ताज़ा खबर
 

गाड़ियों पर गा​य के गोबर पोतने का बढ़ा चलन! अब पुणे के डॉक्टर ने Mahindra XUV500 के साथ किया ये कारनामा

गाय के गोबर से ढकी हुई इस Mahindra XUV500 की तस्वीरें इस समय इंटरनेट पर वायरल हो रही हैं। मुंबई के टाटा कैंसर हॉस्पिटल में बतौर सीनियर डॉक्टर तैनात डा. नवनाथ ने अपनी इस एसयूवी को गर्मी से बचाने के लिए गाय के गोबर से ढक दिया है।

Author Published on: June 3, 2019 5:45 PM
ये Mahindra XUV500 के पहले जेनरेशन की गाड़ी है। (Photo- SakalTimes)

देश भर में गर्मी का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है, कहीं पारा 47 डिग्री है तो कहीं अर्धशतक तक लग चुका है। ऐसे में इस भीषण गर्मी से बचने के लिए लोग नित नए प्रयोग भी कर रहे हैं। हाल ही में अहमदाबाद की एक महिला ने अपनी लाखों की Toyota Corolla Altis पर गाय के गोबर का लेप लगाया था। अब ये ट्रेंड बनता जा रहा है, अब पुणे के एक सीनियर डॉक्टर ने अपनी Mahindra XUV500 पर गाय के गोबर लेप लगाया है।

गाय के गोबर से ढकी हुई ये महिंद्रा एक्सयूवी 500 की तस्वीरें इस समय इंटरनेट पर वायरल हो रही हैं। इस तस्वीर में पुणे के डॉ. नवनाथ दुधल अपनी इस एसयूवी के साथ खड़े हैं। डॉ. नवनाथ का मानना है कि ऐसा करने से उनको गाड़ी में एसी का कम से कम प्रयोग करना पड़ रहा है इससे गाड़ी सामान्य तौर पर कम गर्म हो रही है।

बता दें कि, ये Mahindra XUV500 का पहला जेनरेशन है जिसकी बॉडी पर गाय का गोबर लगाया गया है। इस गाड़ी पर गोबर के तीन लेयर को लगाया गया है और एसयूवी के ग्लॉस एरिया को छोड़कर पूरी बॉडी को गोबर से कवर किया गया है। डॉ. नवनाथ का मानना है कि गाय गोबर को लगाए जाने के बाद सूर्य की रोशनी सीधे गाड़ी की बॉडी पर नहीं पड़ती है। जिससे इसके भीतर का तापमान सामान्यत: 5 से 7 डिग्री तक कम रहता है।

इसके अलावा जब आप इसे हटाना चाहते हैं तो पानी और कॉटन के कपड़े से इसे आसानी से साफ किया जा सकता है। गोबर का गाड़ी के पेंट पर कोई भी बुरा प्रभाव नहीं दिखेगा। बता दें कि, डा. नवनाथ मुंबई के टाटा कैंसर हॉस्पिटल में सीनियर डॉक्टर हैं। उनका दावा है कि ये विचार उनके दिमाग में इसलिए आया क्योंकि वो नियमित रूप से कैंसर रोगियों के लिए गोमूत्र के लाभ का अध्ययन करते रहते हैं।

हालांकि वैज्ञानिक तौर पर अभी तक इस बात की कोई पुष्टी नहीं की गई है कि, क्या वास्तव में गाय का गोबर कार को भीतर से ठंडा रख सकता है। लेकिन हम इस बात से भी इंकार नहीं कर सकते हैं कि, हमारे देश में ये बहुत ही पुराना चलन रहा है जब गांव में लोग अपनी घर की कच्ची दीवारों, फर्श यहां तक की छत तक को भी गाय के गोबर से लीपने (लेयर बनाने की प्रक्रिया) का काम करते रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 नहीं टूटेगा इंडियन आर्मी से Maruti Gypsy का दशकों पुराना नाता! कंपनी फिर से करेगी सप्लाई
2 महज 1.25 लाख रुपये की शुरूआती कीमत में Maruti दे रही है Wagon R और Swift Dzire जैसी कारें, जानिए कैसे खरीदें
3 Maruti Baleno ने छूआ 6 लाख का आंकड़ा! इन वजहों से लोग कर रहे हैं पसंद