ताज़ा खबर
 

क्रैश टेस्‍ट में ब्राजील से भी कमजोर न‍िकली भारत में ब‍िकने वाली रेनॉ क्‍व‍िड

ब्राजील में सख्त सुरक्षा और दुर्घटना संरक्षण कानूनों को देखते हुए इसका चेसिस मजबूत बनाया गया है।

2014 में ब्राजील सरकार ने सभी पैसेंजर वाहनों में फ्रंट एयरबैग और एबीएस (एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम) को जरूरी कर दिया था।

रेनॉ क्विड के लिए 2017 के लैटिन एनसीएपी के सातवें दौर के परिणाम जारी कर दिए गए हैं। कैश टेस्ट में ब्राजील में बिकने वाली रेनॉ क्विड को 3 स्टार मिले हैं। इसमें साबित हो गया है कि ब्राजील में बिकने वाली रेनॉ क्विड भारत में बिकने वाली क्विड से बेहतर है। पिछली बार हुए क्रैश टेस्ट में रेनॉ क्विड को जीरो स्टार रेटिंग मिली थी। रेनॉ क्विड को केवल ब्राजील और भारत में ही बनाती है। क्रैश टेस्ट में कार की सुरक्षा को परखा जाता है। इसमें गाड़ी के अंदर आदमी की तरह के पुतले बिठाए जाते हैं। इसके बाद गाड़ी का एक्सीडेंट किया जाता है। इसमें यह देखा जाता है कि गाड़ी के अंदर बैठे पुतलों को कितना नुकसान हुआ है। इसके बाद ही गाड़ी की सुरक्षा को लेकर उसे रेटिंग दी जाती है।

लैटिन एनसीएपी के महासचिव अलेजैंड्रो फुरास ने कहा कि यह अच्छा है कि निर्माताओं ने कितनी जल्दी इसमें सुधार किया है। पिछली बार इंडियन क्विड का ग्लोबल एनसीएपी ने टेस्ट किया था, जिसमें इसे जीरो रेटिंग मिली थी। ब्राजील में बिकने वाली रेनॉ क्विड भारत में बिकने वाली क्विड से 140 किलो ज्यादा वजनी है। ब्राजील में सख्त सुरक्षा और दुर्घटना संरक्षण कानूनों को देखते हुए इसका चेसिस मजबूत बनाया गया है।

2014 में ब्राजील सरकार ने सभी पैसेंजर वाहनों में फ्रंट एयरबैग और एबीएस (एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम) को जरूरी कर दिया था। रेनॉ टेक्नोलॉजी अमेरिका (आरटीए) ने ब्राजील में बिकने वाली क्विड पर बड़े पैमाने पर काम किया ताकि एनसीएपी क्रैश टेस्ट के नियमों को पूरा कर सके। ग्लोबल एनसीएपी के सेक्रेटरी डेविड वार्ड ने कहा कि ब्राजील में बनाया जा रहा नया मॉडल भारत में बिक रहे मॉडल की तुलना में ज्यादा सुरक्षित है, लेकिन बड़ी बात तो ये है कि रेनॉ ने क्विड को शुरू से ही बेहतर क्यों नहीं बनाया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App