख रुपये में ले जाएं घर, यहां है डील की डिटेल
2 7 दिनों की मनीबैक गारंटी के साथ 24 हजार में खरीदें, 73 हजार रुपये वाला TVS Jupiter, पढ़ें पूरा ऑफर
3 26 हजार में एक साल की वारंटी के साथ खरीदें, 55 हजार रुपये वाली Bajaj CT100, जानिए पूरा ऑफर
यह पढ़ा क्या?
X